Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ADVERTISEMENT
Advertise with us

कहीं काली पूजा तो कहीं कोलम डिजाइनों से सजे घर...देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे मनाई जाती है दिवाली

पश्चिम बंगाल दीपावली को काली पूजा के रूप में मनाता है जहां काली की देर रात पूजा की जाती है. विभिन्न क्षेत्रों में काली पूजा पंडाल बनाए जाते हैं, रंगोली बनाई जाती है. कुछ घरों में, गणेश की पूजा की जाती है.

कहीं काली पूजा तो कहीं कोलम डिजाइनों से सजे घर...देश के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे मनाई जाती है दिवाली

Sunday October 23, 2022 , 6 min Read

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, दिवाली या दीपावली कार्तिक महीने के 15वें दिन पर पड़ता है और इस साल 24 अक्टूबर को दियों के इस त्यौहार को मनाया जाएगा. दिवाली पर दिए, जगमगाती लाइटें, लैम्प्स, पटाखे और रंगोली सामान्य तौर पर देखने को मिल जाते हैं. हालांकि, बाकी त्यौहारों की तरह हिंदू धर्म के इस त्यौहार को भी देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है.

उत्तर भारत में हिंदुओं के लिए दिवाली 14 साल के वनवास के बाद पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ राम की अयोध्या वापसी का प्रतीक है. जब वे लौटे, तो राम का स्वागत दीयों के साथ किया गया था. रौशनी का यह जश्न पूरे राज्य में मनाया गया था. यह कार्तिक के महीने में एक अमावस्या का दिन था और चारों ओर अंधेरा था. इस तरह, दीयों को जलाना बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है.

उत्तर भारत में दीया, रंगोली और आतिशबाजी दिवाली की पहचान

उत्तर प्रदेश, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, बिहार और आसपास के इलाकों में आज भी दीया और आतिशबाजी की परंपरा जारी है, जबकि हिमाचल प्रदेश, दिल्ली और पंजाब में लोग दिवाली की रात को जुआ खेलते हैं, क्योंकि इसे शुभ माना जाता है.

भले ही सिख दिवाली नहीं मनाते हैं, लेकिन वे उत्सव में हिस्सा लेते हैं और अपने घरों को मोमबत्तियों और दीयों से रोशन करते हैं. पंजाब में गुरुद्वारों को दीवाली की रात रोशन किया जाता है. दिल्ली, यूपी और आसपास के अन्य भारतीय राज्यों में, घरों को मोमबत्तियों, रोशनी, दीयों, बंधनवारों और रंगोली से सजाया जाता है और रात में लक्ष्मी पूजा की जाती है.

कुछ घरों में भक्त दूध के गिलास में चांदी का सिक्का भी डालते हैं, जिसे बाद में खरीदारी, सफाई, जुआ, रिडेकोरेशन, सफेदी, घर की सजावट, उपहारों और मिठाइयों का आदान-प्रदान करने के साथ-साथ परंपरा के रूप में सभी कमरों में छिड़का जाता है.

दिवाली का इतिहास प्राचीन भारत से जुड़ा हुआ है, जिसके साथ कई किंवदंतियाँ जुड़ी हुई हैं. बहुत से लोग मानते हैं कि दिवाली वह उत्सव है जो विष्णु के साथ लक्ष्मी की शादी का प्रतीक है, जबकि अन्य इसे लक्ष्मी के जन्म का उत्सव मानते हैं, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि उनका जन्म कार्तिक की अमावस्या के दिन हुआ था.

पश्चिम बंगाल में होती है काली पूजा

पश्चिम बंगाल दीपावली को काली पूजा के रूप में मनाता है जहां काली की देर रात पूजा की जाती है. विभिन्न क्षेत्रों में काली पूजा पंडाल बनाए जाते हैं, रंगोली बनाई जाती है. कुछ घरों में, गणेश की पूजा की जाती है.

वहां, दिवाली की रात को पूर्वजों या पितृपुरुष की रात माना जाता है. प्राचीन बंगाल की एक प्रथा का पालन करते हुए वहां स्वर्ग के रास्ते पर उनकी आत्माओं का मार्गदर्शन करने के लिए लंबे खंभों पर दीया जलाया जाता है. ओडिशा में हिंदू समुदाय भी दिवाली पर पूर्वजों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है.

पूर्वी भारत में घरों के दरवाजे रखते हैं खुले

पूर्वी भारत में, दीपक, मोमबत्ती, दीये और पटाखे फोड़ने की रस्में समान रहती हैं, लेकिन इसके अलावा, कुछ भक्त लक्ष्मी के प्रवेश के लिए अपने घरों के दरवाजे खुले रखते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि देवता अंधेरे घर में प्रवेश नहीं करते हैं.

