कोविड-19 बीमारी से एक दिन में अब तक सबसे अधिक 56,110 लोगों के ठीक होने का रिकॉर्ड दर्ज

By yourstory हिन्दी
August 13, 2020, Updated on : Thu Aug 13 2020 09:01:30 GMT+0000
कोविड-19 बीमारी से एक दिन में अब तक सबसे अधिक 56,110 लोगों के ठीक होने का रिकॉर्ड दर्ज
भारत में इस बीमारी से ठीक होने की दर 70 प्रतिशत से अधिक। एक दिन में अब तक सबसे अधिक 7,33,449 लोगों का परीक्षण किया गया।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत में पिछले 24 घंटों के दौरानएक दिन में कोविड-19 से अब तक सबसे अधिक 56,110 लोगों के ठीक होने का रिकॉर्ड दर्ज किया गया है। यह समग्र देखभाल मानक के आधार पर गंभीर रोगियों के मानकीकृत नैदानिक प्रबंधन सहित प्रभावी रोकथाम कार्यनीति, तेजी से और व्यापक परीक्षण के सफल कार्यान्वयन का परिणाम है।


k

फोटो साभार: shutterstock


केंद्र और राज्य / केंद्रशासित प्रदेश सरकारों के समन्वित प्रयासों के परिणामस्वरूप इस बीमारी से ठीक होने वाले मरीजों का दैनिक औसत लगातार बढ़ रहा है। जुलाई के पहले सप्ताह में ठीक होने वाले मरीजों का दैनिक औसत 15,000 था जो अगस्त के पहले सप्ताह में बढ़कर 50,000 से अधिक हो गए।


क

फोटो साभार: PIB_Delhi

अधिक मरीजों के ठीक होने और अस्पतालों तथा घरों में आइसोलेशन (बीमारी के हल्के और मध्यम मामलों में) से छुट्टी पाने के साथ अब तक ठीक होने वाले कुल लोगों की संख्या 16 लाख से अधिक होकर 16,39,599तक पहुंच गई है। इस बीमारी से ठीक होने की दर भी 70.38 प्रतिशत की एक नई उच्चाई पर पहुंच गई है।


देश में कोविड-19 बीमारी के कुल सक्रिय मामलों की संख्या अभी 6,43,948है जो इस बीमारी के अब तक के कुल पॉजिटीव मामलों का केवल 27.64 प्रतिशत है। इन्हें सक्रिय चिकित्सा देखरेख में रखा गया है। इस बीमारी से ठीक होने वालों की संख्या में लगातार वृद्धि के साथ इससे ठीक होने वाले मरीजों औरसक्रिय कोविड-19 मामलों के बीच का अंतर लगभग 10 लाख तक पहुंच गया है।


अस्पतालों में बेहतर और प्रभावी नैदानिक ​​उपचार पर ध्यान देने और रोगियों के शीघ्र तथा समय रहते उपचार के लिए उन्हें अस्पताल लाने के लिए एंबुलेंस की बेहतर और समन्वित सेवाओं के उपयोग के परिणामस्वरूप कोविड-19 रोगियों का सहज प्रबंधन हो पाया है। परिणामस्वरूप,वैश्विक औसत की तुलना में भारत में मृत्यु दर (सीएफआर) कम रहा है। यह वर्तमान में 1.98 प्रतिशत है।



भारत में टेस्ट, ट्रैक, ट्रीट यानी परीक्षण, निगरानी और उपचार की कार्यनीति की वजह से पिछले 24 घंटों में एक दिन में अब तक का सबसे अधिक 7,33,449 परीक्षण किए गए जो एक नई उपलब्धि है। इसके साथ ही अब तक कुल 2.6 करोड़ से अधिक लोगों के परीक्षण किए जा चुके हैं। टीपीएम यानी प्रति दस लाख की आबादी पर परीक्षण बढ़कर18,852 हो गया है।


श्रेणीबद्ध परीक्षण और उससे मिलने वाली प्रतिक्रियाओं के परिणामस्वरूप अब एक परीक्षण रणनीति बन गई है जिससे देश में परीक्षण सुविधाओं को लगातार बढ़ाया जा रहा है। इस रणनीति को बनाए रखने के लिएदेश में परीक्षण प्रयोगशाला नेटवर्क को लगातार मजबूत किया जा रहा है। आज देश भर में 1421 प्रयोगशालाएं कार्यरत हैं, इनमें सरकारी क्षेत्र की944 और निजी क्षेत्र की 477 प्रयोगशालाएं हैं। इसमें शामिल हैं:


• वास्तविक समय आरटी पीसीआर आधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: 724 (सरकारी: 431 + निजी: 293)


• ट्रूनेट आधारित परीक्षण प्रयोगशाला: 584 (सरकारी: 481 + निजी: 103)


• सीबीएनएएटीआधारित परीक्षण प्रयोगशालाएं: 113 (सरकारी: 32 + निजी: 81)


(सौजन्य से: PIB_Delhi)