भारत के सबसे पुराने व्यापारिक साम्राज्यों के बादशाह रतन टाटा के दिल के अंदर की कहानी

By Shradha Sharma
December 11, 2019, Updated on : Sat Aug 27 2022 06:42:48 GMT+0000
भारत के सबसे पुराने व्यापारिक साम्राज्यों के बादशाह रतन टाटा के दिल के अंदर की कहानी
श्री रतन टाटा उन भारतीय कारोबारी नेताओं में से एक हैं जिन्होंने इस बात की वकालत की कि भारत में परोपकार को वंचित समुदायों के जीवन में बदलाव लाने के लिए डिजाइन किया जाए, न कि केवल इमारतें बनाने और मंदिरों को दान करने के लिए।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नवंबर की सर्द सुबह, मैं मुंबई के लिए मॉर्निंग में फ्लाइट पकड़ने के लिए बाहर निकली। ठंड से मेरे उत्साह पर कोई कमी नहीं थी। बल्कि, सुबह की हवा की वो ताजगी मेरे कदमों को और तेज कर रही थी। इससे अगली सुबह के लिए मेरा उत्साह और बढ़ गया क्योंकि काफी लंबे समय के इंतजार के बाद मुझे अगली सुबह टाटा संस एंड टाटा ट्रस्ट्स के चेयरमैन श्री रतन नवल टाटा का इंटरव्यू करना था। मैंने कुछ साल पहले मिस्टर रतन टाटा का इंटरव्यू लिया था।


सही कहूं तो ठीक 4 साल पहले। उस समय, मिस्टर टाटा की मुझे एक दुर्लभ झलक देखने को मिली, वह मुझे बेहद विनम्र व्यक्ति लगे। अगर आज के इंटरव्यू को जोड़ लें तो, मैं उन सौभाग्यशाली लोगों में से हूँ, जिन्हें श्री टाटा का इंटरव्यू करने का मौका एक बार नहीं बल्कि दो बार मिला है। कैसे भी लेकिन इस बार, यह और ज्यादा स्पेशल लगा। अधिक व्यक्तिगत। अधिक अद्वितीय।


k

श्री रतन नवल टाटा, Chairman Emeritus of Tata Sons and Chairman of the Tata Trusts

इस बार, इंटरव्यू भारत के सबसे प्रभावशाली बिजनेस लीडर्स में से एक टाटा समूह के 81 वर्षीय मुखिया के घर पर होने वाला था- जो अपने जीवन के अधिकांश भाग के लिए जनता की नजरों से काफी हद तक दूर रहे।


यही कारण है कि मैंने खुद को उनके घर के अंदर और उनके व्यक्तिगत स्थान में जाने के लिए बहुत आभारी महसूस किया। हालांकि जब मैं श्री रतन टाटा के अरब सागर की तरफ मुख वाले घर के अंदर पहुंची तो, मैं जगह की सादगी और शांत भव्यता से काफी प्रभावित हुई। मैं घर की सफेद रंग की दीवारों को देखती और आश्चर्य करती कि क्या श्री टाटा को पता भी है कि सफेद दीवारों को 'इंस्टाग्राम गोल्ड' के रूप में संदर्भित किया जाता है? 'यह एक ऐसा टेस्ट है जो उनमें और मिलेनियल्स व आज के सोशल मीडिया इनफ्लूएंयर्स में कॉमन है। आश्चर्यजनक रूप से, श्री टाटा के घर की सफेद-रंग की दीवारें आसपास के क्षेत्र में एक पुरानी दुनिया को आकर्षित करती हैं। जैसा कि समुद्र की दीवार पर लहरों की आवाज टकराती है।


मैंने उनका ड्राइंग-रूम देखा, बहुत कम इंटीरियर और पॉलिश्ड फर्नीचर के बावजूद अरब सागर के नीले पानी का नजारा इस पल की भव्यता को और बढ़ाता है।


बाहर, मैंने एक स्विमिंग पूल देखा जिसे अच्छी तरह के मेंटेन किया हुआ था और अच्छी तरह से इस्तेमाल किया जाने वाला पूल था। लेकिन मुझे आश्चर्य हुआ है कि क्या मिस्टर टाटा उसमें तैरते होंगे।


