GMCET: मीडिया स्टूडेंट्स के लिए पहला Common Entrance Test, 30+ विदेशी विश्वविद्यालयों में प्रवेश का मौका

By रविकांत पारीक
June 28, 2022, Updated on : Tue Jun 28 2022 06:02:00 GMT+0000
GMCET: मीडिया स्टूडेंट्स के लिए पहला Common Entrance Test, 30+ विदेशी विश्वविद्यालयों में प्रवेश का मौका
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

आगामी Global Media Common Entrance Test - GMCET 2022, जोकि मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र के उम्मीदवारों के लिए दक्षिण एशिया का पहला क्षेत्रीय स्तर ‘कॉमन एंट्रेंस टेस्ट’ (Common Entrance Test) है, इस टेस्ट में बैठने वाले उम्मीदवारों के लिए 30+ विश्व स्तरीय विश्वविद्यालयों में एडमिशन के रास्ते खुल जाते हैं. इसी के साथ उम्मीदवार अपना परिणाम दिखाकर ‘ग्रेजुएश्न लेवल’ के मास कम्यूनिकेशन और मीडिया से संबंधित कोर्सों में प्रवेश ले सकते हैं. GMCET 2022, ‘अंडरग्रेजुएट मीडिया’ (undergraduate level) उम्मीदवारों के लिए आवेदन जारी है, जोकि 10 जुलाई 2022 को होगा.


GMCET, छात्रों को अधिकतम अवसर देने के लिए चरणों में आयोजित किया जाएगा, जिसमें अगली परीक्षा 24 जुलाई, 7 अगस्त, 21 अगस्त, 4 सितंबर, 18 सितंबर आदि की तारीखों के लिए निर्धारित की गई है.

1st-global-media-common-entrance-test-media-aspirants-july-10-mass-communication-journalism

इन पाठ्यक्रमों में BA-JMC और BJMC, BMS (Bachelor of Media Studies), BMC (Bachelor of Mass Communication), BMM (Bachelor of Mass Media), BA (Media and Communication), BSc (Animation & Graphics), और BSc (Media Technologies) डिग्री प्रोग्राम शामिल हैं.


कुछ सहयोगी विश्वविद्यालयों में Sharda University, Alliance University, National School of Journalism, Noida International University, Auro University, Presidency University, GITAM University, LNCT University, Ajeenkya D.Y. Patil University, Mody University, Jagran Lakecity University, NSHM Knowledge Campus, Centurion University, Vivekananda Global University, Invertis University, Bahra University और भारत के कई अन्य और प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय शामिल हैं.

5000+ रजिस्ट्रेशन होने की उम्मीद

शिक्षा मंत्रालय (Ministry of Education) के अनुसार, 2020 में पत्रकारिता और जनसंचार (journalism and mass communication) में ग्रेजुएश्न लेवल पर नामांकन 29,758 था - जो डिजाइन, फैशन टेक्नॉलॉजी और भाषा विज्ञान जैसे विषयों में नामांकन से अधिक है. 2019-2020 का All India Survey on Higher Education (AISHE) यह दर्शाता है कि ग्रेजुएश्न स्तर पर छात्रों की सबसे अधिक संख्या 32.7%, ‘आर्टस्’ / ‘ह्यूमैनिटी’ / ‘सोशल साइंस’ में नामांकित है, इसके बाद 16%, विज्ञान, 14.9% कॉमर्स में और 12.6%, इंजीनियरिंग और टेक्नॉलॉजी में है. यह आंकड़े भारत में मीडिया और कम्युनिकेशन कोर्स की व्यापक लोकप्रियता को दर्शाते हैं.


इस इंडस्ट्री से जुड़े रोमांच और गौरव के कारण, 12वीं कक्षा के बाद यह छात्रों के लिए एक स्मार्ट करियर विकल्प बन गया है. हालांकि, छात्र अक्सर इस असमंजस में रहते हैं कि पत्रकारिता और ‘मास मीडिया कम्युनिकेशन’ के लिए कौन सा विश्वविद्यालय का चयन करना उनके लिए ठीक रहेगा. इसी प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, GMCET छात्रों को एक ऐसा अंक प्रदान करता है जिसे भारत के कई विश्वविद्यालय स्वीकार कर एडमिशन के समय उन छात्रों को प्राथमिकता देते हैं.

