ग्राहक अब ओला, उबर गूगल सर्च पर भी बुक सकेंगे

By PTI Bhasha
October 19, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:15 GMT+0000
ग्राहक अब ओला, उबर गूगल सर्च पर भी बुक सकेंगे
हालांकि, बुकिंग कंपनियों के एप के जरिए ही होगी। अगर ग्राहक के डिवाइस में ओला या उबर का एप नहीं है तो गूगल सर्च एप इंस्टाल का लिंक भी उपलब्ध कराएगी।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अब गूगल सर्च के जरिए भी ओला व उबर की टैक्सी बुक की जा सकती है। गूगल ने एक बयान में यह जानकारी दी है। इसके अनुसार, देश भर में यात्री गूगल सर्च के जरिए कैब बुक कर सकते हैं। कंपनी गूगल सर्च में उबर व ओला कैब बुक करने का विकल्प देगी, जिसमें आसपास कार उपलब्ध होने पर अनुमानित किराए का भी जिक्र होगा। 

image


बुकिंग कंपनियों के एप के जरिए ही होगी। अगर ग्राहक के डिवाइस में ओला या उबर का एप नहीं है तो गूगल सर्च एप इंस्टाल का लिंक भी उपलब्ध कराएगी। उल्लेखनीय है कि इसी साल गूगल ने यह सेवा गूगल मैप्स पर उपलब्ध कराई थी।

उधर ओला की तरफ से एक और बड़ी खबर है, कि ओला 50 लाख चालक उद्यमियों को कौशल प्रशिक्षण मुहैया कराएगी

एप्प आधारित टैक्सी सेवा प्रदाता ओला देश भर में 2022 तक 50 लाख चालक उद्यमियों को कौशल प्रदान करेगी और इसके लिए अन्य संगठनों के साथ मिल कर बकायदा आधुनिक प्रशिक्षण केंद्र बनाए जा रहे हैं।

ओला की एक विज्ञप्ति के मुताबिक ओला के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) भाविश अग्रवाल ने इस तरह के पहले अत्याधुनिक प्रशिक्षण केंद्र का कल बिहार में छपरा में उद्घाटन करते हुए यह घोषणा की विज्ञप्ति के अनुसार छपरा का केंद्र राईज इंडिया, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) और ओला की साझेदारी में चालक उद्यमियों को प्रशिक्षण प्रदान करने के लिये छपरा में शुरू किया गया है।

इस मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और पोत परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री राजीव प्रताप रूडी तथा बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव मौजूद थे। 

अग्रवाल ने कहा, ‘प्रधानमंत्री के स्किल इंडिया अभियानों के साथ जुड़ना ओला के लिए गर्व की बात है। हमारा मानना है कि कौशल विकास युवा भारत को आजीविका के अवसर उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। 

बयान के अनुसार ओला ने पिछले पांच साल में पांच लाख से अधिक कुशल चालक साझेदारों को अपने मंच पर शामिल किया है। 

कंपनी का मानना है कि प्रौद्योगिकी तथा नवप्रवर्तन दो महत्वपूर्ण कारक हैं जो उद्योग जगत के विकास में योगदान दे सकते हैं।

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close