सरकार ने देश भर के एक लाख आयुष्मान भारत स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्रों में टेली परामर्श सुविधा ई-संजीवनी की शुरूआत की

By रविकांत पारीक
April 17, 2022, Updated on : Sun Apr 17 2022 05:37:21 GMT+0000
सरकार ने देश भर के एक लाख आयुष्मान भारत स्वास्थ्य और आरोग्य केन्द्रों में टेली परामर्श सुविधा ई-संजीवनी की शुरूआत की
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने टेली-परामर्श के डिजिटल मंच के माध्यम से प्रदान की जा रही स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ावा देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “स्वास्थ्य, विकास के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मुद्दा है।”
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मंडाविया ने शनिवार को एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए आयुष्मान भारत-स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों (AB-HWC) की चौथी वर्षगांठ समारोह की अध्यक्षता की। इस कार्यक्रम में 1 लाख से अधिक AB-HWC, राज्यों के स्वास्थ्य मंत्री, सभी राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के वरिष्ठ अधिकारियों, विभिन्न अस्पतालों के स्वास्थ्यकर्मियों और विकास साझेदारों ने हिस्सा लिया।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने टेली-परामर्श के डिजिटल मंच के माध्यम से प्रदान की जा रही स्वास्थ्य सेवाओं को बढ़ावा देने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, "स्वास्थ्य, विकास के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। प्रधानमंत्री के दूरदर्शी नेतृत्व में हम स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में "सांकेतिक समाधान से समग्र समाधान" की ओर बढ़ गए हैं और टेली- परामर्श सेवाएं इसका एक उदाहरण हैं। प्रधानमंत्री की परिकल्पना के अनुरूप ई-संजीवनी सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य देखभाल सेवा प्रदान कर रही है। कई राज्यों में लोग ई-संजीवनी के लाभों को जानने लगे हैं और इससे स्वास्थ्य सेवाओं की मांग के इस डिजिटल तरीके को व्यापक रूप में तेजी से अपनाने की एक उत्साहजनक प्रवृत्ति सामने आई है। रोगी स्वास्थ्य सेवाएं प्राप्त करने के लिए इस अभिनव डिजिटल माध्यम का उपयोग करके दैनिक आधार पर डॉक्टरों और विशेषज्ञों से परामर्श करते हैं। आज कुछ एचडब्ल्यूसी कुछ गंभीर रोगों जैसे कि मुंह का कैंसर, स्तन कैंसर और सर्वाइकल (गर्दन संबंधी) कैंसर के लिए स्क्रीनिंग सेवाएं भी प्रदान कर रहे हैं। इससे रोग का न केवल शीघ्र पता लगाने में सहायता मिलती है, बल्कि रोगी को जल्द इलाज भी उपलब्ध होता है। स्वस्थ नागरिक ही स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकते हैं और स्वस्थ समाज से ही स्वस्थ राष्ट्र का निर्माण होता है। एबी-एचडब्ल्यूसी इस सोच की ओर बढ़ते हुए कदम हैं।"


केंद्रीय मंत्री ने साथ ही कहा, "सुदूर क्षेत्रों के लोगों के लिए टेली-परामर्श सेवाएं काफी महत्वपूर्ण हैं और ये सभी के लिए स्वास्थ्य सेवाओं को सुलभ बनाने में सहायक हैं। राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को सभी हितधारकों को अलग-अलग क्षेत्रों में सेवाएं प्रदान करने और उन्हें प्रभावी ढंग से केंद्र से जोड़ने के लिए एकजुट होना चाहिए।" केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को AB-HWC स्वास्थ्य मेलों के बारे में तत्काल और सक्रिय रूप से जागरूकता उत्पन्न करने की सलाह दी। यह सभी HWC में 17 अप्रैल को आयोजित होने वाले योग सत्रों के अलावा 18 से 22 अप्रैल तक आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आयोजित किया जाएगा, जिससे नागरिक इन स्वास्थ्य मेलों में सक्रिय रूप से हिस्सा ले सकें और अपने क्षेत्रों में प्रदान की जा रही HWC सेवाओं के बारे में जागरूक हो सकें। उन्होंने राज्यों को इस स्वास्थ्य मेले के दौरान टीबी, सर्वाइकल कैंसर, मधुमेह और मुंह के कैंसर की व्यापक जांच करने की सलाह दी। इसके अलावा मंत्री ने सभी को इस स्वास्थ्य मेले में सक्रिय रूप से हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित किया और इसका आह्वाहन किया।


