पेट्रोल-डीजल की गाड़ियों को हटाएगी सरकार, दो साल में 10 हजार इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने की तैयारी

By yourstory हिन्दी
October 03, 2022, Updated on : Tue Oct 04 2022 19:15:31 GMT+0000
पेट्रोल-डीजल की गाड़ियों को हटाएगी सरकार, दो साल में 10 हजार इलेक्ट्रिक गाड़ियां खरीदने की तैयारी
कन्वर्जेंस इनर्जी सर्विसेज (CESL) एक सरकारी कंपनी है जो कि केंद्र और राज्य सरकार के विभागों के लिए इनेक्ट्रिक वाहनों की खरीद का काम देखती है. फिलहाल, देशभर में केंद्र और राज्य सरकारों के पास करीब 6 लाख पेट्रोल और डीजल कारें मौजूद हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश के चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों के आने के साथ ही केंद्र सरकार अब अपने पेट्रोल-डीजल कारों को इलेक्ट्रिक वाहनों से बदलने की तैयारी कर रही है. केंद्र जल्द ही 3500 इलेक्ट्रिक गाड़ियों (EVs) को खरीदने का टेंडर जारी करने जा रही है. कन्वर्जेंस इनर्जी सर्विसेज (CESL) ने कहा है कि जैसे-जैसे मार्केट में अफोर्डेबल चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या बढ़ती जाएगी, वैसे-वैसे इस मुहिम का दायरा बढ़ता जाएगा और पेट्रोल-डीजल की जगह इलेक्ट्रिक वाहनों को बदल दिया जाएगा.


बता दें कि, कन्वर्जेंस इनर्जी सर्विसेज (CESL) एक सरकारी कंपनी है जो कि केंद्र और राज्य सरकार के विभागों के लिए इनेक्ट्रिक वाहनों की खरीद का काम देखती है. फिलहाल, देशभर में केंद्र और राज्य सरकारों के पास करीब 6 लाख पेट्रोल और डीजल कारें मौजूद हैं.


इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, CESL के सीईओ महुआ आचार्या ने बताया कि कंपनी से 3500 इलेक्ट्रिक वाहनों की आपूर्ति करने की मांग की है और इसके लिए जल्द ही टेंडर जारी किया जाएगा. उन्होंने कहा कि भले ही फिलहाल यह संख्या 3500 हो लेकिन दो सालों के अंदर ही यह संख्या बढ़कर 10 हजार तक पहुंच सकती है.


आचार्या ने आगे कहा कि इसके अतिरिक्त, फ्लीट सेगमेंट में इलेक्ट्रिक वाहनों की पैठ बढ़ाने का अवसर है. यूजेज पैटर्न और अर्थशास्त्र को देखते हुए, फ्लीट एक ऐसा क्षेत्र है जहां बड़े पैमाने पर बाजार में पेश किए जा रहे अधिक विकल्पों के साथ EV 4W की बिक्री शुरू हो सकती है.


CESL की ओर से ताजा टेंडर ऐसे समय में जारी होने जा है जब देश में लोग तेजी से EV को अपना रहे हैं. मार्केट में पैसेंजर व्हिकल EV की बिक्री पहली बार 50,000 को पार करने के लिए तैयार है.


बता दें कि, पिछले हफ्ते ही टाटा मोटर्स Tata Motors ने अपनी 10 लाख रुपये से भी कम कीमत की EV कार उतारी है. इसके साथ ही, EV मार्केट में अफोर्डेबल गाड़ियों की संख्या बढ़ने की उम्मीद की जाने लगी है. टाटा मोटर्स ने पहले 10,000 खरीदारों के लिए 8.49-11.79 लाख (एक्स-शोरूम) की कीमत पर टियागो लॉन्च की है.


यही नहीं कंपनी ने अभी मार्केट में मौजूद SUV Nexon और Sedon Tigor के इलेक्ट्रिक वेरिएंट भी पेश किया है. टाटा मोटर्स अगले एक साल में Altroz EV और Punch EV के साथ आने वाली है, इससे 15 लाख की कैटेगरी में गाड़ियों की चाह रखने वालों के लिए विकल्प बढ़ जाएंगे.


आचार्य ने बताया कि सरकारी कर्मचारियों को 15-17 लाख रेंज के इलेक्ट्रिक वाहन पसंद आ रहे हैं. इस तरह उनके लिए मौजूदा Nexon EV सबसे सही है. कुल मिलाकर, लगभग 20 EV अगले तीन वर्षों में भारतीय सड़कों पर उतरने के लिए तैयार हैं.


Edited by Vishal Jaiswal