IPO से कमाई करने वालों के लिए खुशखबरी, गौतम अडानी की ये कंपनी लाएगी IPO

By Ravi Pareek
July 30, 2022, Updated on : Fri Jul 29 2022 18:54:10 GMT+0000
IPO से कमाई करने वालों के लिए खुशखबरी, गौतम अडानी की ये कंपनी लाएगी IPO
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

गौतम अडानी (Gautam Adani) दुनिया के चौथे और एशिया के सबसे अमीर शख्स बन चुके हैं. Bloomberg Billionaires Index के मुताबिक अडानी 113 अरब डॉलर की नेटवर्थ के साथ दुनिया के अमीरों की लिस्ट में चौथे नंबर पर आ गए हैं. गुरुवार को उनकी नेटवर्थ में 1.79 अरब डॉलर का इजाफा हुआ. इस साल उनकी नेटवर्थ 36 अरब डॉलर बढ़ी है.


लेकिन अब जल्द ही वे आपको भी अमीर बना सकते हैं. खासकर उन लोगों को जो IPO के जरिए कमाई करते हैं.


अडानी ग्रुप (Adani Group) की नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) अडानी कैपिटल अपना आईपीओ (Adani Capital IPO) लॉन्च करने की तैयारी कर रही है. इसकी जानकारी कंपनी के एमडी और सीईओ गौरव गुप्ता (Gaurav Gupta) ने दी. उन्होंने ब्लूमबर्ग के साथ हुई बातचीत में कहा कि कंपनी पहली शेयर सेल (Adani Capital Share Price) में लगभग 10 फीसदी हिस्सेदारी ऑफर करेगी. उन्होंने बताया कि कंपनी का वैल्युएशन टारगेट 2 अरब डॉलर है.


अडानी कैपिटल इस आईपीओ के जरिए 1,500 करोड़ रुपये जुटाने की योजना बना रही है. कंपनी की योजना 2024 तक आईपीओ लाने की है. अडानी समूह की 7 कंपनियां शेयर मार्केट में सूचीबद्ध हैं. इनमें से 6 कंपनियों का मार्केट कैप 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक है. इस ग्रुप की आखिरी लिस्टिंग अडानी विल्मर (Adani Wilmar) थी जो इसी साल फरवरी में सूचीबद्ध हुई थी. विल्मर ने निवेशकों को धमाकेदार रिटर्न दिया है. अडानी विल्मर इस ग्रुप की इकलौती सूचीबद्ध कंपनी है जिसका मार्केट कैप 1 लाख करोड़ रुपये से कम है.


अडानी कैपिटल के सीईओ ने बताया कि कंपनी का बिजनेस डायरेक्ट टू कस्टमर डिस्ट्रीब्यूशन मॉडल पर आधारित है. उन्होंने बताया कि कंपनी की 8 राज्यों में 154 शाखाएं हैं और उसके पास करीब 60,000 कस्टमर्स हैं. बकौल गुप्ता, कंपनी फिलहाल 3,000 करोड़ रुपये के कर्ज को मैनेज कर रही है और उसका ग्रास एनपीए (नॉन परफॉर्मिंग एसेट) लगभग 1 फीसदी है. उन्होंने कहा कि वह हर साल कंपनी की लोन बुक को दोगुना करना चाहते हैं.


इंटरव्यू में गौरव गुप्ता ने कहा कि लिस्टिंग के बाद कंपनी की कैपिटल जुटाने की क्षमता बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि अडानी कैपिटल तकनीक की मदद से 3 लाख से 30 लाख तक के कर्ज वाले क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत करना चाहती है. गुप्ता ने कहा कि टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने वाली एक क्रेडिट कंपनी कस्टमर्स को जोड़ने में अधिक प्रभावी ढंग से काम कर सकती है.


अडानी कैपिटल ने 2017 में अपना लेंडिंग (कर्ज) बिजनेस शुरू किया था. कंपनी ग्रामीण व रिटेल फाइनेंस के क्षेत्र में सक्रिय है. कंपनी खेती से जुड़े उपकरण, छोटे व्यावसायिक वाहन, थ्री व्हीलर्स और खेतों पर कर्ज की सेवाएं दे रही है.