दिव्यांग समुदाय को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने, उनका आत्मविश्वास बढ़ाने और उन्हे रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का काम कर रहा है 'LoveActuallyMe'

By प्रियांशु द्विवेदी
September 08, 2020, Updated on : Thu Sep 10 2020 03:38:28 GMT+0000
दिव्यांग समुदाय को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने, उनका आत्मविश्वास बढ़ाने और उन्हे रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का काम कर रहा है 'LoveActuallyMe'
LoveActuallyMe पीडबल्यूडी समुदाय के लिए अब एक खास ऐप लाने की तैयारी में है, जिसके जरिये इस समुदाय को कई बुनियादी समस्याओं से पार पाने और आगे बढ़ने में मदद मिलेगी।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

LoveActuallyMe दिव्यांग समुदाय को समाज की मुख्यधारा में लाने, उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने और सामान्य लोगों का उनके प्रति नज़रिया बदलने के लिए लगातार प्रयासरत है।

LoveActuallyMe के संस्थापक, रजनीश, तनुश्री और कृष्णा

LoveActuallyMe के संस्थापक, रजनीश, तनुश्री और कृष्णा



हमारे आस-पास जब कोई दिव्यांग व्यक्ति नज़र आता है तो अधिकांश बार लोगों के हाव-भाव बदल से जाते हैं, लोग या तो आसहज हो जाते हैं या उनकी संवेदनशीलता में कहीं न कहीं कमी नज़र आने लगती है। दिव्यांग यानी PWD समुदाय को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने, उनके आत्मविश्वास को बढ़ाने और उन्हे रोजगार के नए मौकों तक ले जाने के उद्देश्य से ही तनुश्री शर्मा ने अपने दोस्तों रजनीश शर्मा और कृष्णा पारुलकर के साथ मिलकर LoveActuallyMe की शुरुआत की है।


LoveActuallyMe को पीडबल्यूडी (दिव्यांग) समुदाय के प्रति लोगों के व्यवहार परिवर्तन लाने के उद्देश्य एक पहल के रूप में शुरू किया गया है। LoveActuallyMe पीडबल्यूडी समुदाय को सशक्त और प्रोत्साहित करने के लिए एक ऑनलाइन और ऑफलाइन समुदाय है।

ऐसे हुई शुरुआत

योरस्टोरी के साथ हुई बातचीत में रजनीश ने LoveActuallyMe की शुरुआत के बारे में बताया।


पहल की संस्थापक तनुश्री की माँ को कैंसर था और खुद रजनीश की चचेरी बहन को सेरेब्रल पाल्सी नाम की बीमारी थी, जिससे उनके शरीर में चलने-फिरने की क्षमता पूरी तरह खत्म हो गई थी। तनु की माँ मुंबई में थीं, जबकि रजनीश की बहन तब देहारादून में थीं। रजनीश के अनुसार मुंबई में जहां तनु की माँ को एक सकारात्मक माहौल मिला, जबकि उनकी बहन के लिए देहारादून में ऐसा कुछ नहीं था।


रजनीश कहते हैं,

“बहन के प्रति लोगों के बर्ताव और उनके भाव ने मुझे सोचने पर मजबूर कर दिया। मैं नहीं चाहता था कि कोई उसकी बीमारी के चलते उसे हीन भावना से देखे।”


रजनीश ने इस तरह की शारीरिक अक्षमताओं से प्रभावित लोगों को समाज की मुख्य धारा में जोड़े रखने और उनके हौसले को बनाए रखने के उद्देश्य से आगे कदम बढ़ाने का निर्णय लिया और फिर LoveActuallyMe में बतौर सह-संस्थापक शामिल हुए।


आज इस पहल के तहत इग्नाइट नाम से एक इवेंट का भी आयोजन किया जाता है, जहां PWD समुदाय के लोग अपनी रुचि के अनुसार कई तरह की एक्टिविटी में हिस्सा लेते हैं।

दिल्ली में iGNiTE इवेंट

दिल्ली में iGNiTE इवेंट



आ रही है ऐप

LoveActuallyMe पीडबल्यूडी समुदाय के लिए अब एक खास ऐप लाने की तैयारी में है, जिसके जरिये इस समुदाय को कई बुनियादी समस्याओं से पार पाने में मदद मिलेगी।


रजनीश के अनुसार, सोशल कम्यूनिटी स्थापित करने वाली अधिकतर ऐप मुख्यता सामान्य लोगों पर ही फोकस करती हैं, लेकिन कोई भी ऐसी ऐप नहीं है जो पीडबल्यूडी समुदाय की सोशलाइजिंग पर फोकस करे।


वो कहते हैं,

“हम ऐसी ऐप पर काम कर रहे हैं जो पीडबल्यूडी के सोशलाइजिंग पर केन्द्रित हो, इसमें हमारा 70 प्रतिशत ध्यान पीडबल्यूडी समुदाय और 30 प्रतिशत ध्यान सामान्य लोगों पर है।”


ऐप में डेटिंग ऐप बंबल की तरह तीन सेगमेंट जोड़े जा रहे हैं, जो सोशलाइजिंग, प्रोफेशनलिज़्म और कम्यूनिटी हैं।





रजनीश कहते हैं, ‘जब हम किसी दिव्यांग को देखते हैं तो हमारे चेहरे के भाव बदल जाते हैं। ऐसी स्थिति में जब कम्यूनिकेशन नहीं होता है तब हमें यह पता नहीं चल पता है कि उस दिव्यांग में क्या खूबियाँ हैं, जो सकता है कि वह कई चीजों में हमसे कहीं बेहतर हो। जब लोगों के बीच बातचीत होती है तब स्वीकार्यता बढ़ती है और यही हमारा लक्ष्य है।’


ऐप के माध्यम से पीडबल्यूडी समुदाय को नौकरी की तलाश में भी मदद करने का विचार है। ऐप मुख्य रूप से समुदाय और नौकरी देने वालों को आपस में जोड़ने का काम करेगी। कम्यूनिटी बिल्डिंग के जरिये इस समुदाय को सभी के साथ बड़े और खुले स्तर पर जोड़ने का लक्ष्य हैं, जहां सभी अपने विचार साझा कर सकें और एक दूसरे का सहयोग कर सकें। यह ऐप समुदाय के लिए मैचमेकिंग सुविधा भी उपलब्ध कराएगी।


रजनीश के अनुसार, ऐप के साथ भी अभी कई अन्य चीजें भी पाइपलाइन में हैं, जिन्हे समुदाय के लिए जल्द ही पेश करने की योजना है।

ऐप से राजस्व

ऐप को पीडबल्यूडी समुदाय ले साथ ही सामान्य लोगों के लिए भी तैयार किया जा रहा है। ऐप को सब्स्क्रिप्शन मॉडल के साथ लोगों के सामने पेश किया जाएगा, हालांकि पीडबल्यूडी समुदाय के लिए ऐप का सब्स्क्रिप्शन चार्ज काफी कम रहेगा। ऐप अभी विकसित हो रही है और इस तरह की अन्य ऐप्स में लोगों को होने वाली परेशानियों को ध्यान में रखते हुए इस ऐप को सुधार के साथ तैयार किया जा रहा है। रजनीश की मानें तो इस साल के अंत तक ऐप लोगों के सामने आ जाएगी।