पश्चिमी भारत में करते हैं नए कारोबार की शुरुआत

पश्चिमी भारत में त्योहार ज्यादातर व्यापार से जुड़ा होता है जहां नए कारोबार की शुरुआत, संपत्ति की खरीद, ऑफिस और दुकानों का उद्घाटन और विवाह जैसे विशेष अवसरों को शुभ माना जाता है. दिवाली से कुछ दिन पहले, पश्चिमी भारत के बाजारों में दिवाली के खरीदारों की भीड़ होती है, जबकि लक्ष्मी के स्वागत के लिए रंगोली बनाना और पेंटिंग करना दिवाली समारोह का एक अभिन्न अंग है, जो गुजरातियों के लिए नया साल है.

गुजरात में दिवाली का एक बहुत ही शुभ रिवाज है कि एक दीया घी से जलाया जाता है और पूरी रात जलता रहता है और फिर अगली सुबह इस दीये से लौ को इकट्ठा करके काजल बनाने के लिए उपयोग किया जाता है. इसे महिलाएं अपनी आंखों पर लगाती हैं. ऐसा माना जाता है कि इससे पूरे साल समृद्धि आती है.

महाराष्ट्र में हिंदू चार दिनों के लिए दिवाली मनाते हैं, जिसमें वसुबार पहले दिन होते हैं और एक मां और उसके बच्चे के बीच प्यार को दर्शाने के लिए गायों और बछड़ों की आरती की जाती है. धनतेरस या धनत्रयोदशी दूसरे दिन मनाया जाता है.

तीसरा दिन नरकचतुर्दशी होता है, जहां लोग सुबह-सुबह सुगंधित तेल से स्नान करते हैं और मंदिर जाते हैं, फिर फरल नामक एक विशेष दिवाली दावत देते हैं जिसमें करंजी और लड्डू जैसी स्वादिष्ट मिठाइयां और चकली और सेव जैसे मसालेदार खाने होते हैं. चौथा दिन मुख्य दीवाली का दिन होता है, जब धन और आभूषण जैसी वस्तुओं की पूजा करके लक्ष्मी पूजा की जाती है.

दक्षिण भारत में घरों को कोलम डिजाइनों से सजाने का रिवाज

दक्षिण भारत में दिवाली का त्यौहार तमिल महीने Aippasi (आइपासी) यानी हिंदी में अश्विन या कुंवार में मनाया जाता है, जहां नरक चतुर्दशी उत्सव का मुख्य दिन होता है. नरक चतुर्दशी से एक दिन पहले, ओवन को साफ किया जाता है, फिर चूने के साथ लेपित किया जाता है, उस पर धार्मिक प्रतीकों को खींचा जाता है, पानी से भरा जाता है और फिर मुख्य दिन तेल स्नान के लिए उपयोग किया जाता है.

उत्तर भारत की तरह रंगोली के बजाय दक्षिण भारत में हिंदू अपने घरों को कोलम डिजाइनों से सजाते हैं. तेल स्नान के बाद, नए कपड़े पहने जाते हैं और पटाखे फोड़े जाते हैं. इसके साथ-साथ थलाई दीपावली भी मनाई जाती है जिसमें एक और अनोखी रस्म होती है, जहां नवविवाहित अपनी पहली दिवाली दुल्हन के पैतृक घर में बिताते हैं.

आंध्र प्रदेश हरिकथा या हरि की कहानी के संगीतमय वर्णन के साथ दिवाली मनाता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कृष्ण की पत्नी सत्यभामा ने राक्षस नरकासुर का वध किया था, इसलिए सत्यभामा की विशेष मिट्टी की मूर्तियों की पूजा की जाती है.

कर्नाटक में भी, दिवाली या अश्वविज कृष्ण चतुर्दशी का दिन लोगों के तेल स्नान से शुरू होता है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि कृष्ण ने नरकासुर को मारने के बाद अपने शरीर से खून के धब्बे हटाने के लिए तेल स्नान किया था. कर्नाटक में, बाली पद्यमी दिवाली का तीसरा दिन है, जिसे महिलाओं द्वारा अपने घरों में रंगीन रंगोली बनाने, गाय के गोबर से किले बनाने और राजा बाली से जुड़ी कहानियों को सुनाने के साथ मनाया जाता है.


Edited by Vishal Jaiswal