ब्रांड्स को जल्दी और सुरक्षित रूप से इनफ्लुएंसर खोजने में मदद कर रहा है चेन्नई स्थित यह स्टार्टअप

By Ayshwaria Lakshmi
April 12, 2022, Updated on : Tue Apr 12 2022 11:47:56 GMT+0000
ब्रांड्स को जल्दी और सुरक्षित रूप से इनफ्लुएंसर खोजने में मदद कर रहा है चेन्नई स्थित यह स्टार्टअप
चेन्नई स्थित PickMyAd एक इनफ्लुएंसर मार्केटिंग प्लेटफॉर्म है जहां ब्रांड अपने बिजनेस को प्रमोट करने के लिए अपने पसंदीदा इनफ्लुएंसर लोगों को बुक कर सकते हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

जहां महामारी के चलते लगा लॉकडाउन कई मौजूदा व्यवसायों के लिए एक बड़ा व्यवधान था, तो वहीं इसने नए शौक और व्यावसायिक विचारों को भी जन्म दिया। प्रभु दास, शिवकुमार सेल्वराज, अरुण पायस और अरुलजोथी कुप्पुसामी ने लॉकडाउन के बीच एक शौक के रूप में एक YouTube चैनल खोलने का फैसला किया। ये सभी 2007 से दोस्त हैं।


कुछ अलग करने की जरूरत का पीछा करते हुए और कई विचार-मंथन करने के बाद, दोस्तों ने तमिल वाक्यांश "माथी योसी" को एक प्रेरणा के रूप में लेने का फैसला किया - जिसका अर्थ है अलग तरह से सोचना / लीक से हटकर सोचना और इसी ने PickMyAd की उत्पत्ति की आधारशिला रखी। इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग हब के अनुसार, वैश्विक इन्फ्लुएंसर बाजार के 2022 में 16.4 बिलियन डॉलर बढ़ने की उम्मीद है, जो 2021 में 13.8 बिलियन डॉलर था।


पिकमायएड के सीईओ और सह-संस्थापक प्रभु दास ने योरस्टोरी को बताया, "हमने इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग में बदलाव और रुझानों पर ध्यान दिया है। उसी समय, इन्फ्लुएंसर द्वारा धोखा दिए जाने और उसी तरह ब्रांडों के द्वारा घोटाले की भी शिकायतों में वृद्धि हुई थी।"


यह वह चिंगारी थी जिसकी संस्थापकों को जरूरत थी।


पूरी तरह से एक नए स्पेस में कूदते हुए, संस्थापकों ने कई कंपनियों की पहचान की जो कैंपेन पर काम करने के लिए मार्केटिंग प्लेटफॉर्म बनाने की कोशिश कर रही थीं। आइडिया यह था कि ब्रांड की आवश्यकता से लेकर सही प्रकार के इन्फ्लुएंसर व्यक्ति तक - सबसे अलग खड़े होने और प्रक्रिया को तेज करने किया जाए।


जून 2020 में, उन्होंने चेन्नई स्थित पिकमायएड की स्थापना की। यह स्टार्टअप एक इन्फ्लुएंसर मार्केटिंग प्लेटफॉर्म है जहां ब्रांड अपने व्यवसाय को प्रमोट करने के लिए इन्फ्लुएंसर को बुक कर सकते हैं।

यह किस प्रकार काम करता है?

निकट भविष्य में Instagram को जोड़ने की योजना के साथ, PickMyAd YouTube इन्फ्लुएंसर पर ध्यान केंद्रित करता है। स्टार्टअप ने एक ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार किया है जहां इन्फ्लुएंसर व्यक्ति और ब्रांड अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। रजिस्टर्ड लोगों को कंपनी से वेरिफिकेशन प्रोसेस से गुजरना पड़ता है।


रजिस्ट्रेशन के बाद, ब्रांड उपलब्ध YouTube समय स्लॉट के आधार पर एक इन्फ्लुएंसर को बुक कर सकता है। यह समय स्लॉट इन्फ्लुएंसर द्वारा उनके प्रोफाइल में मेंशन होगा। स्टार्टअप इन्फ्लुएंसर्स और प्रत्येक ब्रांड से 10 प्रतिशत कमीशन लेता है - कुल 20 प्रतिशत।


प्रभु बताते हैं, “हम इन्फ्लुएंसर के लिए उन बाधाओं को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं, जहां उन्हें रिक्वेस्ट की बौछार कर दी जाती है।”


पिकमायएड पर रजिस्टर्ड इन्फ्लुएंसर्स को एक पब्लिक प्रोफाइल यूआरएल प्रदान किया जाता है, जिसे बाद में उनके चैनल पर शेयर किया जाता है और उनके संपर्क के लिए उसे इस्तेमाल किया जाता है।


