'स्वयं' एप की मदद से करें घर बैठे अधूरी पढ़ाई पूरी

By मन्शेष null
June 13, 2017, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:16:30 GMT+0000
'स्वयं' एप की मदद से करें घर बैठे अधूरी पढ़ाई पूरी
इस एप पर आप जो भी कोर्स करेंगे, उसके लिए आपको सर्टिफिकेट दिया जायेगा। ये सर्टिफिकेट न सिर्फ आप किसी शिक्षण संस्‍थान में दिखा सकते हैं, बल्कि किसी भी नौकरी के आवेदन के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

यूथ्स और शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सरकार लगातार कदम उठा रही है। जिसका सबसे बड़ा उदाहरण है 'स्वयं एप'। सरकार द्वारा एक ऑनलाइन पोर्टल की शुरुआत की गई है, जिससे किसी भी कारण से पढ़ाई से वंचित छात्र पढ़ाई जारी रख सकते हैं। इस पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन पढ़ाई की जा सकेगी। इस योजना की खास बात ये है कि ये पढ़ाई नि:शुल्क होगी यानी इसके लिए छात्रों को कोई शुल्क अदा नहीं करना होगा।

image


अब आप अपने पसंदीदा कोर्स की ऑनलाइन पढ़ाई जारी रख सकते हैं, क्योंकि swayam.gov.in नामक इस पोर्टल पर छात्र मैनेजमेंट कोर्सेज समेत किसी भी विषय की पढ़ाई आसानी से कर सकते हैं।

swayam.gov.in या स्वयं एप की मदद से मैनेजमेंट स्टडीज, अंडर-ग्रेजुएट विषय, इंजीनियरिंग, पोस्ट ग्रेजुएट विषय पढ़े जा सकेंगे। साथ ही स्कूल एजुकेशन के सभी विषय भी उपलब्ध होंगे। पाठ्यक्रमों को पास करने के बाद सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इसका उपयोग किसी भी यूनिवर्सिटी और सरकारी ऑफिस में मान्य होगा। पोर्टल पर जितने भी मैनेजमेंट कोर्सेज हैं, वो इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट बेंगलुरु करवा रहा है। इस योजना के तहत एनपीटीईएल की तरफ से इंजीनियरिंग कोर्सेज करवाए जा रहे हैं। पीजी कोर्सेज को यूजीसी, यूजी कोर्सेज को सीईसी, स्कूल से जुड़े कोर्सेज को एनसीईआरटी और मैनेजमेंट स्टडीज कोर्सेज को आईआईएमबी करवा रहा है। इग्नू की तरफ से भी यहां कोर्सेज कराए जाएंगे।

ये भी पढ़ें,

कबाड़ी की दरियादिली: गरीब बच्चों के लिए बना डाली 25 हजार किताबों वाली लाइब्रेरी

यदि आप ग्रेजुएशन कर चुके हैं लेकिन मनमाफिक कोर्स नहीं चुन पाए थे तो अब जानकारों से पूछ कर उसकी पढ़ाई शुरू कर सकते हैं और सबसे अच्छी बात ये है कि आपको इसके लिए कहीं जाने की जरूरत नहीं है, आप अपना काम करते हुए पढ़ाई जारी रख सकते हैं। इस एप से एक बड़ा फायदा दिव्यांगों और किसी तरह की बीमारी से पीड़ितों को भी होगा, उन्हें अब कॉलेज जाने की मशक्कत नहीं करनी पड़ेगी। आराम से घर बैठे पढ़ा लिखा जा सकेगा।

पोर्टल एक, फायदे अनेक

अगर आप हाउसवाइफ हैं या फिर आप अपने बिजनेस को संभालने में व्‍यस्‍त हैं, लेकिन आपके मन में किसी खास कोर्स को करने की इच्‍छा है, तो अब आप इस एप की मदद से वो कोर्स कर सकते हैं। वहीं, अगर आप इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने की तैयारी में हैं, तो NPTEL की तरफ से यहां कोर्सेज कंडक्‍ट किए जाते हैं। NPTEL भी सरकार का एक उपक्रम है, जहां के कोर्स भी इस एप पर उपलब्ध हैं। मोदी सरकार के इस पोर्टल पर आप किसी भी फील्‍ड का कोर्स चुन सकते हैं। आपका परिवार किसी गहरे संकट में आ गया था और आपको अपनी पढ़ाई स्कूल के बाद छोड़नी पड़ी थी, तो यहां से आप एक लंबे गैप के बाद ग्रेजुएशन भी कर सकते हैं।

कैसे शुरू करें अपनी पढ़ाई?

इसके लिए सबसे पहले आपको पोर्टल पर खुद को रजिस्‍टर करना होगा। रजिस्‍टर करने के बाद आप वो कोर्स साइट पर सर्च कर सकते हैं, जो आप करना चाहते हैं। कोर्स मिलने के बाद उसमें आप एनरॉल हो सकते हैं। इस पोर्टल पर चलने वाले कई कोर्सेज 1 से 2 महीने के या फिर कुछ हफ्तों के लिए ही कंडक्‍ट किए जाते हैं, इसलिए समय पर एनरॉल करना जरूरी है। एकबार जब आप किसी कोर्स में एनरॉल हो जाते हैं, तो फिर आपकी पढ़ाई शुरू हो जाती है। यहां आप वीडियो, टेक्‍स्‍ट मटीरियल व अन्‍य प्रोजेक्‍ट्स के माध्‍यम से कोर्स की पढ़ाई कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें,

आराधना धूप: एक ग्रामीण स्टार्टअप की प्रेरक कहानी

इस पोर्टल पर आप जो भी कोर्स करेंगे, उसके लिए आपको सर्टिफिकेट दिया जायेगा। ये सर्टिफिकेट न सिर्फ आप किसी शिक्षण संस्‍थान में दिखा सकते हैं, बल्कि किसी भी नौकरी के आवेदन के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

दिल्‍ली यूनिवर्सिटी और देश की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटीज के प्रोफेसर्स इन कोर्सेज को कंडक्‍ट करते हैं। इनसे आपको बेहतर और बेस्‍ट स्‍टडी मटीरियल मिल जाएगा। कोर्स के दौरान आपको कई असाइनमेंट्स दिए जाएंगे, जो आपको पूरे करने होंगे। इन्‍हें पूरा करने के बाद और कोर्स को सफलतापूर्व पूरा करने के बाद आप सर्टिफिकेट के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

दरअसल ये सर्टिफिकेट दिल्ली यूनिवर्सिटी समेत अन्‍य संस्‍थानों की तरफ से कोर्स और इससे जुड़े असाइनमेंट पूरे करने के लिए आपको दिया जाता है। इस पोर्टल पर आपको कोर्स करना फ्री है, लेकिन अगर आप किसी कोर्स के लिए सर्टिफिकेट भी चाहते हैं, तो इसके लिए आपको फीस देनी होगी। यह फीस हर कोर्स के लिए अलग-अलग है।

ये भी पढ़ें,

'मशरूम लेडी' दिव्या ने खुद के बूते बनाई कंपनी