बजट 2019-20: स्टार्टअप के लिए एक्सक्लूसिव टीवी चैनल खोलेगी मोदी सरकार

By yourstory हिन्दी
July 05, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:33:06 GMT+0000
बजट 2019-20: स्टार्टअप के लिए एक्सक्लूसिव टीवी चैनल खोलेगी मोदी सरकार
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नया स्टार्टअप चैनल काफी हद तक डीडी किसान चैनल की तरह होगा, जिसे मोदी सरकार ने 4 साल पहले खासतौर से किसानों और कृषि-क्षेत्र से जुड़ी समस्याओं के लिए शुरू किया था।


बजट 2019


वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त वर्ष 2019-20 के बजट भाषण के दौरान स्टार्टअप्स के लिए एक एक्सक्लूसिव टीवी चैनल शुरू करने का ऐलान किया है। सीतारमण ने बताया कि स्टार्टअप पर केंद्रित इस टीवी चैनल को दूरदर्शन के तहत खोला जाएगा और इसके कामकाज को खुद स्टार्टअप ही देखेंगे। 

यह चैनल स्टार्टअप को वेंचर फंड्स और निवेशकों से मिलाने में भी मदद करेगा।


नया स्टार्टअप चैनल काफी हद तक डीडी किसान चैनल की तरह होगा, जिसे मोदी सरकार ने 4 साल पहले खासतौर से किसानों और कृषि-क्षेत्र से जुड़ी समस्याओं के लिए शुरू किया था। 24 घंटे प्रसारण करने वाले डीडी किसान को 26 मई 2015 को लॉन्च किया गया था।


डीडी किसान चैनल किसानों को जल संरक्षण, कृषि की नई तकनीकों, खेती की ऑर्गेनिक विधि और दूसरे मुद्दों पर वास्तविक समय में जानकारी मुहैया कराता है।




इससे पहले दिन में सीतारमण ने अपने बजटीय भाषण के दौरान बताया कि कैसे स्टैंड-अप इंडिया मुहिम ने देश में उद्यमशीलता के माहौल को बनाने में मदद की है।

स्टार्टअप-इंडिया योजना के तहत वित्त वर्ष 2019 की पहली छमाही में भारतीय स्टार्अप्स को 1,300 करोड़ रुपये से अधिक वितरित किए जा चुके हैं। इसके साथ ही योजना के तहत बांटी गई कुल राशि 3,123.7 करोड़ रुपये पहुंच गई है। यह 14वें और 15वें वित्त आयोग के कार्यकाल में इस योजना को आवंटित कुल 10,000 करोड़ रुपये की राशि के 30 पर्सेंट से ज्यादा है। मोदी सरकार ने 2016 में स्टार्टअप इंडिया योजना को लॉन्च किया था।


स्टार्टअप इंडिया फंड को 'फंड ऑफ फंड्स फॉर स्टार्टअप्स (FFS)' के नाम से भी जाना जाता है। कैलेंडर ईयर के पहले तीन महीनो में एफएफएस ने विभिन्न वेंचर कैपिटल फंड को 515 करोड़ रुपये वितरित किए हैं, जिससे वह स्टार्टअप में और ज्यादा निवेश कर सकें। अप्रैल-जून तिमाही में एफएफएस ने 856 करोड़ रुपये वितरित किए। 


सरकार ने एफएफएस को लॉन्च करते समय 18 लाख लोगों के लिए रोजगार पैदा करने का लक्ष्य रखा था।