Flipkart ने तेलंगाना में FPO, SHG को मार्केट और बढ़ावा देने के लिए SERP के साथ मिलाया हाथ

By रविकांत पारीक
June 26, 2022, Updated on : Sat Aug 13 2022 12:59:18 GMT+0000
Flipkart ने तेलंगाना में FPO, SHG को मार्केट और बढ़ावा देने के लिए SERP के साथ मिलाया हाथ
इस साझेदारी के तहत, फ्लिपकार्ट का लक्ष्य अपने प्लेटफॉर्म पर 400 मिलियन से अधिक ग्राहकों को अखिल भारतीय बाजार पहुंच प्रदान करके स्थानीय कृषक समुदायों और तेलंगाना के स्वयं सहायता समूहों को सशक्त बनाना है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत के घरेलू ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस Flipkart ने शनिवार को ग्रामीण गरीबी उन्मूलन सोसायटी (Society for Elimination of Rural Poverty - SERP), ग्रामीण विकास विभाग, तेलंगाना सरकार के साथ किसान उत्पादक संगठनों (Farmer Producer Organisations - FPOs) और स्वयं सहायता समूह (Self-Help Groups - SHGs) के लिए बाजार पहुंच को आसान बनाने के लिए एक समझौता ज्ञापन (MoU) पर हस्ताक्षर किए।


इस साझेदारी के तहत, फ्लिपकार्ट का लक्ष्य अपने प्लेटफॉर्म पर 400 मिलियन से अधिक ग्राहकों को अखिल भारतीय बाजार पहुंच प्रदान करके स्थानीय कृषक समुदायों और तेलंगाना के स्वयं सहायता समूहों को सशक्त बनाना है.


इस सहयोग के हिस्से के रूप में, फ्लिपकार्ट स्थानीय किसानों से सीधे प्रीमियम गुणवत्ता वाली दालें, बाजरा, स्टेपल और मसाले प्राप्त करेगा, जिससे बेहतर आय और व्यापार वृद्धि में योगदान होगा. फ्लिपकार्ट इन समुदायों के साथ वर्चुअल और ऑन-ग्राउंड प्रशिक्षण और क्षमता-निर्माण पहल के माध्यम से आगे बढ़ेगा ताकि उन्हें FPO इकोसिस्टम का हिस्सा बनने के लिए आवश्यक गुणवत्ता, मूल्य निर्धारण और लाइसेंस की समझ प्रदान की जा सके. SERP इस साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए इन्फ्रास्ट्रक्चर और आवश्यक अनुमोदन के साथ समर्थन प्रदान करेगा.


इस अवसर पर बोलते हुए तेलंगाना सरकार के पंचायत राज, ग्रामीण विकास और ग्रामीण जल आपूर्ति मंत्री, एराबेली दयाकर राव ने कहा, “देश में फ्लिपकार्ट जैसी विश्वसनीय ई-कॉमर्स कंपनी के साथ अपनी तरह का यह पहला समझौता ज्ञापन तेलंगाना की प्रगति में योगदान देने वाला एक और मील का पत्थर है. तेलंगाना के एसएचजी और महिलाएं अब बेहतर आजीविका और अधिक दृश्यता प्राप्त करने के लिए अपने प्रोडक्ट्स को अखिल भारतीय उपभोक्ता आधार पर बेच सकेंगे. राज्य में 46 लाख सदस्यों वाले 4,36,000 एसएचजी हैं. हम उन सभी का समर्थन करना चाहते हैं, विशेषकर महिलाओं को, जिनके लिए इस वर्ष 500 करोड़ का ऋण देने का हमारा लक्ष्य है. हमें विश्वास है कि एसएचजी कड़ी मेहनत करेंगे और इन पहलों का उपयोग अपने विकास में तेजी लाने और अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए करेंगे.“


संदीप कुमार सुल्तानिया, आईएएस, पंचायत राज और ग्रामीण विकास, तेलंगाना सरकार, ने कहा, "हम SERP और Flipkart के बीच इस साझेदारी से खुश हैं. इस एमओयू के जरिए हमारे किसान और एसएचजी, हमारी उपज अखिल भारतीय बाजार के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय बाजारों तक पहुंचेंगे. फ्लिपकार्ट और SERP साझेदारी हमारे किसानों की आय में वृद्धि करेगी और उनकी ताजा उपज को अखिल भारतीय बाजार में पहुंच प्राप्त होगी. प्रशिक्षण, कौशल विकास और उत्पाद मानकीकरण पर ध्यान केंद्रित करने से यह सुनिश्चित होगा कि प्रोडक्ट केवल B2B भागीदारों तक ही सीमित नहीं हैं बल्कि सीधे अखिल भारतीय ग्राहकों तक पहुंचने के लिए पैमाने हैं. यह साझेदारी आने वाले वर्षों में राज्य के एफपीओ, महिलाओं और एसएचजी को बड़े पैमाने पर अच्छी पहचान देगी.


इस प्रोग्राम में बोलते हुए, फ्लिपकार्ट के ग्रोसरी डिपार्टमेंट की वाइस-प्रेसीडेंट, स्मृति रविचंद्रन ने कहा, “फ्लिपकार्ट अपने सभी हितधारकों के लिए प्रगति के नए रास्ते बनाने के लिए समर्पित है. SERP के साथ हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन कृषि समुदायों और SHG को पर्याप्त ज्ञान, प्रशिक्षण और बाजार पहुंच के साथ बेहतर आय और व्यावसायिक अवसर सुनिश्चित करने के लिए हमारी प्रतिबद्धता की दिशा में एक और कदम है. यह आगे भारत और तेलंगाना में एफपीओ, एसएचजी और उद्यमियों के साथ समावेशिता को बढ़ावा देता है. हमारे ग्राहकों को क्षेत्र में इन एफपीओ से गुणवत्तापूर्ण प्रोडक्ट्स और ताजा किराने के सामान तक सीधी पहुंच के साथ एक बेहतर अनुभव मिलता है. हम कृषक समुदाय के लिए इस तरह के और अधिक संपर्क और पहल करने के लिए तत्पर हैं ताकि उन्हें टेक्नोलॉजी और ई-कॉमर्स के माध्यम से अपनी पेशकशों को बढ़ाने में मदद मिल सके और ग्रामीण समृद्धि लाने में मदद मिल सके.”


फ्लिपकार्ट वर्तमान में कई किसान उत्पादक संगठनों (FPO), देश भर के छोटे और सीमांत किसानों के साथ स्थायी और स्केलेबल साझेदारी बनाने के लिए काम कर रहा है. इसने देश भर में 10,000 से अधिक किसानों को प्रोडक्ट की गुणवत्ता और खाद्य सुरक्षा पर प्रशिक्षित किया है ताकि बाजार तक पहुंच को सक्षम बनाया जा सके और भारत में किसान समुदाय को सशक्त और समृद्ध बनाया जा सके.