भारी जाम में आसानी से निकल जाने वाली बाइक एंबुलेंस, ऑक्सिजन सिलिंडर की भी है सुविधा

By yourstory हिन्दी
May 01, 2018, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:15:18 GMT+0000
भारी जाम में आसानी से निकल जाने वाली बाइक एंबुलेंस, ऑक्सिजन सिलिंडर की भी है सुविधा
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

मुंबई के एक संगठन ने एक अनोखी बाइक एंबुलेंस सर्विस शुरू की है जो मरीजों को जल्द अस्पताल पहुंचाने के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहेगी। मुंबई के लोढ़ा फाउंडेशन चैरिटेबल ट्र्स्ट ने बीते दिनों यह एंबुलेंस सर्विस लॉन्च की, जिसमें ऑक्सिजन सिलिंडर भी लगा हुआ है।

बाइक एंबुलेंस (फोटो साभार- एएनआई)

बाइक एंबुलेंस (फोटो साभार- एएनआई)


इसे मई दिवस के दिन जनता को समर्पित किया जाएगा। लोढ़ा ने बताया कि भीड़ वाले जाम में एंबुलेंस आगे नहीं बढ़ पातीं। लेकिन अगर बाइक जैसी एंबुलेंस हो तो उसे किसी तरह रास्ता दिया जा सकता है।

बड़े शहरों के भारी जाम में न जाने कितनी एंबुलेंस फंस जाती हैं और मरीजों की स्थिति और बुरी हो जाती है। कई बार तो मरीजों की जान पर भी बन आती है। जाम की हालत कुछ ऐसी होती है कि लोग चाहते हुए भी एंबुलेंस को रास्ता नहीं दे पाते। लेकिन मुंबई के एक संगठन ने एक अनोखी बाइक एंबुलेंस सर्विस शुरू की है जो मरीजों को जल्द अस्पताल पहुंचाने के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहेगी। मुंबई के लोढ़ा फाउंडेशन चैरिटेबल ट्र्स्ट ने बीते दिनों यह एंबुलेंस सर्विस लॉन्च की, जिसमें ऑक्सिजन सिलिंडर भी लगा हुआ है।

लोढ़ा फाउंडेशन के संस्थापक मंगल प्रभात लोढ़ा हैं जो कि बीजेपी के विधायक भी हैं। इस एंबुलेंस के द्वारा मुफ्त में मरीजों को अस्पताल पहुंचाया जाएगा और उनसे किसी भी तरह की फीस नहीं ली जाएगी। इसे मई दिवस के दिन जनता को समर्पित किया जाएगा। लोढ़ा ने बताया कि भीड़ वाले जाम में एंबुलेंस आगे नहीं बढ़ पातीं। लेकिन अगर बाइक जैसी एंबुलेंस हो तो उसे किसी तरह रास्ता दिया जा सकता है।

इस एंबुलेंस में बाकी सामान्य एंबुलेंस की तरह ही मेडिकल किट, ऑक्सिजन सिलिंडर, स्ट्रेचर की सुविधा है। इतना ही नहीं अगर जरूरत पड़े को बाइक के पीछे डॉक्टर को भी बैठाया जा सकता है। हालांकि ऐसी एंबुलेंस कोई नई बात नहीं है। इससे पहले पश्चिम बंगाल के सिलिगुड़ी जिले के करीमुल हक ने अपनी खुद की बाइक को एंबुलेंस में बदल दिया था। उसके लिए उन्हें सरकार ने पद्म श्री पुरस्कार से भी सम्मानित किया। करीमुल अपने गांव व आसपास के दर्जनों गांवों के जरूरतमंदों के लिए मसीहा से कम नहीं हैं।

इसी तरह गैराज में काम करने वाले हैदराबाद के मोहम्मद शहजोर ने भी ऐसी ही एंबुलेंस बाइक बनाई थी। महाराष्ट्र सरकार ने कुछ दिन पहले ही कुछ इलाकों में बाइक एंबुलेंस की सेवाएं शुरू की थीं, जिसके तहत डॉक्टर मरीजों के घर जाकर उनका उपचार करते हैं। मुंबई में इस एंबुलेंस सर्विस के शुरू होने के बाद उम्मीद की जानी चाहिए कि सड़क दुर्घटना में घायल और प्राथमिक उपचार की जरूरत वाले लोगों को काफी मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें: जोधपुर के स्कूली बच्चे महिलाओं के प्रति अपराध और दहेज जैसे अत्याचार को खत्म करने के लिए ले रहे शपथ