इस अनिश्चित काल में अपने पैसे के निवेश को लेकर हैं चिंतित? यहाँ कुछ टिप्स हैं

By Ramarko Sengupta & रविकांत पारीक
May 17, 2021, Updated on : Tue May 18 2021 03:14:16 GMT+0000
इस अनिश्चित काल में अपने पैसे के निवेश को लेकर हैं चिंतित? यहाँ कुछ टिप्स हैं
कोविड-19 महामारी के कारण बड़ी अनिश्चितता और अस्थिरता के साथ, इस बात को लेकर पर्याप्त भ्रम है कि कौन से क्षेत्र निवेश के लिए अच्छे दांव साबित हो सकते हैं। ऐसे में रिलायंस सिक्योरिटीज के ईडी और सीईओ लव चतुर्वेदी ने कुछ टिप्स साझा किए हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश भर में कहर बरपाने ​​वाले कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर के बीच भारत के शेयर बाजारों में काफी उतार-चढ़ाव रहा है।

हालांकि, रिलायंस सिक्योरिटीज के ईडी और सीईओ, लव चतुर्वेदी, बाजारों और भारत की आर्थिक सुधार के बारे में आशावादी बने हुए हैं।

अगले दो-तीन महीनों में, यदि देश वायरस के प्रसार को रोकने में सक्षम रहता है और कुछ सुधारों के साथ "यहाँ और वहाँ" किसी प्रकार की सामान्य स्थिति में वापस आ जाता है, तो वह उम्मीद करते हैं कि बाजार में उछाल आएगा।


रिलायंस सिक्योरिटीज ने दूसरी लहर के हिट होने से पहले 2021-22 के लिए इक्विटी बाजारों से 8-10 प्रतिशत रिटर्न का अनुमान लगाया था, और इसने अभी तक अपना रुख नहीं बदला है।


वे Yourstory को बताते हैं, "हम उस स्टैंड को जारी रखना चाहते हैं, हमने उसे नहीं बदला है... एकमात्र चेतावनी यह है कि हम शायद यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि यह हमारे पीछे है।" तो इक्विटी मार्केट में निवेश करने के इच्छुक लोगों के लिए, सभी अस्थिरता के बीच उन्हें क्या करना चाहिए? वे कहते हैं, "बाजार में उतार-चढ़ाव बना रहने दें, आपके आचरण में नहीं, आपका आचरण उसके विपरीत होना चाहिए, जितना हो सके सहज होना चाहिए।"

रिलायंस सिक्योरिटीज के ईडी और सीईओ लव चतुर्वेदी

रिलायंस सिक्योरिटीज के ईडी और सीईओ लव चतुर्वेदी

किन सेक्टर्स पर रखनी है नजर ?

प्रारंभ में, लव ने इस बात पर प्रकाश डाला कि "किसी भी सेक्टर का व्यू, टाइम होरिजॉन का एक फंक्शन है"। दो-तीन साल की अवधि में किन सेक्टर्स द्वारा सबसे अधिक रिटर्न देने की संभावना है, लव का दांव उन पर है जो महामारी में सबसे ज्यादा पस्त हुए हैं। इनमें हॉस्पिटैलिटी, एंटरटेनमेंट और एविएशन शामिल हैं। “यदि आपके पास वास्तव में एक लोंग-टर्म होरिजॉन है, तो आप अपना कुछ पैसा इन सेक्टर्स में एलोकेट करना चाह सकते हैं, क्योंकि यह वह जगह है जहाँ हर कोई कह रहा है कि इससे दूर रहें।“


“और अगर आप वास्तव में मानते हैं कि यह (वर्तमान संकट) हमारे पीछे होगा, तो निश्चित रूप से इन सेक्टर्स को सबसे अधिक रिटर्न देना चाहिए, बशर्ते आपके पास दो-तीन साल का होरिजॉन हो, कुछ जोखिम उठाने की क्षमता हो, और आप इसके लिए कुछ राशि एलोकेट करते हैं, न कि पूरी।”