तभी उनके सहयोगी ने मुझे बताया कि ये पूल टाटा के पालतू कुत्तों के लिए है। श्री टाटा का कुत्तों के प्रति प्रेम जगजाहिर है, और एक पालतू जानवर के मालिक के रूप में, मुझे ईर्ष्या या शायद अफसोस की अनुभूति हुई, क्योंकि मेरे कुत्तों को इस तरह की लग्जरी नहीं मिली। फिर भी, इन सबके अलावा, घर के आसपास भव्यता का कोई स्पष्ट, जोर से प्रदर्शन नहीं होता है। बस सादगी और शैली का एक जबरदस्त अर्थ है जो एक शांत और गरिमापूर्ण भव्यता का मार्ग प्रशस्त करता है।


k

योरस्टोरी की फाउंडर और सीईओ श्रद्धा शर्मा के साथ श्री रतन नवल टाटा

मैं अभी भी अपने चारो ओर देख रही हूं, तभी श्री रतन टाटा ड्राइंग-रूम में प्रवेश करते हैं, तो उस स्थान के बारे में उस पुरानी दुनिया के आकर्षण को जोड़ देते हैं। एक सिंपल, साफ सफेद शर्ट और खाकी रंग की पैंट पहने, श्री टाटा ने मेरा अपने क्लासिक सम्मानजनक, शांत तरीके से अभिवादन किया।


श्री रतन टाटा के बारे में एक अदम्य विनम्रता और दया है जो उनसे मिलने पर तुरंत स्पष्ट हो जाती है। दरअसल, उनकी शांत गरिमा और प्रामाणिकता अब वो पहचान बन गई है, जिससे टाटा वंशज को जाना जाता है।

मानवीय होना

मैं उनके ड्राइंग-रूम में उनके पास बैठी, और बिना कोई समय बर्बाद किए मैं सीधे मुद्दे पर उतर आई। मैंने उनसे पूछा: वह कौन सी क्वालिटी है जो उन्हें लगती है कि वो उन्हें सही से परिभाषित करती है?


वह थोड़े से आश्चर्यचकित होते हैं और फिर एक गहन ईमानदार और मार्मिक उत्तर देते हैं,

"मेरे लिए यह कहना मुश्किल है, सिवाय इसके कि मैंने सभी लोगों के साथ समान व्यवहार करने की कोशिश की है।"

वे धीरे-धीरे और विचारपूर्वक बोलते हैं, ऐसा लगता है जैसे कि वे अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए सिर्फ सही शब्दों की खोज कर रहे हैं।


वे कहते हैं,

"चाहे वह सड़क पर एक गरीब व्यक्ति हो या एक करोड़पति या अरबपति के सामने पत्रिकाएं बेचने वाला बच्चा हो, मैं उनसे बात करता हूं और सभी के साथ उसी तरह व्यवहार करता हूं। मुझे पता है कि मैं ऐसा करता हूं, और मैं ऐसा दिखावे के लिए नहीं करता हूं, बल्कि इस भावना के कारण करता हूं कि मुझे लगता है कि हर कोई एक इंसान के रूप में मान्यता पाने का हकदार है।"


k

अपने डॉग के साथ श्री रतन टाटा

वे जो भी शब्द बोलते हैं उसके पीछे एक उद्देश्य और उसका महत्त्व होता है। सही कहूं तो, मैं लगभग उनकी आवाज में सवाल सुन सकती हूं - वह चीज जो प्रत्येक दयालु, सहानुभूतिपूर्ण और चिंतित आत्मा को पीड़ित करती है: क्या सभी लोगों के साथ समान व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए? क्या हर कोई जीवन में एक समान अवसर का हकदार नहीं है?


ये सब कहने के बाद वह आगे विस्तार से बताने से पहले कुछ देर खामोश रहते हैं, इससे उनके शब्दों की गहराई में डूबने की अनुमति मिलती है।


वे मुझसे कहते हैं,

“कुछ लोगों को दुख को देखने और उसे पैदा करने में आनंद मिलता है। मुझे दूसरे की खुशी देखकर खुशी मिलती है। फिर चाहे भले ही वो सड़क के किनारे सब्जियां बेचने वाला व्यक्ति हो, अगर उसके चेहरे पर हास्य या खुशी है, तो मुझे उससे खुशी मिलती है।"


यह उनका बेहद मानवीय और दयालु पक्ष है जो हमारी घंटे भर की बातचीत के दौरान खुद कई बार सामने आता है। जैसा कि नैतिक मूल्यों और नैतिकता प्रणाली का उनका अपना एक सेट है जिसे वे तब से फॉलो कर रहे हैं जब वे लड़के थे।


