भारत में होने वाली मुक्केबाजी की एशियाई चैंपियनशिप स्थगित, भारत मेजबान बरकरार रहेगा और टूर्नामेंट अब 2021 में होगा

By yourstory हिन्दी
August 19, 2020, Updated on : Wed Aug 19 2020 09:01:30 GMT+0000
भारत में होने वाली मुक्केबाजी की एशियाई चैंपियनशिप स्थगित, भारत मेजबान बरकरार रहेगा और टूर्नामेंट अब 2021 में होगा
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नयी दिल्ली, भारत में नवंबर-दिसंबर में होने वाली एशियाई मुक्केबाजी चैंपियनिशप को कोविड-19 महामरी से जुड़ी स्थिति के कारण अगले साल के लिए स्थगित कर दिया गया है। मुक्केबाजी महासंघ के महासचिव जय कोवली ने मंगलवार को यह जानकारी दी।


k

फोटो साभार: aiba


एशियाई मुक्केबाजी परिसंघ (एएसबीसी) की कार्यकारी समिति की सोमवार को आनलाइन हुई बैठक में यह फैसला किया गया।


एएसबीसी की कार्यकारी समिति के सदस्य कोवली ने पीटीआई को बताया,

‘‘महामारी के कारण मौजूदा हालात को देखते हुए टूर्नामेंट को स्थगित करने का प्रस्ताव रखा गया और इसे स्वीकार कर लिया गया। भारत मेजबान बरकरार रहेगा और टूर्नामेंट अब 2021 में होगा।’’

उन्होंने कहा,

‘‘2021 की विंडो पर नवंबर में कार्यकारी समिति की अगली बैठक में चर्चा की जाएगी।’’


भारत ने पिछली बार पुरुष एशियाई चैंपियनशिप की मेजबानी मुंबई में 1980 में की थी जबकि महिला टूर्नामेंट का आयोजन हिसार में 2003 में किया था। पिछले साल इसे पुरुष और महिला वर्ग की संयुक्त प्रतियोगिता बनाया गया।


कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया भर में खेल कैलेंडर अस्त व्यस्त हो गया है और कई बड़ी खेल प्रतियोगिताएं स्थगित हो चुकी हैं जिसमें ओलंपिक और टी20 क्रिकेट विश्व कप भी शामिल है।


कोवली ने कहा,

‘‘हमें सतर्क रहना होगा, हर जगह संक्रमण के मामलों में इजाफा हो रहा है। जब तक यह तय नहीं होता कि मामलों में गिरावट आ रही है तब तक चीजों पर रोक लगाना ही सर्वश्रेष्ठ है।’’

उन्होंने कहा,

‘‘एएसबीसी ने फैसला किया है कि सिर्फ एक प्रतियोगिता की संभावना है, संभवत: नवंबर में चीन में जिसमें सिर्फ शीर्ष मुक्केबाज हिस्सा लेंगे जिससे कि प्रतिस्पर्धियों की संख्या को कम रखा जा सके। लेकिन यह सिर्फ प्रस्ताव है, ऐसा हो भी सकता है और नहीं भी।’’

भारत में संक्रमण के मामलों की संख्या 25 लाख के पार पहुंच चुकी है जबकि मरने वालों की संख्या 50 हजार के पार है।


ट्रेनिंग शिविरों की शुरुआत के साथ हालांकि खेलों को बहाल करने की दिशा में छोटा कदम उठाया गया है।


पटियाला में शिविर के लिए कुछ मुक्केबाज जुटे हैं और यह शिविर अब तक सही चल रहा है।


भारत के नौ मुक्केबाज अब तक तोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके हैं जिसमें पांच पुरुष और चार महिला शामिल हैं।


(सौजन्य से- भाषा पीटीआई)