पहली बार लोग चुनेंगे ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’

By yourstory हिन्दी
November 23, 2022, Updated on : Thu Nov 24 2022 05:02:17 GMT+0000
पहली बार लोग चुनेंगे ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’
21 नवंबर से वोटिंग की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, जो 2 दिसंबर तक चलेगी.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हर साल किसी नए शब्‍द को ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी में जगह मिलती है और वह शब्‍द बन जाता है ‘वर्ड ऑफ द ईयर’. हर साल ऑक्‍सफोर्ड की अपनी कमेटी ही तय करती है कि किस नए शब्‍द को इस विशालकाय शब्‍दकोष में जगह मिलनी चाहिए. लेकिन यह पहली बार होने जा रहा है कि ऑक्‍सफोर्ड की कमेटी नहीं, बल्कि जनता यह तय करेगी कि कौन सा शब्‍द ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी का ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ होगा.


ऑक्‍सफोर्ड लैंग्वेज ने घोषणा की है कि पहली बार दुनिया भर के लोग ऑक्‍सफोर्ड वर्ड ऑफ़ द ईयर 2022 चुनने के लिए वोट करेंगे.

लेक्सियोग्राफर्स (डिक्‍शनरी एडीटर) की एक टीम ने दुनिया भर से उन लोगों की सूची तैयार की है, जो इस मतदान में हिस्‍सा लेंगे. उन्‍हें तीन शब्‍दों में से चुनने का विकल्‍प दिया गया है.


उसमें से जिस शब्‍द को सबसे ज्‍यादा वोट मिलेंगे, वही इस साल का ऑक्‍सफोर्ड ‘वर्ड ऑफ द ईयर’ होगा. ये तीन शब्द हैं – मेटावर्स (Metaverse), आय स्‍टैंड विद (#IStandWith) और गॉब्लिन मोड (Goblin Mode).   


21 नवंबर से वोटिंग की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, जो 2 दिसंबर तक चलेगी.  


ऑक्सफोर्ड लैंग्वेजेज ने कहा ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि पिछले दो साल पूरी दुनिया पर विशेष तौर पर भारी रहे हैं. आखिरकार जीवन फिर से सामान्‍य हो रहा है, चीजें पटरी पर लौट रही हैं, हम दोबारा साथ आ रहे हैं, साथ काम कर रहे हैं, लेकिन सच तो ये है कि अब हमारी दुनिया पहले से कहीं ज्‍यादा विभाजित महसूस हो रही है.


इसलिए हम चयन की इस प्रक्रिया में और लोगों को शामिल करना चाहते हैं. हम इसे सबके लिए खोलना चाहते हैं. ऑक्‍सफोर्ड के इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ. पहली बार वर्ड ऑफ द ईयर का चुनाव जनता के द्वारा होगा. यह साझे, सम्मिलित काम की एक कोशिश है. सबको साथ लेकर चलने की कोशिश.


ऑक्‍सफोर्ड डिक्‍शनरी हर साल किसी ऐसे शब्‍द को जगह देती है, जिसकी उस वर्ष की हलचलों में प्रासं‍गिकता रही हो. इस साल जो तीन शब्‍द चुने गए हैं, तीनों अपनी-अपनी तरह से काफी प्रासंगिक हैं.

 

'मेटावर्स' हमारी असल दुनिया में आया आभासी दुनिया का एक ऐसा शब्‍द है, जो धीरे-धीरे वास्‍तविक दुनिया में अपनी जगह बना रहा है. वर्नाक्यूलर भाषा में इसका इस्‍तेमाल धीरे-धीरे आम हो चुका है. आने वाला समय ऑनलाइन और वर्चुअल रिएलिटी का ही है. इसलिए ऑक्‍सफोर्ड की अंतिम चयनित सूची में इस शब्‍द को शामिल किया गया है.   


'#IStandWith' शब्‍द इस साल की सामाजिक और राजनीतिक गतिविधियों के बीच बहुत प्रासंगिक हो चुका है. कोविड महामारी के बाद क्‍लाइमेट चेंज से लेकर यूक्रेन युद्ध तक संभवत: यह वक्‍त साथ खड़े होने और चुनाव करने का है. हमें अपना पक्ष चुनना होगा कि अब इस धरती और मनुष्‍यता को बचाने के पक्ष में हैं या इसे तबाह कर देने के पक्ष में, हम ध्रुवीकरण के पक्ष में हैं या एकता के.  


'गोब्लिन मोड' एक अपेक्षाकृत नई अवधारणा है. नई लेकिन प्रासंगिक और बदल रही दुनिया पर लागू होने वाली. अब लोग अपने ऊपर थोपी गई दुनियावी और सामाजिक अपेक्षाओं को खारिज कर अपने मन का करना चाहते हैं. यही इस शब्द का अर्थ है. अपेक्षाओं को नकारकर अपने मन का होना और करना.  


पिछले साल का ऑक्‍सफोर्ड वर्ड ऑफ द ईयर था Vax, जो कोविड महामारी और उसके बाद वैक्सिनेशन के संदर्भ में उभरा और इस्‍तेमाल किया गया था.


Edited by Manisha Pandey