श्री रतन टाटा मुझसे कहते हैं,

“मैं अपनी दादी का बहुत अहसानमंद हूं जिन्होंने मेरे भाई को और मुझे पाला। उन्होंने हमें वही सिखाया जिसे वह उचित समझती थीं। और मुझे लगता है कि इसका मेरे और मेरे मूल्य प्रणालियों पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ा है।”


श्री टाटा ने कई साक्षात्कारों में, अपनी दादी, लेडी नवाजबाई टाटा के बारे में कई बातें बताईं हैं, जो उनके लिए प्रेरणा रही हैं। श्री टाटा और उनके छोटे भाई, जिमी, दोनों को उनकी दादी ने मुंबई के एक बारोक मनोर में पाला-पोशा था जिसे अब टाटा पैलेस के नाम से जाना जाता है।

सही चीज़ करना

लेडी नवाजबाई ने अपने पोतों में उन मूल्यों का एक मजबूत समुच्चय स्थापित किया - जिन मूल्यों को श्री टाटा ने अपने पूरे जीवनभर निभाया और अब आज के युवा और आकांक्षी नेताओं में स्थापित करना चाहते हैं। युवाओं को श्री रतन टाटा की पहली और सबसे महत्वपूर्ण सलाह यह है कि वे सभी बाधाओं के खिलाफ सही काम करें।


k

छात्र जीवन के दौरान श्री रतन टाटा, Cornell University


वे कहते हैं,

"हो सकता है कि सही काम करना और अधिक कठिन विकल्प हो, लेकिन यह अभी भी बेहतर विकल्प है।"

वे सलाह देते हैं कि केवल दिखाने के लिए चीजों को नहीं करना चाहिए। 


वे आगे कहते हैं,

“दूसरी बात यह कि: दूसरों के हित के लिए काम करो। बड़े व्यवसायों और निगमों को लगता है कि दूसरे संगठन को मारना कोई बड़ी बात नहीं है क्योंकि यह उनके व्यवसाय के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहा है। कंपनियों को अन्य कंपनियों को सिर्फ एक दराज में दफनाने के लिए खरीदने के लिए जाना जाता है। जिसने मुझे हमेशा परेशान किया है। इसलिए, यदि आप किसी अन्य कंपनी या किसी अन्य व्यक्ति की समृद्धि के बारे में खुशी महसूस कर सकते हैं, तो यह खुशी की सबसे करीबी परिभाषा होगी।”


यह बताता है कि श्री टाटा की विफलताओं में से एक उनकी न कहने की असमर्थता है। लेकिन इस असफलता में भी, एक गहरी विनम्रता और सच्ची व्याख्या है।


वे कहते हैं,

"मुझे बस लोगों के लिए दरवाजा बंद करने में समस्या है। मैं उन्हें खुश देखना चाहूंगा। इसलिए, यह कहना कि मेरे पास किसी को देखने और निराशा के बारे में सोचने का समय नहीं है, ये गलत है। ये मुझे परेशान करता है।"

श्री टाटा कहते हैं कि उनके लिए यही सब कुछ है: सहानुभूति की एक मजबूत भावना और जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों के साथ एकता, और सभी को देखने की समान रूप से मजबूत इच्छा खुशी और सफलता के लिए समान अवसर।

रतन टाटा का सपना: एक समान अवसर वाला भारत

टेल्को शॉप - जिसे अब टाटा मोटर्स के नाम से जाना जाता है- की फर्श पर अपने करियर की शुरुआत करने से लेकर, श्री रतन टाटा ने कम भाग्यशाली लोगों के सामने आने वाली हर कठिनाइयों और चुनौतियों को देखा। इसने उन्हें गहराई से सोचने के लिए मजबूर किया, यहां तक कि जब वे बीस साल के थे तभी से उन्होंने कम विशेषाधिकार प्राप्त लोगों के जीवन को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए क्या कर सकते हैं इस बारे में सोचना शुरू कर दिया था।


क

जेआरडी टाटा के साथ रतन टाटा

यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है, जब मैं मिस्टर टाटा से पूछती हूं कि वे आज क्या सपने देखते हैं, तो वह बताते हैं कि एक समान अवसर वाला देश है, अमीर और गरीब के बीच मौजूदा असमानता के बिना।


