एलन मस्क के हाथ Twitter की कमान, CEO पराग अग्रवाल समेत कई बड़े अधिकारियों ने छोड़ी कंपनी

By रविकांत पारीक
October 28, 2022, Updated on : Fri Oct 28 2022 04:59:16 GMT+0000
एलन मस्क के हाथ Twitter की कमान, CEO पराग अग्रवाल समेत कई बड़े अधिकारियों ने छोड़ी कंपनी
एलन मस्क की ट्विटर के साथ 44 बिलियन डॉलर की डील को पिछले कई महीने से खींचतान चल रही थी. मस्क ने ट्विटर के शीर्ष अधिकारियों पर उन्हें गुमराह करने के आरोप लगाए हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

एलन मस्क (Elon Musk) और माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर (Twitter) की डील आखिरकार पूरी हो गई है. इसी के साथ मस्क कंपनी के नए चीफ इन चार्ज बन गए हैं. लेकिन एलन के कमान संभालते ही ट्विटर में कई बड़े फेरबदल देखने को मिल रहे हैं.


समाचार एजेंसी ANI ने अमरीकी मीडिया के हवाले से बताया कि ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल और चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर नेड सेगल (Ned Segal) समेत कई बड़े अधिकारियों ने कंपनी के सैन फ्रांसिस्को स्थित हेडक्वार्टर को छोड़ दिया और वे कभी वापस नहीं लौटेंगे.


वहीं, मीडिया में आई खबरों में बताया जा रहा है कि इन अधिकारियों को कंपनी से निकाला गया है. असल में, दोनों बातों के अलग मायने हैं.


‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने अपनी खबर में कहा कि मस्क ने बृहस्पतिवार को ट्विटर को खरीदने के 44 अरब अमेरिकी डॉलर के करार को अमलीजामा पहना दिया. खबर में इस मामले की जानकारी रखने वाले लोगों के हवाले से कहा गया है कि मस्क ने “कम से कम चार शीर्ष कार्यकारी अधिकारियों को हटाने के साथ ही ट्विटर से अधिकारियों की छुट्टी का सिलसिला शुरू कर दिया है.”


खबर के मुताबिक, ट्विटर के जिन कार्यकारी अधिकारियों को हटाया गया है, उनमें अग्रवाल और सेगल के अलावा कंपनी की पॉलिसी हेड विजया गाड्डे और जनरल काउंसिल सियान एजेट के नाम शामिल हैं.


‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की खबर के अनुसार, “पिछले साल ट्विटर के सीईओ नियुक्त किए गए अग्रवाल की मस्क के साथ सार्वजनिक और निजी रूप से कहासुनी हो गई थी. मस्क ने ‘कंटेंट मॉडरेशन’ (ऑनलाइन सामग्री की निगरानी और छंटनी की प्रक्रिया) के मामले में गाड्डे की भूमिका की भी सार्वजनिक तौर पर आलोचना की थी.”


अग्रवाल को पिछले साल नवंबर में कंपनी के सह-संस्थापक जैक डोर्सी के इस्तीफे के बाद ट्विटर का सीईओ नियुक्त किया गया था.


मस्क की ट्विटर के साथ 44 बिलियन डॉलर की डील को पिछले कई महीने से खींचतान चल रही थी. मस्क ने ट्विटर के शीर्ष अधिकारियों पर उन्हें गुमराह करने के आरोप लगाए हैं.


एलन मस्क पहले ही कह चुके हैं कि वे ट्विटर में बेहद कम कर्मचारियों को रखेंगे, और बड़ी संख्या में छंटनी होगी.


अधिगृहण के बाद एलन मस्क ने ट्वीट करते हुए लिखा, “ट्विटर का अधिग्रहण करने की वजह ये है कि हमारी आने वाली सभ्यता के पास एक कॉमन डिजिटल स्पेस होना चाहिए, जहां अलग-अलग विचारधारा, विश्वास के लोग बिना हिंसा के स्वस्थ चर्चा कर सकें."


हाल ही में, मस्क की ओर से शेयर किए गए एक वीडियो में उन्हें ट्विटर मुख्यालय के परिसर में एक ‘सिंक’ ले जाते हुए देखा जा सकता है.


गौरतलब हो कि ट्विटर की 44 बिलियन डॉलर की डील विवादों से भरी हुई थी. कई बार तो इस बात को लेकर संशय रहा कि, एलन मस्क इस डील को पूरी करेंगे भी या नहीं. पिछले दिनों मस्क को डील पूरी करने के लिए शुक्रवार तक का वक्त दिया गया था. जिसमें उन्हें चेतावनी दी गई थी कि, यदि वो ऐसा नहीं कर पाते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी.


बहरहाल, अब ये डील पूरी हो गई है. सभी शंकाओं पर पूर्णविराम लग गया है. लेकिन दुनियाभर के लोगों के जेहन में एक दिलचस्प सवाल उभर कर आ रहा है, "क्या एलन मस्क, पूर्व अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ट्विटर पर वापस लाएंगे?"


बता दें कि ट्विटर ने ट्रंप का अकाउंट सस्पेंड कर दिया था.