10 हजार रुपये के साथ शुरू की थी ईकॉमर्स कंपनी अब हर महीने 50 लाख रुपये का राजस्व कमाता है यह 26 वर्षीय इंजीनियर

10 हजार रुपये के साथ शुरू की थी ईकॉमर्स कंपनी अब हर महीने 50 लाख रुपये का राजस्व कमाता है यह 26 वर्षीय इंजीनियर

Monday October 07, 2019,

6 min Read

2014 में, जुबैर रहमान तमिलनाडु के तिरुपुर में एक सीसीटीवी ऑपरेटर के रूप में काम करते थे। दरअसल कॉलेज से निकलने के बाद 21 वर्षीय इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर लोगों के ऑफिसों में जाकर अपने परिसर में सीसीटीवी लगाता था। लेकिन उनका दिल कहीं और था। जुबैर अपना खुद का व्यवसाय शुरू करना चाहते थे। हालाँकि, वह स्पष्ट नहीं थे कि उन्हें किस क्षेत्र में उद्यम करना चाहिए।


एक दिन, अचानक उनके दिमाग में एक आइडिया आया जब उन्हें एक ई-कॉमर्स कंपनी के कार्यालय में सीसीटीवी लगाने की रिक्वेस्ट मिली। वह याद करते हैं:


“मैं सीसीटीवी लगाने के लिए गया था लेकिन कंपनी के संचालन के बारे में जानने के लिए उत्सुक था। मैंने वहां के मैनेजर से बात की, और उन्होंने मुझे बताया कि कैसे कंपनी ऑनलाइन सोर्सिंग और आइटम बेचकर पैसा कमा रही है।”

और जुबैर को आइडिया पसंद आया।


k

 जुबैर रहमान

कंपनी की शुरुआत

जुबैर ने महसूस किया कि कपड़ा ही सबसे अच्छा प्रोडक्ट है जिसे वह तिरुपुर से सोर्स कर सकते हैं। तिरुपुर को एक अच्छे कारण के लिए भारत की निटवेअर कैपिटल (knitwear capital) के रूप में जाना जाता है: यहां एक मजबूत कपड़ा निर्माण पारिस्थितिकी तंत्र है, जहां भारत के कपास निटवेअर निर्यात का 90 प्रतिशत का हिसाब किताब होता है।


वे कहते हैं,


“मैंने अपना ग्राउंडवर्क करने में दो महीने बिताए और तिरुपुर में विभिन्न कपड़ा निर्माताओं से मुलाकात की। मैंने अपने दोस्तों से कपड़ा सोर्स करने में मदद और यह पता लगाने के लिए भी बात की कि किस तरह के कपड़े ऑनलाइन अच्छी तरह से बिकेंगे।"


अब तक, उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी थी और एक उद्यमी बनने के लिए दृढ़ थे। यह उनके लिए एक साहसिक कदम था, खासकर बेरोजगारी संकट से गुजर रहे भारत के एक इंजीनियर के लिए। टैलेंट इवेलुएशन कंपनी एस्पायर माइंड्स की 2019 की एम्प्लॉयबिलिटी रिपोर्ट के अनुसार, 2010 के बाद से भारतीय इंजीनियरिंग स्नातकों की रोजगार क्षमता में कोई सुधार नहीं हुआ है।


रिपोर्ट में कहा गया है कि स्थिति इतनी भयावह है कि देश के 80 प्रतिशत से अधिक भारतीय इंजीनियर बेरोजगार हैं। इसलिए, जुबैर ने अपनी नौकरी छोड़ने का फैसला संभवतः बिना किसी रिटर्न के किया था। इसके अलावा, वे आर्थिक रूप से भी ज्यादा मजबूत नहीं थे। 2015 में, उन्होंने अपने घर में 'फैशन फैक्टरी' शुरू करने के लिए सिर्फ 10,000 रुपये का निवेश किया।


वह कहते हैं,


“मेरा अधिकांश पैसा मेरे व्यवसाय को पंजीकृत करने और जीएसटी नंबर प्राप्त करने में चला गया। इसलिए मुझे छोटे से शुरू करना पड़ा: मैंने छोटी संख्या में कपड़े खरीदना शुरू कर दिया और उन्हें ऑनलाइन बेचने की कोशिश की।”

स्केलिंग अप

इन शुरुआती दिनों में, जुबैर ने फ्लिपकार्ट और फिर अमेजॉन पर कपड़े लिस्टेड करना शुरू किया। उन्हें दिन में सिर्फ एक या दो ऑर्डर मिल रहे थे, लेकिन रफ्तार बढ़ रही थी। जुबैर ने पाया कि उनकी पांच या छह युनिट्स के कॉम्बो पैक में बच्चों के कपड़े लोगों का ध्यान ज्यादा आकर्षित कर रहे हैं। हालांकि इसका मतलब यह था कि उन्होंने प्रत्येक पैक को 550 रुपये से 880 रुपये के बीच में बेचा और प्रत्येक बिक्री पर उन्होंने जो मार्जिन पाया वह अपेक्षाकृत कम था।


