दूसरों की चीटिंग पकड़ने वालों ने ही कर डाली चीटिंग, कंपनी पर लग गया 789 करोड़ रु से ज्यादा का जुर्माना

By Ritika Singh
June 29, 2022, Updated on : Wed Jun 29 2022 07:50:54 GMT+0000
दूसरों की चीटिंग पकड़ने वालों ने ही कर डाली चीटिंग, कंपनी पर लग गया 789 करोड़ रु से ज्यादा का जुर्माना
साल 2019 में KPMG पर भी धोखाधड़ी के इसी तरह के आरोपों के लिए जुर्माना लगाया गया था.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अकाउंटिंग फर्म Ernst & Young पर अमेरिकी सरकार ने रिकॉर्ड 10 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया है. भारतीय करेंसी में 789.57 करोड़ रुपये बैठता है. CNN बिजनेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस जुर्माने की वजह यह है कि EY के कुछ ऑडिटर्स सालों से सर्टिफाइड पब्लिक अकाउंटिंग (CPA) एग्जाम्स में चीटिंग कर रहे थे और कंपनी ने सब जानते हुए भी उन्हें रोकने के लिए कुछ नहीं किया. अमेरिकी रेगुलेटर्स को जब इस बात का पता लगा तो उन्होंने EY पर जुर्माना लगा दिया. साल 2019 में KPMG पर भी धोखाधड़ी के इसी तरह के आरोपों के लिए जुर्माना लगाया गया था.


रिपोर्ट के मुताबिक, सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज कमीशन ने मंगलवार को कहा कि अकाउंटिंग फर्म के कुछ ऑडिटर्स ने लाइसेंस बनाए रखने के लिए आवश्यक CPA के एथिक्स पोर्शन और अन्य पाठ्यक्रमों के मामले में चीटिंग की. सबसे हैरान करने वाली बात यह है कि Ernst & Young ने माना है कि उसके पास चीटिंग से जुड़े मौजूदा मामले नहीं हैं, जबकि फर्म को सीपीए एथिक्स एग्जाम में संभावित धोखाधड़ी के बारे में सूचित किया गया था.

यह घटना अपमानजनक

एक ऑडिटिंग फर्म के खिलाफ 10 करोड़ डॉलर का जुर्माना अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना है. SEC के इन्फोर्समेंट डिवीजन के निदेशक गुरबीर ग्रेवाल ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, "इस कार्रवाई में हमारे देश की कई सार्वजनिक कंपनियों के ऑडिट के लिए नियुक्त किए गए गेटकीपर के अंदर के गेटकीपर द्वारा विश्वास का उल्लंघन शामिल है. यह अपमानजनक है कि क्लाइंट्स की चीटिंग को पकड़ने के लिए जिम्मेदार प्रोफेशनल्स ने सभी चीजों के एथिक्स एग्जाम्स में चीटिंग की." उन्होंने कहा कि यह भी समान रूप से चौंकाने वाला है कि फर्म ने इसकी जांच में बाधा डाली. कंपनी पर की गई कार्रवाई को एक स्पष्ट संदेश के रूप में काम करना चाहिए कि एसईसी स्वतंत्र लेखा परीक्षकों की इंटीग्रिटी विफलताओं को बर्दाश्त नहीं करेगा.

क्या कहना है EY का

जुर्माने के अलावा एसईसी ने EY को अपनी कमियों को दूर करने में मदद करने के लिए दो स्वतंत्र सलाहकारों को बनाए रखने का आदेश भी दिया है. सीएनएन के मुताबिक, इस मुद्दे पर EY ने एक बयान में कहा कि हमारी ईमानदारी और हमारी नैतिकता से ज्यादा महत्वपूर्ण कुछ नहीं है. फर्म एसईसी के आदेश का अनुपालन कर रही है. फर्म के एक प्रवक्ता ने कहा, "हमने अतीत में अनुपालन, नैतिकता और अखंडता की अपनी संस्कृति को सुदृढ़ करने के लिए बार-बार और लगातार कदम उठाए हैं. हम अनुशासनात्मक कदम, प्रशिक्षण, निगरानी और संचार सहित व्यापक कार्रवाई करना जारी रखेंगे जो भविष्य में हमारी प्रतिबद्धता को और मजबूत करेंगे."