BSNL और TCS की 26821 करोड़ की डील को सरकार की मंजूरी, जानें किसलिए है यह सौदा

By yourstory हिन्दी
November 10, 2022, Updated on : Thu Nov 10 2022 07:02:12 GMT+0000
BSNL और TCS की 26821 करोड़ की डील को सरकार की मंजूरी, जानें किसलिए है यह सौदा
BSNL के 4जी नेटवर्क का सफल रोलआउट भारत को संयुक्त राज्य अमेरिका, स्वीडन, फिनलैंड, दक्षिण कोरिया और चीन जैसे देशों के एक प्रतिष्ठित क्लब में ले जा सकता है, जिन्होंने दूरसंचार नेटवर्क प्रौद्योगिकी विकसित की है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सरकार ने भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) की टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) के साथ 26,281 करोड़ रुपये की डील को मंजूरी दे दी है. यह डील भारत में BSNL नेटवर्क पर 4जी सर्विसेज को लॉन्च करने को लेकर है. इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, इस डील के तहत टीसीएस 4जी लाइन्स को स्थापित करेगी और 9 वर्षों के लिए नेटवर्क को मेंटेन करेगी. विवरण से अवगत अधिकारियों का कहना है कि बीएसएनएल जल्द ही टीसीएस को 100,000 साइट्स के लिए खरीद ऑर्डर देगी. रिपोर्ट में दूरसंचार विभाग के एक अधिकारी के हवाले से कहा गया है कि बीएसएनएल का लक्ष्य दिसंबर या जनवरी तक 4जी सर्विसेज लॉन्च करने का है. इस वक्त बीएसएनएल के 11.1 करोड़ वायरलेस सब्सक्राइबर हैं.


अक्टूबर माह में बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस में कहा था कि कंपनी की योजना 18 महीनों में लगभग 1.25 लाख 4जी मोबाइल साइट शुरू करने की है. कंपनी जो 4जी नेटवर्क उपकरण खरीद रही है, उसे सॉफ्टवेयर के जरिये 5जी में बदला जा सकेगा.

अप्रैल में मिला था 550 करोड़ रुपये का आर्डर

अप्रैल 2022 में टीसीएस के नेतृत्व वाले एक कंसोर्शियम को बीएसएनएल से स्वदेशी रूप से तैयार 4जी नेटवर्क स्थापित करने के लिए 550 करोड़ रुपये का आर्डर मिला था. यह कंसोर्शियम शुरू में बीएसएनएल की 4जी नेटवर्क सेवाओं के लिए 6,000 मोबाइल टावर लगाएगा. टीसीएस की मूल कंपनी टाटा संस की एक इकाई तेजस नेटवर्क द्वारा बीएसएनएल के लिए नेटवर्क उपकरण स्थानीय तौर पर बनाने की उम्मीद है. सरकारी स्वामित्व वाली दूरसंचार प्रौद्योगिकी डेवलपर 'सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स (सी-डॉट) ने कोर 4जी समाधान के साथ-साथ रेडियो उपकरण विकसित करने के लिए टीसीएस के साथ भागीदारी की है.


Times of India (TOI) की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 26,281 करोड़ रुपये के ऑफर के साथ TCS का लक्ष्य BSNL-MTNL नेटवर्क पर 100,000 टावर लगाने का है. अतिरिक्त 25,000 टावर वामपंथी उग्रवाद प्रभावित इलाकों, लक्षद्वीप आयलैंड और 4जी सैचुरेशन एरियाज में लगाए जाएंगे.

खरीद ऑर्डर के 12 माह के भीतर ओवरऑल कोर इक्विपमेंट की आपूर्ति

ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक, अधिकारी ने आगे कहा है कि टीसीएस ने पिछले महीने खरीद ऑर्डर के 12 महीने के भीतर ओवरऑल कोर इक्विपमेंट की आपूर्ति करने का प्रस्ताव रखा था, जबकि रेडियो उपकरण की आपूर्ति 18-24 महीने की अवधि में पूरी की जाएगी. सरकार का मानना ​​है कि बीएसएनएल के 4जी नेटवर्क का सफल रोलआउट भारत को संयुक्त राज्य अमेरिका, स्वीडन, फिनलैंड, दक्षिण कोरिया और चीन जैसे देशों के एक प्रतिष्ठित क्लब में ले जा सकता है, जिन्होंने दूरसंचार नेटवर्क प्रौद्योगिकी विकसित की है.



Edited by Ritika Singh