बिचौलियों को मात देकर किसानों को उपज का सर्वोत्तम मूल्य दिला रहा है यह कृषि स्टार्टअप

By Krishna Reddy
March 09, 2020, Updated on : Mon Mar 09 2020 04:51:25 GMT+0000
बिचौलियों को मात देकर किसानों को उपज का सर्वोत्तम मूल्य दिला रहा है यह कृषि स्टार्टअप
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

बहुत आत्मनिरीक्षण के बाद, डॉ. रमेश ने अमेरिका में अपनी नौकरी छोड़ दी और अगस्त 2016 में ओडिशा के नयागढ़ जिले में अपने गाँव लौट आए।

डॉ रमेश चंद्र बिस्वाल और उनकी टीम।

डॉ रमेश चंद्र बिस्वाल और उनकी टीम।



ओडिशा के नयागढ़ जिले के एक गाँव भिरूडा की एक आदिवासी महिला किसान बसंती बिस्वाल अपने परिवार की एकमात्र रोटी कमाने वाली महिला हैं। वह हर सुबह लगभग तीन किलोमीटर पैदल चलती हैं और सब्जियों को बेचने में लगभग चार से पांच घंटे लगाती हैं। अपने संघर्ष के बावजूद, वह आमतौर पर सही कीमत पाने में विफल रहती है क्योंकि खरीदार हमेशा कम कीमतों के लिए मोलभाव करते हैं।


हालांकि अब बसंती का यह संघर्ष पुरानी बात बन गया है। इसके पीछे की वजह है ओडिशा स्थित एक कृषि स्टार्टअप विला मार्ट (Villa Mart), जो बिचौलियों को मात देकर किसानों को उपज का सर्वोत्तम मूल्य दिला रहा है। डॉ. रमेश चंद्र बिस्वाल और गोपाल कृष्ण प्रधान द्वारा 2017 में स्थापित, विला मार्ट एक मोबाइल ग्रामीण बाजार है जो किसानों की उपज को दोगुनी कीमत पर खरीदता है।


ग्रामीण बाजार में प्रवेश कर चुके विला मार्ट का वर्तमान में लगभग 40 गाँवों के 50,000 से अधिक लोगों और 2,000 किसानों का एक मजबूत नेटवर्क है। डॉ. रमेश ने सोशल स्टोरी से बात करते हुए कहा कि जागृति यात्रा के दौरान टीम से मिले लोगों ने कहा, ''बिचौलिए किसानों को लगभग 40-50 प्रतिशत बाजार मूल्य देते हैं और कुछ अतिरिक्त सब्जियां फ्री में ले जाते हैं। लेकिन अब हमारे साथ उनके सीधे लिंक हैं और एक किसान को अपनी पिछली आय का लगभग 1.5 से 2 गुना मिलता है।”

यात्रा

2015 में आईआईटी-खड़गपुर से पीएचडी पूरी करने के बाद, डॉ. रमेश ने क्लेम्सन यूनिवर्सिटी, एससी, यूएस में पोस्टडॉक साइंटिस्ट के रूप में काम करना शुरू किया। वे कहते हैं,

"बेसिकली मैं एक मटेरियल साइंटिस्ट हूं, और ईंधन सेल पर काम कर रहा था, और उस क्षेत्र में अपना करियर बनाने के बारे में सोचा। उधर 2015-16 में किसानों की आत्महत्या एक प्रमुख मुद्दा था, और इसने मुझे मेरे बचपन के दिनों और मेरे गांव की याद दिला दी।"

किसान परिवार में गाँव में जन्मे और पले-बढ़े डॉ. रमेश को एक किसान के सामने आने वाली समस्याओं के बारे में पता था। अमेरिका में रहते हुए, उन्होंने महसूस किया कि देश को जमीनी स्तर पर इनोवेशन और रिसर्च के माध्यम से सामाजिक मुद्दों को संबोधित करने में इसके दृष्टिकोण के कारण विकसित किया गया था। बहुत आत्मनिरीक्षण के बाद, डॉ. रमेश ने अमेरिका में अपनी नौकरी छोड़ दी और अगस्त 2016 में ओडिशा के नयागढ़ जिले में अपने गाँव खुंटुबांधा (Khuntubandha ) लौट आए।

यह काम कैसे करता है?