1st-global-media-common-entrance-test-media-aspirants-july-10-mass-communication-journalism

सांकेतिक चित्र

जरूरी योग्यता

GMCET छात्रों को उनके ‘कम्युनिकेशन स्किल्स’, आवश्यक ‘एनालिटिक्स’ और ‘लॉजिकल रीजनिंग’ पर मूल्यांकन करता है. यह कुल 100 अंकों का पेपर होता है, जिसमें दिए गए विषयों में से हर एक विषय से 25 अंक का प्रश्न पूछा जाता है. इन विषयों में अंग्रेजी भाषा और आईक्यू, समाचार और ‘करेंट अफेयर्स’ से सामान्य ज्ञान, मनोरंजन मीडिया ज्ञान और ब्रांड और बुनियादी ब्रांड संचार ज्ञान शामिल है. परीक्षा ऑनलाइन मोड से आयोजित की जाती है और उम्मीदवार अपने घर से भी इस परीक्षा को दे सकता है.


GMCET परीक्षा देने के लिए एक उम्मीदवार का उच्च माध्यमिक (10 + 2) पास होना जरुरी है. इसी के साथ ही उम्मीदवार अगर सामान्य श्रेणी से है, तब उसके न्यूनतम 50% और अगर एससी / एसटी / ओबीसी कैटेगरी से है तब उसके न्यूनतम 45% अंक होने अनिवार्य है. इससे कम अंक प्राप्त उम्मीदवारों को GMCET परीक्षा नहीं दे सकते हैं.


मीडिया इंडस्ट्री के विश्वाविद्यालयों में प्रवेश लेने के इच्छुक उम्मीदवारों का मूल्यांकन करने के लिए GMCET, ‘ग्लोबल मीडिया एजुकेशन काउंसिल’ (Global Media Education Council - GMEC) की एक अनूठी पहल है. यह परीक्षा दक्षिण एशिया के सबसे बड़े शिक्षा केंद्रित मंच ‘edInbox’ द्वारा संचालित की जाती है. GMCET वास्तव में मीडिया और कम्युनिकेशन क्षेत्र में एकमात्र बड़े पैमाने की प्रवेश परीक्षा है, जिसमें कई विश्वविद्यालयों ने इसकी सदस्यता ली हुई है.


प्रो. उज्ज्वल के चौधरी, सचिव, GMEC और GMCET ने कहा, “हमें यह घोषणा करते हुए खुशी हो रही है कि GMCET पूरे भारत में तीस से अधिक विश्वविद्यालयों के लिए सिंगल एंट्रेंस एग्जाम है. भारत ‘बड्डिंग कम्युनिकेटर’ का केंद्र है. केवल एक परीक्षा पास करने से आप अपनी पसंद के विश्वविद्यालय के लिए योग्य हो सकते हैं. और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अब आपको हर विश्वविद्यालय के लिए अलग-अलग फॉर्म भरने की जरूरत नहीं है, अगर आप मास कम्युनिकेशन कोर्स करना चाहते हैं.”

करियर को मिलेगी नई दिशा

UGC-अप्रूव्ड यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म और मास कम्यूनिकेशन में डिग्री हासिल करना भविष्य के लिए कई अवसरों को खोल सकती है- पत्रकार, ‘कॉलमनिस्ट’ या रिपोर्टर, फोटो जर्नलिस्ट, ‘इलस्ट्रेटर’, जनसंपर्क अधिकारी, फीचर लेखक, टीवी संवाददाता, कंटेंट निर्माता, वीडियो जॉकी, रेडियो जॉकी, समाचार विश्लेषक और विज्ञापन पेशेवर. ग्रेजुएश्न हासिल कर उम्मीदवार टीवी प्रोड्कशन या निर्देशन, फिल्म निर्माण, मार्केटिंग संचार, कॉपी और स्क्रिप्ट लेखन और इवेंट मैनेजमेंट और मीडिया प्लानिंग जैसे क्षेत्रों में भी अपना एक सफल करियर तलाश कर सकते हैं.


अप्लाई करने की आखिरी तारीख 9 जुलाई है और परीक्षा की तारीख 10 जुलाई है. आवेदन शुल्क रुपये 1000/- है. आवेदन पत्र और अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट पर जा सकते हैं.