क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग ? जानिए क्रिप्टो माइनिंग का तरीका

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्रूफ-ऑफ-वर्क (PoW) मैथड का उपयोग करने वाली क्रिप्टोकरेंसी के लिए ब्लॉकचेन में नए ट्रांजेक्शन को वैरिफाई करती है और जोड़ती है. इसमें प्रतियोगिता जीतने वाले माइनर को कुछ करेंसी / ट्रांजेक्शन फीस रिवार्ड के रूप में दी जाती है.

क्या होती है क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग ? जानिए क्रिप्टो माइनिंग का तरीका

Wednesday May 25, 2022,

4 min Read

ज्यादातर लोग क्रिप्टो माइनिंग को केवल नए कॉइन बनाने का एक तरीका मानते हैं. हालांकि, क्रिप्टो माइनिंग का मतलब ब्लॉकचेन नेटवर्क पर क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजेक्शन को वैलिडेट करना और उन्हें एक डिस्ट्रीब्यूटेड लेज़र में जोड़ना है. सबसे महत्वपूर्ण बात, क्रिप्टो माइनिंग एक डिस्ट्रीब्यूटेड नेटवर्क पर डिजिटल करेंसी के दोहरे खर्च (double-spending) को रोकती है.

इसे आसान भाषा में ऐसे समझ सकते हैं — क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्रूफ-ऑफ-वर्क (PoW) मैथड का उपयोग करने वाली क्रिप्टोकरेंसी के लिए ब्लॉकचेन में नए ट्रांजेक्शन को वैरिफाई करती है और जोड़ती है. इसमें प्रतियोगिता जीतने वाले माइनर को कुछ करेंसी / ट्रांजेक्शन फीस रिवार्ड के रूप में दी जाती है.

cryptocurrency mining

जैसा कि रोजमर्रा की बैंकिंग में होता है. फिजिकल करेंसी की तरह, जब एक मेंबर क्रिप्टोकरेंसी खर्च करता है, तो डिजिटल लेज़र को एक अकाउंट को डेबिट करके और दूसरे को क्रेडिट करके अपडेट किया जाना चाहिए. हालांकि, डिजिटल करेंसी के साथ समस्या यह है कि डिजिटल प्लेटफॉर्म को आसानी से हेरफेर किया जाता है. इसलिए, बिटकॉइन का डिस्ट्रीब्यूटेड लेज़र केवल वैरिफाइड माइनर्स को डिजिटल लेज़र पर ट्रांजेक्शन को अपडेट करने की अनुमति देता है. यह माइनर्स को नेटवर्क को दोहरे खर्च से बचाने की अतिरिक्त जिम्मेदारी देता है.

इस बीच, नेटवर्क को सिक्योर करने में माइनर्स को उनके काम का रिवार्ड देने के लिए नए कॉइन बनाए जाते हैं. चूंकि डिस्ट्रीब्यूटेड लेज़र में सेंट्रलाइज्ड अथॉरिटी की कमी होती है, इसलिए ट्रांजेक्शन को वैलिडेट करने के लिए माइनिंग प्रोसेस महत्वपूर्ण है. इसलिए, माइनर्स को ट्रांजेक्शन वैरिफिकेशन प्रोसेस में भाग लेकर नेटवर्क को सिक्योर करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, जिससे नए बनाए गए कॉइन जीतने की संभावना बढ़ जाती है.

यह सुनिश्चित करने के लिए कि केवल वैलिफाइड क्रिप्टो माइनर ही ट्रांजेक्शन कर सकते हैं और वैलिडेट कर सकते हैं, एक प्रूफ-ऑफ-वर्क (proof-of-work - PoW) सर्वसम्मति प्रोटोकॉल लागू किया गया है. PoW किसी भी बाहरी हमले से नेटवर्क को सिक्योर रखता है.

अब ये प्रूफ-ऑफ-वर्क क्या है?

प्रूफ-ऑफ-वर्क एक ब्लॉकचेन सर्वसम्मति प्रोटोकॉल है, जिसके लिए एक गणितीय पहेली को हल करने के लिए एक माइनर की जरुरत होती है. बिटकॉइन और एथेरियम (वर्ज़न 2 से पहले) प्रूफ-ऑफ-वर्क मैथड का उपयोग करते हैं.

क्रिप्टो के अलावा, स्पैमर्स को रोकने के लिए, ईमेल के लिए PoW मैथड का एक बदलाव प्रस्तावित किया गया है. उदाहरण के लिए, यदि हर एक मैसेज को भेजे जाने से पहले केवल 15 सेकंड इंतजार करना पड़ता है, तो कंप्यूटर का उपयोग कभी भी हजारों मैसेज भेजने के लिए नहीं किया जा सकता है.

हालांकि, क्रिप्टो की दुनिया में प्रूफ-ऑफ-वर्क एक बहुत ही विवादास्पद विषय है. क्योंकि यह भारी मात्रा में बिजली का उपयोग करता है.

cryptocurrency mining

क्यों करनी पड़ती है क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग?

जैसा कि अब आप जान ही गए होंगे कि क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग का उपयोग नए कॉइन बनाने के साथ-साथ मौजूदा ट्रांजेक्शन को वैलिडेट करने के लिए किया जाता है. ब्लॉकचेन की डिसेंट्रलाइज्ड प्रकृति धोखेबाजों को एक ही समय में एक से अधिक बार क्रिप्टोकरेंसी खर्च करने की अनुमति दे सकती है, यदि कोई भी प्रमाणित ट्रांजेक्शन नहीं करता है. माइनिंग इस तरह की धोखाधड़ी को कम करती है और कॉइन में यूजर का विश्वास बढ़ाती है.

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग के दो उद्देश्य हैं. यह नई क्रिप्टोकरेंसी तैयार करता है और यह ब्लॉकचेन पर मौजूदा क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजेक्शन की प्रामाणिकता की पुष्टि करता है.

ट्रांजेक्शन के एक ब्लॉक की पुष्टि करने की प्रक्रिया पूरी करने के बाद एक माइनर की प्रतिपूर्ति (reimburse) की जाती है. और बदले में उन्हें नई तैयार की गई क्रिप्टोकरेंसी मिलती है.

कैसे होती है क्रिप्टो माइनिंग?

क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग के लिए विशेष सॉफ्टवेयर वाले कंप्यूटरों की जरुरत होती है जो विशेष रूप से जटिल, क्रिप्टोग्राफिक गणितीय समीकरणों को हल करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. टेक्नोलॉजी के शुरुआती दिनों में, बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को घरेलू कंप्यूटर पर एक साधारण सीपीयू चिप के साथ माइन किया जा सकता था. हालांकि, पिछले कुछ वर्षों में, सीपीयू चिप्स बढ़ती कठिनाई के स्तर के कारण अधिकांश क्रिप्टोकरेंसी की माइनिंग में फैल होते नज़र आए.

आज के इस दौर में, क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग के लिए एक विशेष GPU या एक Application-Specific Integrated Circuit (ASIC) माइनर की आवश्यकता होती है. इसके अलावा, माइनिंग रिग में GPU को हर समय एक विश्वसनीय इंटरनेट कनेक्शन से जोड़ा जाना चाहिए. प्रत्येक क्रिप्टो माइनर को एक ऑनलाइन क्रिप्टो माइनिंग पूल का भी सदस्य होना आवश्यक है.