डॉ. रमेश कहते हैं,

''किसानों के लिए हमें जो सबसे बड़ी समस्या मिली, वह थी बाजार से जुड़ाव। खेत की उपज को उचित मूल्य पर बेचना किसान के लिए सबसे बड़ी चुनौती है। साथ ही, उचित मूल्य और गुणवत्ता वाले दैनिक उपभोग की वस्तुओं की उपलब्धता ग्रामीण क्षेत्रों में काफी चुनौतीपूर्ण है।”


मोबाइल बाजार में स्थानीय उत्पाद और अन्य बुनियादी घरेलू वस्तुएँ खरीदते ग्रामीण।

मोबाइल बाजार में स्थानीय उत्पाद और अन्य बुनियादी घरेलू वस्तुएँ खरीदते ग्रामीण



इस चिंता को दूर करने के लिए, विला मार्ट ने दो समाधान पेश किए: एक बाजार और एक मोबाइल आउटलेट। किसानों को पहले अपनी उपज और घरेलू सामान बेचने के लिए शहरों में जाना पड़ता था। वहीं अब मोबाइल आउटलेट, उन तक पहुंचता है और साप्ताहिक आधार पर 25 गांवों को कवर करता है।


मोबाइल आउटलेट एक मॉडिफाइड व्हीकल है जिसमें रैक, पब्लिक एड्रेस सिस्टम, इंटरनेट प्रोटोकॉल कैमरा, वाई-फाई, लाइट सिस्टम, बिलिंग और सोलर सेल है। यह सब्जियों, किराने का सामान और आवश्यक घरेलू उत्पादों सहित लगभग 300 वस्तुओं का स्टॉक करता है। हर दिन एक मोबाइल आउटलेट 40 किमी के पार दो से पांच गांवों और 400 से अधिक ग्राहकों को कवर करता है। आउटलेट में उपज को ताजा रखने के लिए इन-बिल्ट रेफ्रिजरेशन भी है।


डॉ. रमेश कहते हैं,

“इस तरह की सर्विस के लिए एक विशाल ग्रामीण बाजार इंतजार कर रहा है, और औसतन एक जिला 100 करोड़ रुपये से अधिक का बाजार है। वर्तमान में हम ओडिशा में एक ही जिले में काम कर रहे हैं, और जल्द ही राज्य में दो और जिलों में विस्तार करने की योजना है। अन्य राज्यों में भी इस मॉडल के विस्तार पर चर्चा चल रही है।”

किसानों को बेहतर फसल के लिए सक्षम बनाना

विला मार्ट मार्केट लिंकेज, वैल्यू एडिशन और ब्रांडिंग के साथ कटाई वाले हिस्से पर ध्यान केंद्रित कर रहा है। वर्तमान में, स्टार्टअप में चार सीधे तौर पर लगी हुई महिला कर्मचारी हैं, और विभिन्न एसएचजी और एफपीओ की 80 महिलाएं अप्रत्यक्ष रूप से लगी हुई हैं। स्टार्टअप के पास डिजिटली कंट्रोल्ड फिजिकल मार्केट चेन (DCPMC) है, जो कृषि उत्पादों को लेकर बाजार की समस्या से निपटने के लिए अपनी तरह का एक खास सर्विस इनोवेशन में से एक है।


ADS



रमेश कहते हैं,

"हमारे पास फसल की बीमारी का पता लगाने और उचित परिपक्वता स्तर के लिए कुछ IoT और AI- आधारित सेंसर हैं। किसानों को इस लाभ के बारे में पता है, वे हमें बुलाते हैं और जुड़ जाते हैं। इसके अलावा, वे अब नई चीजें सीखने, कृषि-उपकरण का उपयोग करने और गुणवत्ता वाले उत्पाद का उत्पादन करने के लिए हमें फॉलो करने की इच्छा दिखा रहे हैं।”

समर्थन और आगे की राह

डॉ. रमेश और उनके सह-संस्थापक ने शुरुआती दिनों में रिसर्च को फंड देने के लिए अपनी बचत से पैसे लगाए। बाद में, 2017-18 में, स्टार्टअप टाटा सोशल एंटरप्राइज चैलेंज (TSEC) द्वारा चुने गए 10 सामाजिक उद्यमों में से एक था, जिसने इसे दृश्यता प्रदान की। संस्थापक जोड़ी इसके बाद INVENT IIT कानपुर से जुड़ी और विलग्रो में इनक्यूबेट हो गई, जहां उन्हें मेंटरिंग और फंडिंग का समर्थन मिला।


विला मार्ट के लिए, स्टार्टअप ओडिशा बहुत सहायक रहा है; राज्य ने टीम को अनुदान भी दिया है। टीम अब विस्तार के लिए निवेशकों को बोर्ड में लाने की उम्मीद कर रही है। भविष्य की योजनाओं के बारे में बोलते हुए, डॉ. रमेश कहते हैं,

“फिजिकल मार्केट भारतीय संदर्भ में एक व्यावहारिक समाधान है, खासकर कृषि उपज के लिए।


किसानों और ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए हमारे पास बहुत यथार्थवादी और शक्तिशाली मॉडल है। चूंकि व्यवसाय हमारे मॉडल के प्रत्येक भाग में शामिल है, इसलिए यह शुरुआत में कम निवेश के साथ आसानी से स्थायी है। कई स्थानीय गैर सरकारी संगठन, व्यक्ति और सरकारी संगठन फ्रेंचाइजी मॉडल प्राप्त करने में रुचि दिखा रहे हैं।”