भारत में जून तिमाही में सोने की मांग 43% बढ़ी, वैश्विक मांग 8% घटी: रिपोर्ट

By yourstory हिन्दी
July 28, 2022, Updated on : Thu Jul 28 2022 09:34:37 GMT+0000
भारत में जून तिमाही में सोने की मांग 43% बढ़ी, वैश्विक मांग 8% घटी: रिपोर्ट
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (World Gold Council - WGC) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में अप्रैल-जून तिमाही में सोने की मांग सालाना आधार पर 43 फीसदी अधिक रही. हालांकि मुद्रास्फीति, रुपया-डॉलर दरें और नीति संबंधी कदमों समेत कई कारक होंगे जो आगे जाकर उपभोक्ताओं की धारणाओं को प्रभावित करेंगे.


WGC की रिपोर्ट में बताया गया कि अप्रैल से जून के दौरान भारत में सोने की मांग 170.7 टन रही जो 2021 की समान अवधि की मांग 119.6 टन से 43 फीसदी अधिक है.


सोने की मांग पर WGC द्वारा जारी रिपोर्ट में बृहस्पतिवार को कहा गया कि मूल्य के संदर्भ में भारत में सोने की मांग जून तिमाही में 54 फीसदी बढ़कर 79,270 करोड़ रुपये हो गई जो 2021 की समान तिमाही में 51,540 करोड़ रुपये थी.


अक्षय तृतीया के साथ ही वैवाहिक सीजन शुरू होने से आभूषणों की मांग 49 फीसदी बढ़कर 140.3 टन रही. उन्होंने बताया कि 2022 के लिए WGC ने डिमांड लैंडस्केप 800-850 टन का रखा है हालांकि आने वाले वक्त में मुद्रास्फीति, सोने की कीमत, रुपया-डॉलर दरें और नीतिगत कदम समेत अन्य कारक उपभोक्ताओं की धारणाओं को प्रभावित करेंगे.


उन्होंने बताया कि 2021 में सोने की कुल मांग 797 टन थी.


जून तिमाही में, भारत में सोने का पुनर्चक्रण 18 फीसदी बढ़कर 23.3 टन रहा जो पिछले वर्ष समान अवधि में 19.7 टन था. इस तिमाही में सोने का आयात भी 34 फीसदी बढ़कर 170 टन हो गया जो 2021 की समान अवधि में 131.6 टन था.


रिपोर्ट के अनुसार सोने की वैश्विक मांग सालाना आधार पर आठ फीसदी घटकर 948.4 हो गई. 2021 की जून तिमाही में यह 1,031.8 टन थी.


2022 की दूसरी छमाही में सोने को लेकर खतरे और अवसर दोनों ही हैं. सुरक्षित निवेश के लिहाज से सोने की मांग बनी रहने का अनुमान है लेकिन और मौद्रिक सख्ती तथा डॉलर के और मजबूत होने की चुनौतियां भी हैं.


Edited by रविकांत पारीक