वह बताते हैं,


“जो कपड़े अलग-अलग बेचे जाते थे वे थोड़े महंगे थे इसलिए उन्हें कॉम्बो पैक में बेचना सस्ता था। मुझे प्रति बिक्री कम लाभ मिल रहा था, लेकिन मेरी हर यूनिट की कीमतों ने लोगों का बहुत ध्यान आकर्षित किया और मेरे ऑर्डर की संख्या जल्द ही बढ़ गई।”


ऑर्डर की बढ़ती संख्या को देखते हुए जुबैर ने तय किया कि वह अधिक मुनाफा कमाने के लिए बड़े संस्करणों पर ध्यान केंद्रित करेंगे। जुबैर अपने साथी निर्माताओं के पास गए और उनसे अपनी इनवेंट्री में और अधिक उत्पादों को जोड़ने की मांग की।


जैसे-जैसे ऑर्डर की संख्या बढ़ती गई, उन्होंने अपने होम सेटअप से बाहर जाकर एक विनिर्माण इकाई शुरू की जिसमें उन्होंने 30,000 रुपये का निवेश किया। न केवल बच्चों के कपड़े बल्कि ब्वॉयज टी शर्ट, पजामा, ट्रैक पैंट, स्वेटशर्ट और भी बहुत कुछ बनाने के लिए ये फैसिलिटी स्थानीय कपड़े का उपयोग करती है।

नंबरों का खेल

जुबैर की रणनीति ने इतनी अच्छी तरह से काम किया कि 'द फैशन फैक्टरी' को अब हर दिन 200 से 300 ऑर्डर मिलते हैं। वह दावा करते हैं कि इन ऑर्डर को पूरा करने के बाद, जुबैर की कंपनी हर महीने लगभग 50 लाख रुपये का राजस्व कमाती है।


वे कहते हैं,

“हमने अमेजॉन को बेचने के लिए एक एक्सक्लूसिव डील भी साइन की। हम हर महीने 20 लाख से 30 लाख यूनिट की कुल बिक्री देख रहे हैं।"


जुबैर बताते हैं कि फैशन फैक्टरी सालाना 6.5 करोड़ रुपये का राजस्व कमाती है, और अगले एक साल में 12 करोड़ रुपये का लक्ष्य रखा है। तेजी से मिली सफलता के बावजूद, उद्यमी नियमित रूप से अपना काम कर रहा है। “ऑनलाइन सेलिंग अभी ट्रेंड कर रही है। बहुत सारे लोग एक समान मॉडल को फॉलो कर रहे हैं क्योंकि कपड़ा निर्माता ऑनलाइन बेचने का तरीका नहीं जानते हैं।” हालांकि, जुबैर का मानना है कि इस कंपटीशन में उन्हें बढ़त हासिल है। उनके अनुसार, एक समान व्यवसाय शुरू करना आसान है, लेकिन अपने अनुभव के बिना इसे चलाना मुश्किल है।


वे कहते हैं,

“फैशन फैक्ट्री चलाने के मेरे अनुभव के अलावा, मेरे पिता एक वस्त्र निर्माण पृष्ठभूमि से आते हैं। बहुत सारी वित्तीय चुनौतियों का सामना करने से पहले तक उन्होंने एक कपड़ा व्यवसाय चलाया था। हालांकि जब वे बीमार पड़ गए तो उन्होंने इसे बंद कर दिया।”


व्यवसाय को सफलतापूर्वक बढ़ाने के दौरान जुबैर के सामने भी कई कठिनाइयां आईं। तिरुपुर स्थित उद्यमी का कहना है कि फंडिंग उनकी सबसे बड़ी बाधा है।


वे कहते हैं,


“मैं हमेशा ऑर्डर को पूरा करने के लिए अपने विनिर्माण को बढ़ाने में सक्षम नहीं हूं। मुझे ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी के माध्यम से एक बार आंध्रा बैंक से सपोर्ट मिला, लेकिन मैं अभी भी अधिक फंड की तलाश में हूं।”


अधिक फंडिंग के साथ, यह इंजीनियर अधिक डिजाइन पेश करने और एक बड़ी निर्माण इकाई में जाने की योजना बना रहा है। वह दुबई में खुदरा विक्रेताओं को बेचने और अपने ब्रांड को वैश्विक स्तर पर ले जाने की योजना भी बना रहे हैं।