वे कहते हैं, “ब्रांड के नजरिए से, हम उनके पैसे की रक्षा करना सुनिश्चित करते हैं। हम ब्रांड और इन्फ्लुएंसर के बीच एक एस्क्रो के रूप में कार्य करते हैं। हमारा लक्ष्य दोनों की रक्षा करना है।”


कंपनी तमिलनाडु के 37 ब्रांडों जैसे Jinglebid, Ippopay, Giottus, 1hr Bazar, Podhini Diary, और Veg Route के साथ काम कर रही है।

(L-R) अरुलजोथी कुप्पुसामी, प्रभु दास, शिवकुमार सेल्वराज और अरुण पायस

(L-R) अरुलजोथी कुप्पुसामी, प्रभु दास, शिवकुमार सेल्वराज और अरुण पायस

टीम

स्टार्टअप एक 16-सदस्यीय कंपनी है, जिसमें सीटीओ अरुलजोथी सहित तकनीकी टीम में छह शामिल हैं। संस्थापकों ने त्रिची से कंप्यूटर एप्लीकेशन में अंडरग्रेजुएट की पढ़ाई पूरी की। पिकमायएड शुरू करने से पहले प्रभु और अरुलजोथी छह साल तक कैलिब्रेंट टेक्नोलॉजीज की संस्थापक टीम का हिस्सा थे।


सीओओ शिवकुमार उनके साथ शामिल हुए और उन्होंने एक साथ सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट और डिजिटल मार्केटिंग कंपनी अमविज मीडिया की स्थापना की। पिकमायएड में मुख्य रणनीति- मार्केटिंग अरुण, अन्य संस्थापकों में शामिल होने से पहले पांच साल तक लिंक लॉजिस्टिक्स के साथ थे।


चेन्नई स्थित स्टार्टअप ने स्टार्ट-अप इंडिया सीड फंड से 20 लाख रुपये जुटाए हैं, जिसमें से उसे 8 लाख रुपये मिले हैं। सास कंपनी किसफ्लो के सीईओ सुरेश संबंदम भी इसका मार्गदर्शन कर रहे हैं। कंपनी के पास एक रणनीतिक निवेशक जस्टिन ब्यूडिन भी हैं, जो VUBIQUITY के सीटीओ और मीडिया ऑपरेशंस के प्रमुख हैं।


हालांकि स्टार्टअप की स्थापना जून 2020 में हुई थी, लेकिन इसने जनवरी 2022 में ही अपना प्लेटफॉर्म लॉन्च किया। 2020 से 2022 तक, यह अपने प्लेटफॉर्म पर काम कर रहा था, जिसने कई बाधाओं को पार किया - पहले महामारी से, जिसने उन्हें दूर से काम करने के लिए मजबूर किया और फिर बदलती जरूरतों और मांगों के अनुसार प्लेटफॉर्म का पुनर्निर्माण किया।


स्टार्टअप ने 900 से अधिक इन्फ्लुएंसर को शामिल किया है और 30 से अधिक डील की सुविधा प्रदान की है। फिलहाल कंपनी तमिलनाडु पर फोकस कर रही है।

PickMyAd

बाजार

पिकमायएड wobb.ai, Qoruz, Winkl, oneimpression.io, और influencer.in जैसी कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है।


यह अनुमानित 37 मिलियन इन्फ्लुएंसर के साथ $15 बिलियन के TAM (कुल पता योग्य बाजार) को संबोधित करता है। प्रभु बताते हैं कि भले ही कंपनी का सर्विसेबल एड्रेसेबल मार्केट 1 मिलियन डॉलर का हो और औसत ट्रांजैक्शन वैल्यू 1,000 डॉलर हो, इसका संभावित राजस्व $9.6 बिलियन होगा।


हालांकि कंपनी का वर्तमान फोकस तमिलनाडु पर है, लेकिन इसकी अन्य राज्यों में उद्यम करने की योजना है।


प्रभु कहते हैं, "हमने पहले ही तेलुगु इन्फ्लुएंसर्स के साथ शुरुआत कर दी है और इस साल के अंत तक हम पूरे भारत में विस्तार करेंगे।"


वे कहते हैं, “आर्थिक रूप से, हम सीमित हैं। हम तुरंत विस्तार नहीं कर सकते हैं इसलिए हम कुछ अच्छी सफलता की कहानियां बनाना चाहते हैं और फिर विस्तार की योजना बनाना चाहते हैं। हम यह भी सुनिश्चित करना चाहते हैं कि बाहर निकलने से पहले हमारा सिस्टम पर्याप्त स्थिर हो।"


स्टार्टअप अपने प्लेटफॉर्म पर नई फीचर्स को लाने की भी योजना बना रहा है ताकि इन्फ्लुएंसर और ब्रांडों के लिए एक बहुत आसान और अधिक आकर्षक मंच तैयार किया जा सके।


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close