2024 तक क्रिप्टो खरीदने की योजना बना रही है इस देश की 30% आबादी

By रविकांत पारीक
October 10, 2022, Updated on : Mon Oct 10 2022 09:08:18 GMT+0000
2024 तक क्रिप्टो खरीदने की योजना बना रही है इस देश की 30% आबादी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Ontario Securities Commission (OSC) के सीईओ, ग्रांट विंगो (Grant Vingoe) ने क्रिप्टोकरेंसी पर नियामक (regulator) के टेक्नोलॉजी-न्यूट्रल रुख को बहाल करते हुए भविष्यवाणी की कि निकट भविष्य में कनाडा की बड़ी आबादी के पास क्रिप्टोकरेंसी होगी.


कॉइनटेलीग्राफ की एक रिपोर्ट के मुताबिक़, विंगो ने बीते 6 अक्टूबर को कनाडा के इकोनॉमिक क्लब के साथ एक मुख्य वार्ता में कहा कि स्टॉक और बॉन्ड की नियामक नींव क्रिप्टो अनुबंधों पर समान रूप से लागू होती है, जिसमें "क्रिप्टो-आधारित व्यवसायों का विशाल बहुमत" ओएससी के अधिकार के अंतर्गत आता है. ओएससी प्रमुख ने कहा कि नियामक ने बिटकॉइन को मुख्य रूप से एक वस्तु माना है, जबकि "व्यवस्था जो कि ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म में निवेशकों के साथ है" प्रतिभूतियों का गठन किया.


उन्होंने कहा कि डिजिटल एसेट एक्सचेंज QuadrigaCX के पतन का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि बैंकिंग सिस्टम के साथ बढ़ते क्रिप्टो बाजार का अंतर्संबंध चिंता का स्रोत हो सकता है, "हम अपने स्वयं के शोध (इस महीने के अंत में प्रकाशित किया जा रहा है) से जानते हैं कि 30% से अधिक कनाडा के लोगों ने अगले वर्ष क्रिप्टो एसेट्स खरीदने की योजना बनाई है. ऐसे में गैर-अनुपालन फर्मों को कनाडा में सेवाएं प्रदान करने से रोकना एक चुनौती है. हमारे पूरे पूंजी बाजार को कवर करने के लिए सीमित बजट और सीमित प्रवर्तन कर्मचारियों के साथ, हम इतना ही कर सकते हैं. लेकिन हम प्रगति कर रहे हैं."


कॉइनटेलीग्राफ ने आगे बताया कि कनाडा स्थित एजेंसी ने प्रतिभूति नियमों के उल्लंघन और अपंजीकृत क्रिप्टो एसेट ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म के संचालन का हवाला देते हुए क्रिप्टोकरेंसी स्टार्टअप Bybit और KuCoin के खिलाफ प्रवर्तन प्रक्रियाएं दायर की हैं. 15 अगस्त तक, Fidelity Digital Assets, Newton Crypto, और Bitbuy सहित नौ कंपनियों की पहचान ओएससी के साथ पंजीकृत क्रिप्टो व्यवसायों के रूप में की गई थी.


आपको बता दें कि युनाइटेड नेशंस की व्यापार एवं विकास संस्था UNCTAD ने इसी साल अगस्त महीने में जारी अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि साल 2021 में क्रिप्टोकरेंसी रखने वाली आबादी की हिस्सेदारी के लिहाज से 20 शीर्ष अर्थव्यवस्थाओं में से 15 विकसित देशों की अर्थव्यवस्थाएं थीं. इस सूची में 12.7 फीसदी के साथ यूक्रेन शीर्ष पर है. इसके बाद रूस (11.9 फीसदी), वेनेजुएला (10.3 फीसदी), सिंगापुर (9.4 फीसदी), केन्या (8.5 फीसदी) और अमेरिका (8.3 है) हैं. भारत में 2021 में कुल आबादी में से 7.3 फीसदी लोगों के पास क्रिप्टोकरेंसी थी और इस सूची में उसका स्थान सातवां है.


हाल ही में बीते 14 सितंबर को Chainalysis ने साल 2022 में ग्लोबल क्रिप्टोकरेंसी एडॉप्शन (Global Cryptocurrency Adoption for 2022) पर एक रिसर्च रिपोर्ट प्रकाशित की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, वियतनाम में क्रिप्टोकरेंसी को सबसे ज्यादा अपनाया गया है, यानि कि यह क्रिप्टो को अपनाने में पहले स्थान पर है. फिलीपींस और यूक्रेन क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं. और संयुक्त राज्य अमेरिका पांचवें स्थान पर रहा है.