पीएम मोदी को मिले उपहारों की हुई नीलामी, मिले हुए पैसों से साफ होगी गंगा

By yourstory हिन्दी
February 12, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:31:24 GMT+0000
पीएम मोदी को मिले उपहारों की हुई नीलामी, मिले हुए पैसों से साफ होगी गंगा
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

प्रधानमंत्री को मिले स्मृति चिह्न

देश के प्रधानमंत्री को देश दुनिया के तमाम लोगों और संस्थानों द्वारा उपहार भेंट मिलते रहते हैं। आपने कभी सोचा है कि इन उपहारों का क्या होता होगा? हाल ही में पीएम को मिले इन उपहारों की नीलामी की गई। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को प्राप्‍त हुए उपहारों व स्‍मृति चिन्‍हों को नीलाम करने की 15 दिन लंबी प्रक्रिया शनिवार शाम को संपन्‍न हुई। इस दौरान 1800 स्‍मृति चिन्‍हों की सफलतापूर्वक नीलामी की गई। नीलामी से प्राप्त हुई आय का उपयोग नमामि गंगे कार्यक्रम के लिए किया जाएगा।


नीलामी प्रक्रिया में लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लिया। प्रक्रिया के दो हिस्‍से थे- राष्‍ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में दो दिवसीय नीलामी तथा वेबसाइट pmmementos.gov.in के माध्‍यम से ई-नीलामी। इस नीलामी में सबसे ज्यादा चर्चा जिस उपहार की रही उसमें राष्‍ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय में एक हस्‍तनिर्मित लकड़ी की बाइक 5 लाख रूपये में बिकी। एक पें‍टिंग भी 5 लाख रूपये में बिकी। इस पेंटिंग में प्रधानमंत्री श्री मोदी को रेलवे स्‍टेशन पर दिखाया गया है।


वहीं ई नीलामी के जरिए कई उपहारों को बेचा गया। भगवान शिव की एक छोटी मूर्ति का आधार मूल्‍य 5000 रूपये था। यह 10 लाख रूपये में बिकी। लकड़ी से निर्मित अशोक स्‍तंभ का आधार मूल्‍य 4000 रूपये था जो 13 लाख रूपये में बिकी। एक पारंपरिक ‘होराई’ (असम का एक पारंपरिक ट्रे जिसमें स्‍टेंड लगा होता है) का आधार मूल्‍य 2000 रूपये था। यह 12 लाख रूपये में बिकी।


एसजीपीसी, अमृतसर द्वारा भेंट में दी गई स्‍मृति चिन्‍ह ‘डिविनिटी’ का आधार मूल्‍य 10000 रूपये था जो 10.1 लाख रूपये में बिकी। गौतम बुद्ध की एक छोटी मूर्ति का आधार मूल्‍य 4000 रूपये मूल्‍य था जो 7 लाख रूपये में बिकी। पीतल से बनी एक पारंपरिक शेर की मूर्ति की नीलामी 5.20 लाख रूपये में हुई। इसे नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने भेंट में दिया था।


चांदी के एक कलश का आधार मूल्‍य 10000 रूपये मूल्‍य था। इसकी नीलामी 6 लाख रूपये में हुई। अन्‍य स्‍मृति चिन्‍हों की नीलामी भी अपने आधार मूल्‍य से कई गुना ऊंची कीमतों में हुई। प्रधानमंत्री मोदी जब गुजरात के मुख्‍यमंत्री थे तो उनके कार्यकाल में प्राप्‍त स्‍मृति चिन्‍हों की नीलामी हुई थी। इस नीलामी से प्राप्‍त आय को बालिका शिक्षा कार्यक्रम के लिए प्रदान किया गया था। वर्तमान नीलामी से प्राप्‍त आय को नमामि गंगे कार्यक्रम के लिए दिया जाएगा।   


यह भी पढ़ें: आईएएस के इंटरव्यू में फेल होने वालों को मिलेगी दूसरी सरकारी नौकरी!