उनका कहना है कि यह यंग मिलेनियल्स या किसी ऐसे व्यक्ति के लिए एक आदर्श निवेश दांव होगा जो आने वाले नए ग्रोथ ट्रेजेक्ट्री में भाग लेना चाहता है।

जिन दूसरे सेक्टर्स पर नजर रखने की संभावना है, जिनके वर्तमान स्थिति से लाभान्वित होने की संभावना है, वे हैं फार्मा, आईटी और इन्फ्रास्ट्रक्चर। लव कहते हैं, “वे दो-तीन सेक्टर हैं जो अच्छे हो सकते हैं जहाँ आप एलोकेट करना चाहते हैं, जहाँ उछाल आयेगा। आधार इतना कम नहीं है, लेकिन अभी भी कुछ उछाल होगा, क्योंकि इस स्पेस में बहुत सारी गतिविधियाँ हैं।”


वह बैंकिंग और BFSI (बैंकिंग, फायनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस) सेक्टर्स को लेकर भी आशावादी हैं, जो "वास्तविक अर्थव्यवस्था का समर्थन करते हैं"। सकारात्मक दृष्टिकोण के बावजूद, लव ने इस सेक्टर्स से शेयरों को चुनते समय सावधानी बरती है। वह बताते हैं, "यह सेक्टर कुल मिलाकर एक सकारात्मक सेक्टर है, लेकिन इस सेक्टर में निवेशक से मेरा एकमात्र अनुरोध है कि आप जो चुन रहे हैं उसमें अधिक विशिष्ट रहें, क्योंकि विकास कंपनियों में भी उतना नहीं हो सकता जितना कुछ अन्य सेक्टर में हो सकता है। यहां यह कुछ कंपनियों के लिए अधिक विशिष्ट हो सकता है, क्योंकि यह सर्विसेज के बारे में है, यह फायनेंस के बारे में है, यह ट्रैक रिकॉर्ड के बारे में है।"


जबकि लव किसी स्पेसिफिक कंपनी का नाम नहीं बताना चाहते थे, उन्होंने इस तथ्य पर जोर दिया कि वह इन कंपनियों के ट्रैक रिकॉर्ड को देखने के लिए निवेशकों से दृढ़ता से आग्रह करेंगे। “क्योंकि एक बात जो हमें जाननी है, वह यह है कि ये प्रतिबंध और कर्फ्यू बुक्स में किसी तरह का तनाव लाने वाले हैं, हम सभी जानते हैं। अब, कुछ कंपनियां ऐसी होंगी जिन्होंने शायद अपने विविध पोर्टफोलियो, अपनी प्रक्रियाओं और अपनी अकाउंटिंग के साथ इसे अच्छी तरह से मैनेज किया होगा, जो दूसरों की तुलना में अधिक विवेकपूर्ण होगा।“

अंत में, लव निवेशकों को सलाह देते हैं कि वे केवल इक्विटी नहीं बल्कि असेट क्लासेज में एलोकेट करें।

"इक्विटी केवल एक एलोकेशन होना चाहिए, आपको विविधीकरण (diversify) करना होगा, आपको अपनी भूख के आधार पर निश्चित आय में, दूसरे असेट क्लासेज में जाना होगा, और कृपया सुनिश्चित करें कि कुछ एलोकेशन बोर्ड भर में किया जा रहा है।" भारत में दो लोकप्रिय फिक्स्ड इनकम असेट क्लास फिक्स्ड डिपोजिट और पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) हैं। दूसरे असेट क्लासेज में कमोडिटी, रियल एस्टेट, और यहां तक ​​कि बचत खाते में पैसा या कोई अन्य लिक्विड स्कीम (नकद और नकद समकक्ष के रूप में वर्गीकृत) शामिल हैं।

पिछले हफ्ते लगातार दो हफ्ते की तेजी के बाद शेयर बाजार गिरावट के साथ बंद हुए थे।

शुक्रवार को एक और उतार-चढ़ाव भरे सत्र के अंत में, सेंसेक्स 42 अंक बढ़कर 48,733 पर पहुंच गया, जबकि निफ्टी 19 अंक गिरकर 14,678 पर बंद हुआ।

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें