2022 में गोल्ड की चमक पड़ी फीकी, जानिए क्या है वजह?

By प्रथमेश माल्या
October 16, 2022, Updated on : Sun Oct 16 2022 05:03:29 GMT+0000
2022 में गोल्ड की चमक पड़ी फीकी, जानिए क्या है वजह?
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

लंबी अवधि में गोल्‍ड (सोना) पोर्टफोलियो में विविधता लाने वाला रहा है क्योंकि गोल्ड में रिटर्न किसी भी निवेशक के लिए संपूर्ण जोखिम को संतुलित करता है.


हालांकि, वैश्विक अनिश्चितता और कई अन्‍य घटकों के बावजूद 2022 में मिलने वाला रिटर्न निवेशकों के पक्ष में नहीं रहा है. इन घटकों में रूस-यूक्रेन युद्ध से लेकर वैश्विक केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दर में तेज वृद्धि, मजबूत डॉलर और एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स से पूंजी की निकासी आदि शामिल हैं.

Angel One

व्यापक रूप से बढ़ती मंहगाई के खिलाफ बचाव माना जाने वाले गोल्ड में लगातार सातवें महीने अक्टूबर में भी गिरावट आई. 10 अक्टूबर 2022 तक अंतरराष्ट्रीय बाजारों में सोने की हाजिर कीमतों में लगभग 9 प्रतिशत की गिरावट आई. एमसीएक्स पर डॉलर रुपया समीकरण (रुपये में लगभग 10% की गिरावट) ने निवेशकों को बचाया, क्योंकि उसी समयावधि में गोल्ड वायदा में लगभग 6 प्रतिशत का उछाल देखने को मिला.

ईटीएफ ने गोल्ड निवेशकों के रिटर्न को बिगाड़ा

वर्ष 2022 के पहले चार महीनों में, गोल्ड ईटीएफ में 300टन (19 बिलियन डॉलर) से अधिक की आवक देखी गई. वहीं वैश्विक गोल्ड ईटीएफ ने मूल्य प्रदर्शन के अनुरूप अगस्त में 51 टन (2.9 बिलियन अमेरिकी डॉलर, 1.4%) की निकासी दर्ज की गई, जो निकासी का लगातार चौथा महीना था. फंड्स ने अब अप्रैल के दौरान जमा हुए पूंजी आवक का दो-तिहाई हिस्सा वापस कर दिया है और वैश्विक गोल्ड ईटीएफ ने सितंबर में अपने शुद्ध निकासी का लगातार पांचवां महीना दर्ज किया, क्योंकि होल्डिंग्स में 95 टन (5 बिलियन अमेरिकी डॉलर) की गिरावट आई है. यह मार्च 2021 (107टन) के बाद सबसे बड़ी मासिक निकासी भी है. सितंबर के अंत तक, वैश्विक गोल्ड ईटीएफ होल्डिंग्स 3,548टन (191 अमेरिकी बिलियन डॉलर) थी, जो टन भार के संदर्भ में साल में अब तक 1% की कमी है. उच्च दरों के साथ अमेरिकी डॉलर में ताजा दो दशक का उच्च स्तर एक बार फिर से गोल्ड की कीमत के लिए चुनौती बनी हुई है. (स्रोत- वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल).

गोल्ड की कीमत को बढ़ाने वाला मैक्रो कारक

अमेरिका में ब्याज दरों में वृद्धि की गति इतनी तेज कभी नहीं रही है और यह चार्ट में दिखाई दे रहा है जिसमें केंद्रीय बैंकों द्वारा दरों में बढ़ोतरी तेज और तेज रही है. इसने सभी निवेशकों को सुरक्षित माने जाने वाली मुद्रा डॉलर की तलाश में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया है जिससे डॉलर में मजबूती आई है.

Angel One


10 अक्टूबर तक 2022 में अब तक की तारीख में डॉलर इंडेक्स लगभग 19 प्रतिशत मजबूत हुआ है. रूस-यूक्रेन युद्ध से उत्पन्न अनिश्चितता के बावजूद डॉलर को मजबूत करना और कमोडिटी या जिंसों की कीमतों में सह-संबंध ने 2022 में सोने की कीमतों को कमजोर किया है.

