कपिल देव के खिलाफ हितों के टकराव की शिकायत ‘अप्रासंगिक’

By भाषा पीटीआई
February 17, 2020, Updated on : Mon Feb 17 2020 07:01:30 GMT+0000
कपिल देव के खिलाफ हितों के टकराव की शिकायत ‘अप्रासंगिक’
बीसीसीआई आचरण अधिकारी डी के जैन ने रंगास्वामी, गायकवाड़ और कपिल को मुंबई में 27 और 28 दिसंबर को व्यक्तिगत सुनवाई के लिये बुलाया था लेकिन विश्व कप विजेता कप्तान निजी कारणों से इसमें नहीं जा सके थे।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नई दिल्ली, बीसीसीआई आचरण अधिकारी डी के जैन ने रविवार को पुष्टि की कि उन्होंने कपिल देव के खिलाफ हितों के टकराव की शिकायत को ‘अप्रासंगिक’ पाया है क्योंकि पूर्व भारतीय कप्तान अपनी कई भूमिकाओं के पदों से हट गये हैं।


क

फोटो क्रेडिट: AajTak



बीसीसीआई के साथ जैन का एक साल का अनुबंध एक महीने में खत्म हो जायेगा। उन्होंने शांता रंगास्वामी और अंशुमन गायकवाड़ के खिलाफ दिसंबर में आयी शिकायतों को भी अप्रासंगिक पाया था क्योंकि उन्होंने अपने पदों से इस्तीफा दे दिया था।


जैन ने पीटीआई से कहा,

‘‘कपिल के खिलाफ शिकायत को अप्रासंगिक पाया गया। ’’


ये तीनों क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) का हिस्सा थे लेकिन मध्य प्रदेश क्रिकेट संघ के आजीवन सदस्य संजीव गुप्ता द्वारा उनके खिलाफ लगाये गये हितों के टकराव के आरोपों के बाद इस्तीफा दे दिया था। बीसीसीआई ने अब नयी सीएसी गठित की है।


जैन ने रंगास्वामी, गायकवाड़ और कपिल को मुंबई में 27 और 28 दिसंबर को व्यक्तिगत सुनवाई के लिये बुलाया था लेकिन विश्व कप विजेता कप्तान निजी कारणों से इसमें नहीं जा सके थे।


बीसीसीआई संविधान के अनुसार कोई भी व्यक्ति एक समय में एक से ज्यादा पद पर काबिज नहीं हो सकता।


Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close