वे कहते हैं,

“मैं एक ऐसे भारत का सपना देखता हूँ जो एक समान अवसर वाला देश हो - एक ऐसा देश जहाँ हम अमीरों और गरीबों के बीच असमानता को कम करें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम हर किसी को सफल होने का अवसर दें जब तक कि उनके पास उसे करने की इच्छा और धीरज है तब तक।"


वास्तव में, श्री रतन टाटा पहले कुछ भारतीय कारोबारी नेताओं में से थे जिन्होंने इस बात की वकालत की कि भारत में परोपकार को वंचित समुदायों के जीवन में बदलाव लाने के लिए डिजाइन किया जाए, न कि केवल इमारतें बनाने और मंदिरों को दान करने के लिए।


निश्चित रूप से, उन्होंने अपने दृष्टिकोण से भारत में परोपकार को फिर से परिभाषित किया है। ठीक वैसे ही जैसे उन्होंने टाटा ग्रुप को अपना हमसफर बनाया।


टाटा समूह ने सार्वजनिक भलाई के संरक्षक के रूप में काम किया है, जो कि 150 साल पहले गठित होने के बाद से एक सकारात्मक सामाजिक प्रभाव बनाने के लिए समर्पित है। अपने पूरे अस्तित्व में, समूह ने भारत की कुछ सबसे जरूरी जरूरतों को पूरा करने पर ध्यान केंद्रित किया है।


शुरुआती दिनों में, घरेलू क्षमताओं को विकसित करने और विश्व स्तरीय प्रतिभा का निर्माण करने के लिए संस्था-निर्माण के माध्यम से ऐसा किया। मार्च 1991 में अध्यक्ष के रूप में पदभार संभालने वाले श्री टाटा ने टाटा ट्रस्ट्स का नेतृत्व किया था, जो कि समूह की होल्डिंग कंपनी टाटा संस के 66 प्रतिशत मालिक हैं, उन्होंने अपने सभी ढाई दशक के लंबे कार्यकाल के लिए लगभग सभी के रूप में टाटा संस के प्रमुख के रूप में काम किया।


बाद में उन्होंने परोपकार पर ध्यान केंद्रित किया जब वह 75 वर्ष की आयु में टाटा समूह के कार्यकारी अध्यक्ष की भूमिका से सेवानिवृत्त होने के बाद 2012 में टाटा ट्रस्ट्स के पूर्णकालिक नेतृत्व की भूमिका में आ गए।


k

भारत की पहली स्वदेशी कार 'टाटा इंडिका' का जन्म

हालांकि, श्री रतन टाटा 2016 में टाटा समूह के प्रमुख के रूप में वापस लौटने के लिए मजबूर हुए क्योंकि टाटा संस के निदेशक मंडल ने साइरस मिस्त्री को विश्वास के नुकसान के आधार पर समूह के अध्यक्ष के रूप में खारिज कर दिया था। हालांकि उस समय, मिस्टर टाटा ने इस बात के लिए आलोचनाओं का सामना किया कि लोगों को लगा कि वे चीजों को जाने देने में असमर्थ थे।लेकिन यह सच्चाई से बहुत दूर था।


वे कहते हैं,

“जाने देना आसान नहीं है, यह बिल्कुल गलत होगा क्योंकि मैं वह था जिसने सेवानिवृत्ति का मानक तय किया था। मैं वह था जिसने यह निर्णय लिया था कि सेवानिवृत्ति की आयु चेयरमैन के लिए लागू होनी चाहिए, जब बाकी सभी ने कहा कि यह नहीं होना चाहिए।”

भारत की पहली स्वदेशी कार का जन्म: टाटा इंडिका। श्री टाटा ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया,

"सभी ने हमें बताया कि यह एक संयुक्त उद्यम या एक अंतरराष्ट्रीय कंपनी के साथ साझेदारी किए बिना नहीं किया जा सकता है। अगर मैंने ऐसा किया, तो मुझे विफलता से जोड़ा जाएगा। लेकिन हम वैसे भी आगे बढ़ गए। तकनीकी मुद्दे और कई सबक हमने सीखे। नई जमीन को तोड़ना एक अद्भुत अनुभव था। हार मानने के मौके बहुत से थे। हमने अपने कोर्स पर टिके रहे, प्रत्येक मुद्दे पर काम किया और ऐसे भारत की पहली स्वदेशी कार का जन्म हुआ- द टाटा इंडिका।"



Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close