भारतीय नजरिये से गोल्‍ड

अच्‍छी बारिश सोने की मांग के लिए शुभ संकेत है और 2022 के मानसून सीजन में वर्षा से ग्रामीण क्षेत्रों में सोने की उच्च मांग में वृद्धि हुई है.


सितंबर के अंत तक (भारतीय मौसम विज्ञान विभाग) मॉनसून सामान्य सीमा से ऊपर समाप्त हो गया, जिसमें कुल बारिश लंबी अवधि के औसत (एलपीए) से 6% अधिक थी.


वर्ष 2022 में भारत में गोल्ड ईटीएफ में पूंजी आवक में भी वृद्धि हुई है और केंद्रीय बैंक द्वारा खरीदे जाने के साथ संयुक्त रूप से 2022 में अब तक में सोने की मांग में महत्वपूर्ण वृद्धि हुई है.


सितंबर के दौरान घरेलू सोने की कीमत में 1.8% की गिरावट के साथ, निवेशकों ने महीने के दौरान 0.4टन की शुद्ध आमद के साथ गोल्ड ईटीएफ में वापसी की. इसने सितंबर के अंत तक कुल सोने की होल्डिंग को बढ़ाकर 38.5 टन कर दिया. कुल मिलाकर, भारतीय गोल्ड ईटीएफ ने सितंबर 2022 तक 0.9टन की छोटी लेकिन सार्थक शुद्ध आवक दर्ज की है.


रुपये को बचाने की खातिर विदेशी करेंसी बाजार में रिजर्व बैंक के हस्तक्षेप के कारण कुल भंडार के प्रतिशत के रूप में सोने का भंडार (782.7 टन) रहा, जिससे विदेश मुद्रा भंडार 60 अरब डॉलर कम होकर मौजूदा 553 अरब डॉलर के स्तर पर आ चुका है.


वैश्विक परिदृश्य और रिपोर्ट में चर्चा किए गए कारकों की मेजबानी को देखते हुए, सवाल यह है कि क्या आप इस दिवाली सोना खरीदना चाहते हैं? यदि हां, तो निवेशकों के लिए कितने विकल्प उपलब्ध हैं और अगली दिवाली तक मूल्य को लेकर परिदृश्य क्या है.

निवेशकों को हमारी सलाह है कि इस दिवाली पर सोना खरीदें, क्योंकि यह सलाह दी जाती है कि अपने पोर्टफोलियो का कम से कम 10 प्रतिशत सोने में निवेशित होना चाहिए और दिवाली इस धातु खरीदने का एक शुभ अवसर है.


हम उम्मीद करते हैं कि सोने की कीमतें (सीएमपी: 51000/10 ग्राम) अगली दिवाली तक 56000/10 ग्राम की ओर बढ़ेंगी और निवेशकों को सलाह दी जाती है कि वे गिरावट के अवसर को इसे और खरीदने के रूप में लें.


परिदृश्य जो भी हो, अनिश्चितता के समय में सोना निवेशकों के लिए परिसंपत्ति वर्ग बन जाता है और अगर कोई सोने में विविधता लाने से लाभ उठाना चाहता है, तो भारत में सोना जमा करने के कई तरीके हैं.


  • भौतिक सोना खरीदना- आभूषण, गहने, सिक्के, बार्स


  • सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड - लंबी अवधि के लिए सोने में निवेश करने का सुरक्षित विकल्प. 2.5% प्रतिवर्ष की ब्याज दर देता है.


  • ईटीएफ- एक्सचेंज ट्रेडेड फंड उन निवेशकों के लिए हैं जो सोने में निवेश करने के साथ-साथ सोने में निवेश के तरल तरीकों को भी देख रहे हैं.


  • गोल्ड म्युचुअल फंड- ये विकल्प उन निवेशकों के लिए हैं जो एसआईपी के जरिए सोने में निवेश का सुविधाजनक तरीका चाहते हैं.


(लेखक एंजेल वन लिमिटेड में अनुसंधान, गैर-कृषि कमोडिटीज, और मुद्राएं विभाग के एवीपी हैं. आलेख में व्यक्त विचार लेखक के हैं. योरस्टोरी का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है.)

 


Edited by रविकांत पारीक

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें