Google ने एंड्रॉयड 11 को स्मार्टफोन में रोल आउट करना किया शुरू, जानें क्या हैं इसके खास फीचर्स?

By yourstory हिन्दी
September 09, 2020, Updated on : Wed Sep 09 2020 06:09:03 GMT+0000
Google ने एंड्रॉयड 11 को स्मार्टफोन में रोल आउट करना किया शुरू, जानें क्या हैं इसके खास फीचर्स?
आने वाले कुछ ही महीनों में ही एंड्रॉयड 11 फ़िलहाल सभी स्मार्टफोन डिवाइस में काम कर रहे पुराने वर्जन यानी एंड्रॉयड 10 की जगह ले लेगा।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

एंड्रॉयड 11 में दिये गए बबल नाम के फीचर के जरिये यूजर अपने स्मार्टफोन में आसानी से मल्टीटास्किंग कर सकते हैं।

एंड्रॉयड 11 जल्द ही कई डिवाइसेस में रोल आउट होना शुरू हो जाएगा।

एंड्रॉयड 11 जल्द ही कई डिवाइसेस में रोल आउट होना शुरू हो जाएगा।



लगभग एक महीने की बीटा टेस्टिंग के बाद अब गूगल ने अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के लेटेस्ट वर्जन यानी एंड्रॉयड 11 को लांच कर दिया है। गूगल ने सबसे पहले जिन मोबाइल फोन में इसे रोल आउट किया है उनमें पिक्सेल स्मार्टफोन शामिल हैं। सबसे पहले इसके अपडेट पिक्सेल 2 सिरीज़, पिक्सेल 3 सिरीज़, पिक्सेल 3ए सिरीज़, पिक्सेल 4 सिरीज़ और पिक्सेल 4ए सीरीज़ में नज़र आयेगा।


गूगल के इन स्मार्टफोन के साथ ही एंड्रॉयड 11 को वनप्लस, श्याओमी, ओप्पो और रियलमी भी अपने स्मार्टफोनों में रोलआउट करने जा रही हैं। शुरुआती अपडेट अभी इन सभी कंपनियों की टॉप डिवाइस को मिलेगा, लेकिन आने वाले महीनों में ही एंड्रॉयड 11 फ़िलहाल सभी स्मार्टफोन डिवाइस में काम कर रहे पुराने वर्जन यानी एंड्रॉयड 10 की जगह ले लेगा।


अगर हम एंड्रॉयड 11 में मिलने जा रहे नए फीचर्स की बात करें तो इसका मुख्य फोकस यूजर के लिए उसके स्मार्टफोन के इस्तेमाल को सरल बनाने पर टिका है। इसी के साथ ही नए वर्जन में नॉटिफिकेशन के लिए भी डेडिकेटेड स्पेस दिया गया है।





एंड्रॉयड 11 में दिये गए बबल नाम के फीचर के जरिये यूजर अपने स्मार्टफोन में आसानी से मल्टीटास्किंग को अंजाम दे सकता है। इसी के साथ ही यूजर पावर बटन को देर तक दबाने के साथ ही फोन से कनेक्टेड स्मार्ट डिवाइसेस को भी एक्सेस कर सकता है।


गूगल के इस ओएस के नए वर्जन में स्क्रीन रिकॉर्डिंग फीचर बिल्ट-इन मिल रहा है, जबकि इसमें प्राइवेसी फीचर्स को भी काफी बेहतर किया गया है। एंड्रॉयड 11 में माइक्रोफोन, कैमरा और लोकेशन जैसे सवेदनशील डाटा को एक्सेस करने वाली ऐप्स को यूजर से बार-बार पर्मिशन लेनी होगी।


गूगल ने अपने एक ब्लॉग पोस्ट में यह बताया है कि एडिशनल गूगल प्ले सिस्टम अपडेट मॉड्यूल के साथ प्राइवेसी और सिक्योरिटी फिक्सेस आपके फोन पर गूगल प्ले के जरिये भेजे जाएंगे। ऐसे में आपको इन फिक्सेस के लिए फुल ओएस अपडेट का इंतज़ार नहीं करना होगा।