फ्यूचर ग्रुप के सीईओ किशोर बियानी ने किया अपनी 'गंभीर' गलती का खुलासा

By yourstory हिन्दी
January 18, 2020, Updated on : Sat Jan 18 2020 09:31:30 GMT+0000
फ्यूचर ग्रुप के सीईओ किशोर बियानी ने किया अपनी 'गंभीर' गलती का खुलासा
अमेज़ॅन संभव जो कि SMBs के लिए नई दिल्ली में आयोजित एक शिखर सम्मेलन है, के पहले संस्करण के दूसरे दिन एक शानदार चैट के दौरान बियानी ने कहा कि विफलता ने उन्हें सिखाया कि आप जो भी बनाते हैं उससे जुड़ नहीं पाते हैं। ग्राहक आपको एक घंटे में अस्वीकार कर सकता है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

फ्यूचर ग्रुप के फाउंडर और सीईओ किशोर बियानी ने गुरुवार को खुलासा किया कि उन्होंने जो सोचा था, वह उनकी 'पागलपन वाली' गलती थी।


क

किशोर बियानी, फ्यूचर ग्रुप के फाउंडर और सीईओ



बिग बाजार, पैंटालूंस, सेंट्रल और ब्रांड फैक्टरी जैसे ब्रांडों के वाले उद्यमी बियानी ने कहा,

"मैंने दो फिल्में बनाई, जो नहीं चल पाईं। यह अब तक की सबसे बड़ी गलती थी।"


वह अमेज़ॅन इंडिया मार्केटप्लेस के उपाध्यक्ष गोपाल पिल्लई के सवाल का जवाब दे रहे थे, जिसमें उद्यमी के रूप में उनकी सबसे बड़ी गलती के बारे में पुछा गया था। यह सवाल अमेज़न संभव के पहले संस्करण के दूसरे दिन शानदार चैट के दौरान किया गया था।


आपको बता दें कि अमेज़न संभव ने छोटे, सूक्ष्म और मध्यम व्यापार (एसएमबी) के लिए एक शिखर सम्मेलन नई दिल्ली में आयोजित किया है।


बियानी ने ऋतिक रोशन-सैफ अली खान अभिनीत साल 2002 में रिलीज हुई फिल्म ना तुम जानो ना हम और ईशा देओल-जायद खान अभिनीत चुरा लिया है तुमने जो कि साल 2003 में रिलीज हुई थी, प्रोड्यूस की थी। बियानी ने इन दोनों फिल्मों पर लगभग 26 करोड़ रुपये खर्च किए, और दोनों फिल्में बॉक्स ऑफिस पर असफल रहीं।


बियानी ने कहा,

“मैंने एक साल में दो फ़िल्में बनाई। इन फिल्मों की विफलता ने मुझे सिखाया कि आप जो भी बनाते हैं उससे जुड़ते नहीं हैं। ग्राहक आपको एक घंटे में अस्वीकार कर सकता है।”


58 वर्षीय उद्यमी बॉलीवुड में अपना हाथ आजमाने वाले एकमात्र व्यक्ति नहीं हैं। भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या और रेमंड के विजयपत सिंघानिया ने भी फिल्में बनाईं, जिन्होंने बॉक्स ऑफिस पर धूम मचाई।


बियानी ने कहा कि फिल्में बनाना सबसे बड़ी गलती हो सकती है, लेकिन केवल यही नहीं, अपने मुख्य व्यवसाय को भी चलाने में कई सफल हुए हैं।


उन्होंने कहा,

“हमने स्थान से प्रारूप में पुस्तक में हर गलती की होगी। सौभाग्य से हम जल्दी थे, इसलिए गलतियों पर इतना ध्यान नहीं दिया गया।”


उन्होंने इस तथ्य पर जोर दिया कि गलतियाँ करना सभी की यात्रा का एक महत्वपूर्ण और अभिन्न अंग है।





उन्होंने आगे कहा,

“जो लोग सो रहे हैं वे कोई गलती नहीं करते हैं… आप जो भी यात्रा करते हैं, उसमें आपको बहुत सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। जब चुनौतियाँ आती हैं, तो आप उससे कैसे सीखते हैं और कैसे आत्मनिरीक्षण करते हैं, आपको दूसरे स्तर पर ले जाता है। हर चुनौती आपको कहीं न कहीं ले जाएगी।”


इस महीने की शुरुआत में, फ्यूचर ग्रुप और अमेज़ॅन ने "अमेज़ॅन इंडिया मार्केटप्लेस के माध्यम से फ्यूचर रिटेल के स्टोर और उपभोक्ता ब्रांडों की पहुंच का विस्तार करने" के लिए एक साझेदारी की घोषणा की।


साझेदारी फ्यूचर समूह की कंपनी को अमेज़ॅन की ऑनलाइन पहुंच का लाभ उठाने की अनुमति देगी, जबकि सिएटल स्थित ईकॉमर्स दिग्गज को घरेलू स्तर पर कंपनी के नेटवर्क के माध्यम से भारत में अपनी उपस्थिति को गहरा करने की उम्मीद है।


दोनों कंपनियों ने एक संयुक्त बयान में कहा था,

"यह व्यवस्था अब दोनों संगठनों की मजबूत ऑफलाइन और ऑनलाइन क्षमताओं को बनाएगी, ग्राहकों के लिए महत्वपूर्ण मूल्य पैदा करेगी।"


(Edited by रविकांत पारीक )