आधार ने असम में लापता दिव्यांग महिला को उसके परिवार से मिलाया

असम पुलिस ने इसे सोनितपुर जिले के उसके खानमुख गांव से लगभग 165 किलोमीटर दूर कामरूप जिले में सोनापुर न्यू मार्केट में बेघर भटकते हुए पाया और उसके आधार संख्या का उपयोग करके उसके घर के पते के बारे में जानकारी जुटाई गई.

आधार ने असम में लापता दिव्यांग महिला को उसके परिवार से मिलाया

Saturday July 22, 2023,

2 min Read

आधार ने एक बार फिर एक परिवार को एकजुट करने का काम किया है. इस बार, असम में एक दिव्यांग महिला कई हफ्तों तक अपने घर से गायब रहने के बाद फिर से परिवार से मिल गई.

यह महिला बोलने और सुनने में अक्षम है और संवाद करने में असमर्थ है. असम पुलिस ने इसे सोनितपुर जिले के उसके खानमुख गांव से लगभग 165 किलोमीटर दूर कामरूप जिले में सोनापुर न्यू मार्केट में बेघर भटकते हुए पाया और उसके आधार संख्या का उपयोग करके उसके घर के पते के बारे में जानकारी जुटाई गई.

पुलिस ने उस महिला को सखी वन स्टॉप सेंटर में भेजा जो एक गैर सरकारी संगठन है. यह संगठन भारत सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की मिशन शक्ति की संबल उप-योजना के तहत महिलाओं को मनोसामाजिक परामर्श और अस्थायी आश्रय प्रदान करता है. जब लेखन और सांकेतिक भाषा के माध्यम से संचार स्थापित नहीं किया जा सका, तो उसे तस्वीरें दिखाई गईं और उसने आधार कार्ड की ओर इशारा किया.

जब भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) के गुवाहाटी क्षेत्रीय कार्यालय से संपर्क किया गया, तो उसने भरपूर मदद का भरोसा दिलाया और सलाह देते हुए बताया कि महिला संभावित आधार नामांकन के लिए अपना फिंगरप्रिंट बायोमेट्रिक्स जमा कर सकती है.

UIDAI के गुवाहाटी क्षेत्रीय कार्यालय ने बताया कि फिंगरप्रिंट बायोमेट्रिक्स जमा करने पर, उसके मौजूदा आधार बायोमेट्रिक्स का मिलान किया जा सकता है और उसके आधार विवरण से उसके घर का पता लगाया जा सकता है और वह इस महीने की शुरुआत में अपने परिवार के साथ फिर से मिल सकती है.

आधार नामांकन न केवल जीवन को आसान बनाने और बेहतर सेवा वितरण में मदद करता है, बल्कि अपने परिवारों से अलग हुए लोगों को फिर से जुड़ने में भी मददगार साबित हो सकता है. इसलिए, UIDAI हमेशा प्रोत्साहित करता रहा है कि बच्चों को जल्द से जल्द नामांकित किया जाए और उनके बायोमेट्रिक्स को पांच वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद नामांकित किया जाए और 15 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर अपडेट किया जाए. ऐसा नामांकन और अद्यतन नि:शुल्क है और देश भर के सभी आधार नामांकन और अद्यतन केंद्रों पर किया जा सकता है.

इससे पहले, सितंबर 2022 में बिहार से 2016 से लापता युवक की पहचान, आधार के जरिये 2022 में महाराष्ट्र के नागपुर में हुई है. इस मामले ने एक बार फिर ‘आधार’ की ताकत साबित कर दी है.

यह भी पढ़ें
जब 'आधार' बना 'आधार', 6 साल से लापता दिव्यांग युवक परिवार से मिला