इस कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने चार पुस्तिकाओं का भी विमोचन किया। इनमें AB-HWC पर त्रैमासिक रिपोर्ट, स्वास्थ्य के लिए मानव संसाधन पर दिशानिर्देश, कार्यान्वयन के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रबंधन संवर्ग (कैडर) का मार्गदर्शन और भारतीय सार्वजनिक स्वास्थ्य मानक दिशानिर्देश हैं।


वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री डॉ. भारती प्रवीण पवार ने इस बात पर अपनी प्रसन्नता व्यक्त की कि आज पूरे देश में 1,17,440 से अधिक HWC सक्रिय रूप से विस्तारित स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर रहे हैं, जिससे किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचने तक का समय 30 मिनट तक कम हो गया है।


उन्होंने आगे कहा, "आज हमारे लिए यह बहुत गर्व की बात है कि हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दिखाए गए मार्ग पर चलते हुए आज देशवासियों को बिना किसी आर्थिक बोझ के सभी जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं उनके घरों के पास आसानी से उपलब्ध कराई जा रही हैं। चाहे गर्भवती माताएं हों, नवजात शिशु हों, हमारे किशोर हों, या सम्मानित वृद्धजन, सभी स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ उठा रहे हैं। केवल इतना ही नहीं, दिव्यांगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र के बुनियादी ढांचे को भी डिजाइन किया गया है, जिससे दिव्यांग मरीज भी प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच सकें। ये स्वास्थ्य केंद्र समुदाय के स्वास्थ्य हित में स्वास्थ्य सुविधाओं का वितरण सुनिश्चित कर रहे हैं और राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति- 2017 की प्रतिबद्धताओं को पूरा कर रहे हैं।”


नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने निरोगी भारत के निर्माण में टेली-परामर्श सेवाओं के गेम-चेंजिंग पहल की सराहना की। उन्होंने जोर देकर कहा कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हमारे देश की स्वास्थ्य प्रणाली का सबसे महत्वपूर्ण घटक है, क्योंकि ये स्थानीय आबादी की जरूरतों को पूरा करते हैं और उनके मस्तिष्क में स्वास्थ्य सेवाओं के लिए संपर्क के पहले बिंदु के रूप में स्थापित है। उन्होंने आगे बताया कि स्वास्थ्य क्षेत्र का ध्यान केवल कुछ ही माताओं, बच्चे, वाश (जल, स्वच्छता व हाइजीन) सेवाओं को पूरा करने के पिछले प्रतिमान से अब सभी के लिए पूर्ण व्यापक स्वास्थ्य कवरेज पर केंद्रित हो गया है।


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने प्रतिभागियों को बताया कि भारत सरकार दिसंबर, 2022 तक 1,50,000 आयुष्मान भारत-स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र (AB-HWC) की स्थापना के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि हमने पहले ही देश में 1,17,400 AB-HWC को शुरू कर दिया है और ई-संजीवनी HWC पोर्टल पर 1 लाख से अधिक लोगों ने सफलतापूर्वक अपना पंजीकरण कराया है।


सचिव ने आगे सार्वभौमिक स्वास्थ्य कवरेज प्राप्त करने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति के विचार का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि इस पर सरकार सक्रियता के साथ काम कर रही है और एचडब्ल्यूसी इसे प्राप्त करने में हमारे प्रयासों को बढ़ावा देने में सहायता करेंगे। ये HWC मुफ्त परीक्षण और नैदानिक सेवाएं आदि प्रदान करते हैं, जिससे नागरिकों को अपने स्थानीय HWC में ही गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्राप्त हो सके। इन सेवाओं के अलावा HWC अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रम और योजनाएं भी संचालित कर रहे हैं, जिससे स्वास्थ्य के साथ-साथ कल्याण व तंदुरूस्ती के विचार भी नागरिकों के बीच फैले सके। उन्होंने आगे राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों को उनके अथक प्रयासों और अपने-अपने राज्यों में नेतृत्व प्रदान करने के लिए धन्यवाद दिया।


Edited by Ranjana Tripathi