Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory
search

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ADVERTISEMENT
Advertise with us

[फंडिंग अलर्ट] फिनटेक स्टार्टअप BankSathi ने एंजेल इन्वेस्टर्स से सीड राउंड में जुटाए $200K

दिल्ली स्थित फिनटेक स्टार्टअप BankSathi इस फंडिंग का उपयोग प्रोडक्ट डेवलपमेंट, टीम बिल्डिंग और मार्केटिंग और ग्रोथ प्लान को एग्जीक्यूट करने के लिए करेगा।

Sujata Sangwan

रविकांत पारीक

[फंडिंग अलर्ट] फिनटेक स्टार्टअप BankSathi ने एंजेल इन्वेस्टर्स से सीड राउंड में जुटाए $200K

Wednesday May 19, 2021 , 2 min Read

दिल्ली स्थित फिनटेक स्टार्टअप BankSathi Technologies ने दिनेश गोदारा (फाउंडर, TREAD, ex-Unacademy), राजेंद्र लोरा (फाउंडर, Freshokartz), अनुज आहूजा और आदित्य तलवार (फाउंडर्स, Studybase) सहित अन्य एंजेल इन्वेस्टर्स के एक समूह से सीड फंडिंग राउंड में 200,000 डॉलर जुटाए हैं।


स्टार्टअप का उद्देश्य अपने सलाहकारों के ऐप के माध्यम से रिटेल लोन, क्रेडिट कार्ड और इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स को खरीदते समय सही और त्रुटिहीन निर्णय लेने में वित्तीय सलाहकारों की भूमिका को बढ़ावा देना है।


इस फंडिंग का उपयोग प्रोडक्ट डेवलपमेंट, टीम बिल्डिंग और मार्केटिंग और ग्रोथ प्लान को एग्जीक्यूट करने के लिए किया जाएगा।

स्टार्टअप ने एक बयान में कहा, “वर्तमान में हमारे पास भारत के 700 पिनकोड में 5000+ सलाहकार हैं; अब तक अर्जित 75 लाख रुपये की कुल सलाहकार आय के साथ। वर्तमान में, हमारे पास बेचने के लिए 15 वित्तीय संस्थानों के 45 प्रोडक्ट हैं। हम इस वित्तीय वर्ष के अंत तक एक मिलियन सलाहकारों और 50+ FI के 150 प्रोडक्ट्स को बैंकसाथी ऐप के माध्यम से वितरित करने के लिए तैयार कर रहे हैं।
BankSathi

BankSathi की टीम

बयान में आगे कहा गया है, “अगले तीन वर्षों में, 50 लाख सलाहकार बनाने की योजना है; और हमारे प्लेटफॉर्म पर 100 FI के 500 उत्पाद उपलब्ध हैं। हम अपने निर्धारित लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इस साल के मध्य तक निवेश का एक और राउंड जुटाएंगे।"


बैंकसाथी मुख्य रूप से टियर-II और अन्य शहरों पर ध्यान केंद्रित कर रहा है क्योंकि ग्राहक इन शहरों में सलाह के लिए जाने की अधिक संभावना रखते हैं।


को-फाउंडर जितेंद्र ढाका ने कहा कि आजादी के 74 साल बाद भी, हजारों वित्तीय संस्थानों, लाखों एफआई शाखाओं के बावजूद भारत में अभी भी चार प्रतिशत बीमा की पहुंच है।

जितेंद्र ने आगे कहा, “अधिकांश भारतीय अपने आसपास के विशेषज्ञों से सलाह लेने में विश्वास करते हैं, यही कारण है कि भारत में 75 प्रतिशत खुदरा वित्तीय उत्पाद अधिकृत सलाहकारों / एजेंटों के माध्यम से बेचे जाते हैं। भारत में बीमा उद्योग में 20 लाख सक्रिय सलाहकार हैं और भारत में खुदरा संपत्ति का 50 प्रतिशत डीएसए और कनेक्टर्स के माध्यम से बेचा जाता है, जो फिर से लाखों में हैं।"

को-फाउंडर संदीप चौधरी के अनुसार, “कोविड-19 और लॉकडाउन ने तकनीक को कम से कम पांच साल आगे ला दिया है, और ग्राहकों का खरीदारी व्यवहार भी बहुत बदल गया है। यह धर्मनिरपेक्ष बदलाव बैंकसाथी की बहुत मदद करने वाला है।”