एक अरब डॉलर जुटाने की योजना बना रही अनिल अग्रवाल की कंपनी Vedanta Resources

एक अरब डॉलर जुटाने की योजना बना रही अनिल अग्रवाल की कंपनी Vedanta Resources

Wednesday March 01, 2023,

3 min Read

अरबपति अनिल अग्रवाल की कंपनी Vedanta Resources ने इस महीने मैच्योर होने वाले अपने लोन को चुकता कर दिया. और प्रमोटर कंपनी के आगामी भुगतानों को पूरा करने के लिए अपनी यूनिट के जरिए एक अरब डॉलर जुटाने के लिए बार्कलेज और स्टैंडर्ड चार्टर्ड सहित बैंकों के साथ बातचीत कर रही है. ईटी ने मामले से अवगत दो लोगों के हवाले से इसकी जानकारी दी.

सूत्रों ने बताया, THL Zinc Ventures, जोकि सूचीबद्ध Vedanta Ltd. की सहायक कंपनी है, सार्वजनिक क्षेत्र के उधारदाताओं सहित बैंकों के साथ तीन साल की न्यूनतम अवधि के के लिए 1 अरब डॉलर तक का लोन लेने के लिए बातचीत कर रही है.

उन्होंने कहा कि ग्लोबल रेट गेज सिक्योर्ड ओवरनाइट फाइनेंसिंग रेट (SOFR) से लगभग 5% ऊपर पैसा उधार लिया जाएगा.

लोन को वेदांता लिमिटेड और जिंक इंटरनेशनल के नकदी प्रवाह द्वारा समर्थित किया जाएगा, जिसके पास अफ्रीका और आयरलैंड में समूह की जिंक एसेट्स है. सूत्रों में से एक ने कहा कि जुटाई गई रकम लंदन की होल्डिंग कंपनी वेदांता रिसोर्सेज को इंटरकंपनी लोन के तौर पर दी जाएगी.

सूत्रों ने कहा, "जिंक इंटरनेशनल ने 25 करोड़ डॉलर का एबिटा (Ebitda) दर्ज किया था और उनके लिए 75 करोड़ डॉलर से 1 अरब डॉलर जुटाना आसान होगा." बार्कलेज और स्टैंडर्ड चार्टर्ड के प्रवक्ताओं ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया.

कंपनी ने कहा कि वह जून 2023 को समाप्त होने वाली तिमाही में आने वाली अपनी आगामी ऋण परिपक्वता को पूरा करने के लिए "पूरी तरह से आश्वस्त" थी और बैंकों के एक सिंडिकेट से लगभग 1 बिलियन डॉलर के नए ऋण के माध्यम से आवश्यक वित्तपोषण के लिए एक उन्नत चरण में थी.

बयान में कहा गया है, "हम चाहते हैं कि निवेशक ध्यान दें कि वेदांता समूह की ऑपरेटिंग कंपनियां, विविध और कम लागत वाली टियर-1 संपत्तियों से मजबूत परिचालन लाभप्रदता के आधार पर नकदी प्रवाह प्रदान कर रही हैं."

समूह की कंपनी हिंदुस्तान जिंक के बोर्ड में भारत सरकार के नामितों द्वारा वेदांता की जिंक असेट्स खरीदने के लिए 2.98 अरब डॉलर के नकद सौदे पर आपत्ति जताए जाने के बाद वेदांता रिसोर्सेज आगामी लोन को पूरा करने के लिए पैसे जुटाने के तरीके तलाश रही है. वेदांता रिसोर्सेज ने कैंटर फिट्जगेराल्ड को अल्पकालिक परिपक्वता अवधि की सेवा के लिए 2 अरब डॉलर का लोन सिंडिकेट करने के लिए अनिवार्य किया है. ईटी ने 16 फरवरी को इसकी जानकारी दी थी.

वेदांता रिसोर्सेज की वेदांता लिमिटेड में 70% हिस्सेदारी है, जिसके पास हिंदुस्तान जिंक में 64.92% हिस्सेदारी है. हिंदुस्तान जिंक को लिखे एक पत्र में, खनन मंत्रालय ने कहा था कि सौदा एक "संबंधित-पक्ष लेनदेन" है और सरकार अपनी असहमति को "दोहराना" चाहेगी.

Montage of TechSparks Mumbai Sponsors