अब ज़ीरो ट्रेडिंग फीस पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर कर सकेंगे यूजर, जानिए कैसे?

क्रिप्टो स्टार्टअप WeTrade का दावा है कि बिटकॉइन, सोलाना और एथेरियम सहित 50 से अधिक कॉइन पर ट्रेडिंग फीस हटा दी गई है. इससे क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर का प्रोसेस सरल हो जाएगा और यूजर को फायदा भी मिलेगा.

अब ज़ीरो ट्रेडिंग फीस पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर कर सकेंगे यूजर, जानिए कैसे?

Thursday August 25, 2022,

3 min Read

भारत में क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग करने वाले यूजर्स के लिए खुशख़बरी है. अब वे ज़ीरो ट्रेडिंग फीस पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजेक्शन कर सकेंगे. बेंगलुरू स्थित क्रिप्टोकरेंसी स्टार्टअप, WeTrade ये मौका दे रहा है. स्टार्टअप ने यूजर्स को ज़ीरो ट्रेडिंग फीस पर क्रिप्टोकरेंसी कॉइन खरीदने और बेचने की सुविधा शुरू कर दी है. इसके साथ ही यूजर अब कम से कम 100 रुपये में भी ट्रांजेक्शन कर सकते हैं.

क्रिप्टो स्टार्टअप का दावा है कि बिटकॉइन, सोलाना और एथेरियम सहित 50 से अधिक कॉइन पर ट्रेडिंग फीस हटा दी गई है. इससे क्रिप्टोकरेंसी ट्रांसफर का प्रोसेस सरल हो जाएगा और यूजर को फायदा भी मिलेगा.

WeTrade ने अपने बयान में कहा, यह कस्टमर एसेट्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए निगरानी के स्तर को सुनिश्चित करते हुए अपने KYC (know your customer) अनुभव देता है. प्लेटफ़ॉर्म में ग्राहकों को बिना किसी बाधा के ट्रेडिंग करने और टैक्स से जुड़े नियमों का पालन करते हुए लाभ प्राप्त करने के लिए एक ऑडिट और ट्रेसिंग मैकेनिज़्म भी शामिल है.

bengaluru-startup-wetrade-users-zero-trading-fees-cryptocurrency-transaction

जैसा कि WeTrade के फाउंडर और सीईओ प्रशांत कुमार ने कहा, उनका लक्ष्य ज़ीरो ट्रेडिंग फीस सुविधा देकर अपने यूजर्स के लिए क्रिप्टोकरेंसी को आसान और फायदेमंद बनाना है. उन्होंने कहा, "हम न केवल ज़ीरो ट्रेडिंग फीस ऑफर करते हैं, बल्कि अपने कस्टमर को मूल्य प्रशंसा और कई गुना पुरस्कारों का आनंद लेने में मदद करते हैं. हमारा एप्लिकेशन इंटरफ़ेस यूजर को एक सिक्योर और क्विक केवाईसी, इंस्टंट मनी डिपोजिट और विड्रॉल, और वन क्लिक बाई / सेल जैसे सॉल्यूशन प्रोवाइड करता है. क्रिप्टोकरेंसी में निवेश शुरू करने में एक मिनट से भी कम समय लेता है. हम क्रिप्टोकरेंसी की दुनिया में एसेट सेट के संपर्क में आने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए वन-स्टॉप-शॉप में बनने की आशा करते हैं.”

WeTrade सभी क्रिप्टोकरेंसी कॉइन पर तत्काल एक प्रतिशत कैशबैक और सॉर्स (TDS) कैशबैक पर 100% टैक्स कटौती करने का दावा करता है. क्रिप्टोकरेंसी प्लेटफ़ॉर्म सभी शुरुआती यूजर्स को एप्लिकेशन में साइन अप करने पर NFT (non-fungible token) देता है. क्योंकि यूजर NFT रिवार्ड्स को अपने वॉलेट में ट्रांसफर कर सकते हैं. भविष्य में इनकी ट्रेडिंग की जा सकती है. यूजर एनएफटी को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं, और उस पर 10 लाइक होने पर एक प्रतिशत अतिरिक्त कैशबैक प्राप्त कर सकते हैं. WeTrade ऐप को पहले महीने में 10,000 से अधिक इंस्टॉल मिले हैं. 100 से अधिक एप्लिकेशन रिव्यू और एंड्रॉइड और आईओएस पर 5 में से 4.8 रेटिंग हासिल करने का, कंपनी ने दावा किया है.

Budget 2022 में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की कि वर्चुअल असेट्स (क्रिप्टोकरेंसी आदि) पर 30 फीसदी टैक्स लगाया गया है. इसके अलावा वर्चुअल असेट्स के ट्रांसफर पर 1 फीसदी TDS भी लगेगा. अगर वर्चुअल एसेट को गिफ्ट के तौर पर दिया जाता है तो टैक्स वह शख्स देगा जिसको वह वर्चुअल एसेट गिफ्ट के तौर पर मिली है. यह भी बताया गया है कि रुपये की डिजिटल करेंसी को इसी वित्त वर्ष में चालू किया जाएगा. ब्लॉकचेन और अन्य तकनीकों का इस्तेमाल करके डिजिटल करेंसी शुरू की जाएगी, आरबीआई 2022-23 से इसे जारी करेगा.