लॉकडाउन के दौरान किसानों बड़ी समस्याओं को सुलझा रहा है एग्रीटेक स्टार्टअप बिगहाट

By Vishal Krishna
April 21, 2020, Updated on : Thu Apr 08 2021 09:12:00 GMT+0000
लॉकडाउन के दौरान किसानों बड़ी समस्याओं को सुलझा रहा है एग्रीटेक स्टार्टअप बिगहाट
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

लॉकडाउन के इस समय में किसानों को ढेरों समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। एग्रीटेक स्टार्टअप ‘बिगहाट’ किसानों की समस्याओं का समाधान निकालने में उनकी मदद कर रहा है।

बिगहाट के संस्थापक सचिन नंदवाना

बिगहाट के संस्थापक सचिन नंदवाना



एग्रीटेक कंपनी बिगहाट ने किसानों के सामने आने वाली समस्याओं की रूपरेखा तैयार की है और इसका उद्देश्य कोरोनोवायरस महामारी के दौरान उनके अस्तित्व को बचाए रखना है। इस संकट ने किसानों की फसल को उपजाने के लिए न सिर्फ जरूरी सामान की आपूर्ति को प्रभावित किया है, बल्कि फसलों के लिए श्रम और बाजार की उपलब्धता को भी हिला दिया है।


इस स्टार्टअप को फसलों का प्रबंधन करने और फसल के नुकसान से बचने के लिए सलाहकारों और आवश्यक कृषि संबंधी जानकारी के लिए किसानों से कई जरूरी कॉल मिल रहे हैं।


बिगहाट के संस्थापक सचिन नंदवाना कहते हैं,

"उच्च गुणवत्ता वाले कृषि इनपुट्स और किसानों को कृषि संबंधी सलाह देना फसल के सभी चरणों में किसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इसके बिना किसानों को खाद्य मुद्रास्फीति और खाद्य सुरक्षा में संकट का सामना करना पड़ेगा।”

इस लॉकडाउन के दौरान किसानों के सामने प्रमुख चुनौतियाँ हैं:


  • लोगों की आवाजाही पर लगी रोक के कारण इस समय किसानों को लेबर की कमी से जूझना पड़ रहा है, जिससे उनकी फसलें खराब हो रही हैं।


  • ट्रकों की आवाजाही पर लगी रोक के कारण परिवहन ठप है।


  • खड़ी फसलों के प्रबंधन या नई फसलों की योजना के लिए कृषि इनपुट्स की अनुपलब्धता है।





सचिन कहते हैं,

"बिगहाट में हमने सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए हैं, जो इस समय हमारे लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। हम उच्चतम गुणवत्ता वाले इनपुट किसानों को दे रहे हैं और अपने सभी पूर्ति केंद्रों में स्वच्छता के सर्वोत्तम अभ्यास और प्रक्रियाओं का पालन कर रहे हैं। हमने इस मुद्दों के लिए सरकार के साथ CII और FICCI के सामने इन मुद्दों को उठाया है। केंद्र सरकार ने काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया व्यक्त की और थोड़े समय के भीतर उन्होंने आवश्यक श्रेणी के तहत कृषि इनपुट्स को शामिल किया और राज्य सरकारों को भी उसी के बारे में निर्देशित किया।“

बिगहाट पूर्व फसल चक्र को बदल देता है, जिससे किसान विज्ञान, डेटा और प्रौद्योगिकी की मदद ले सकते हैं। कृषि इनपुट इकोसिस्टम को डिजिटल करके यह न केवल कृषि वैल्यू चेन में सबसे कठिन समस्या को हल कर रहा है बल्कि पारदर्शिता और दक्षता भी सुनिश्चित कर रहा है।


अनुमति और विशेष श्रेणी का दर्जा प्राप्त करने के बाद स्टार्टअप ने देश भर में बहुत देरी के बिना आवश्यक इनपुट की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए लॉजिस्टिक्स भागीदारों के साथ मिलकर काम करना शुरू कर दिया। उन्होंने पूरे भारत में 70 प्रतिशत क्षेत्र में वितरण शुरू कर दिए और अगले कुछ दिनों में अपने ऑपरेशन 500 से अधिक पिन कोड तक अपनी सेवा पहुंचाने की उम्मीद कर रहे हैं। वर्तमान लॉकडाउन के कारण यह संभव है कि कुछ देरी हो सकती है, लेकिन बिगहाट आपूर्ति और लॉजिस्टिक को बनाए रखने के लिए अपने कदम आगे बढ़ा रहा है।


स्टार्टअप ने पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में लगभग दो गुना तक बढ़ते हुए प्लेटफ़ॉर्म पर ट्रैफ़िक के साथ किसानों से पूछताछ में एक उतार-चढ़ाव देखा है। किसान अगले कुछ हफ्तों के लिए अपनी आवश्यकताओं को एकत्र कर रहे हैं और उच्च औसत लेनदेन चला रहे हैं। किसान ज्ञान-आधारित वीडियो और ब्लॉग तक पहुंच के साथ प्लेटफॉर्म पर अधिक समय बिता रहे हैं।


कई ब्रांड बिगहाट के साथ काम कर रहे हैं ताकि इस समय किसान को अपने उत्पाद सीधे वितरित कर सकें और इस कठिन समय में किसानों को सहायता प्रदान कर सकें।