PickMyWork: काम करो और पैसा कमाओ... फ्लिपकार्ट, ONDC, पिनकोड जैसी कंपनियों में काम दिलाती है ये कंपनी

गुरुग्राम स्थित PickMyWork एक गिग प्लेटफॉर्म है जो डिजिटल कंपनियों को बहुत कम CAC (Customer Acquisition Cost) पर Pay-per-task मॉडल के जरिए अपने प्रोडक्ट्स के लिए दुकानों सहित अंतिम ग्राहक प्राप्त करने में मदद करता है.

PickMyWork: काम करो और पैसा कमाओ... फ्लिपकार्ट, ONDC, पिनकोड जैसी कंपनियों में काम दिलाती है ये कंपनी

Monday October 30, 2023,

6 min Read

त्योहारी सीज़न में ई-कॉमर्स, फूड टेक, लॉजिस्टिक्स और रिटेल सेक्टर में हायरिंग के आंकड़ों में तगड़ा इजाफा हो रहा है. खासकर डिलीवरी, लॉजिस्टिक्स, वेयरहाउस, छंटाई और पैकिंग से संबंधित भूमिकाओं में, क्योंकि ये कंपनियां त्योहारों पर मिलने वाले ऑर्डर का पूरा करने के लिए तैयार हैं.

नियमित श्रमिकों की तुलना में गिग वर्कर्स का पलड़ा दिन-ब-दिन भारी होता जा रहा है क्योंकि वे कंपनियों की लागत बचाते हैं. CII की एक रिपोर्ट के अनुसार, अनुमान है कि भारत 2025 तक अपनी गिग वर्कफोर्स में 110 लाख या उससे अधिक श्रमिकों की वृद्धि देखेगा.

गुरुग्राम स्थित PickMyWorkएक गिग प्लेटफॉर्म है जो डिजिटल कंपनियों को बहुत कम CAC (Customer Acquisition Cost) पर Pay-per-task मॉडल के जरिए अपने प्रोडक्ट्स के लिए दुकानों सहित अंतिम ग्राहक प्राप्त करने में मदद करता है.

दो दोस्तों — काजल मलिक और विद्यार्थी बदीरेड्डी ने मिलकर साल 2019 में PickMyWork की स्थापना की थी. यह प्लेटफॉर्म अब देश के 20 से ज्यादा राज्यों में अपनी पहुंच बना चुका है. कंपनी ने अपनी शुरुआत से ही भौगोलिक रूप से तेज विस्तार दर्ज किया है और इससे उसे 8 लाख से ज्यादा गिग वर्कर से सफलतापूर्वक जुड़ने में मदद मिली है. इससे रोजगार और उद्यमिता के लिए अवसर मजबूत हुए हैं.

Vidyarthi Baddireddy_ CEO & Co-founder at PickMyWork

विद्यार्थी बदीरेड्डी, को-फाउंडर और सीईओ, PickMyWork

कैसे काम करता है PickMyWork

PickMyWork एक डायनेमिक प्लेटफॉर्म के रूप में काम करता है जो अपने ग्राहक आधार का विस्तार करने का लक्ष्य रखने वाली डिजिटल कंपनियों और आय के अवसर तलाशने वाले गिग वर्कर्स के बीच एक पुल के रूप में कार्य करता है. डिजिटल बिजनेस अपने इंटरनेट प्रोडक्ट्स को PickMyWork मोबाइल ऐप पर दिखाते हैं, जिसकी गिग वर्कर्स के नेटवर्क तक पहुंच होती है जो सक्रिय रूप से इन पेशकशों को बढ़ावा देते हैं और बेचते हैं. इस बीच, गिग वर्कर, मुख्य रूप से टियर 2 और टियर 3 शहरों से, PickMyWork के ऐप का उपयोग करते हैं और इन प्रोडक्ट्स का पता लगाते हैं. वे व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं और दुकान मालिकों सहित अंतिम ग्राहकों को इन इंटरनेट प्रोडक्ट्स को सफलतापूर्वक बेचने के लिए कमीशन कमाते हैं.

एडवांस टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए, PickMyWork कंपनियों के लिए प्रक्रिया को सुव्यवस्थित करते हुए, इन गिग वर्कर्स को कुशलतापूर्वक सॉर्स, प्रशिक्षित और मैनेज करता है. प्रत्येक डिलीवरी के परिणामस्वरूप एजेंट के वॉलेट में पैसे जमा हो जाते हैं, साथ ही उनके बैंक अकाउंट्स में वीकली ट्रांसफर भी किया जाता है.

बिजनेस, रेवेन्यू मॉडल

PickMyWork अपनी फाइनेंशियल ग्रोथ को आगे बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के रेवेन्यू सॉर्स का उपयोग करता है. प्राइमरी रेवेन्यू सॉर्स Pay-per-task मॉडल है, जहां ग्राहक प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से गिग वर्कर्स द्वारा प्राप्त प्रत्येक ग्राहक या बिक्री के लिए भुगतान करते हैं. यह मॉडल गिग वर्कर्स के प्रदर्शन और PickMyWork के लिए रेवेन्यू जनरेट करने में मदद करता है. इसके अलावा, कंपनी उपलब्धियों के आधार पर रेवेन्यू-शेयरिंग मॉडल का लाभ उठाती है और प्री-पेड अधिग्रहण सेवाओं के लिए टॉप-अप के माध्यम से सॉफ्टवेयर-एज-ए-सर्विस (SaaS) रेवेन्यू जनरेट करती है.

भारतीय युवाओं को स्विगी, जोमैटो, बिग बास्केट जैसे फूड डिलिवरी/हाइपरलोकल ऐप्स के लिए डिलिवरी गिग पूरा करने और कमीशन कमाने में मदद करने के लिए संस्थापकों ने PickMyWork नाम से ‘पे-पर-सेल गिग प्लेटफॉर्म’ बनाया, जिसमें इंटरनेट कंपनियों के लिए सेल्स गिग को डिलिवरी गिग की तुलना में 3 गुना आय प्रति घंटे के वादे के साथ पूरा किया जा सकता है

सभी के लिए आसान पहुंच सुनिश्चित करने के प्रयास में PickMyWork अब 7 क्षेत्रीय भाषाओं में सेवाएं मुहैया कराता है. इस समावेशी दृष्टिकोण से विविध लोगों की जरूरतें पूरी करने, भाषाई दीवार तोड़ने और व्यापक उपयोगकर्ता आधार के लिए रोजगार तैयार करने के लिए प्लेटफॉर्म की प्रतिबद्धता का पता चलता है. इसके अलावा, प्लेटफॉर्म ने प्रमुख डिजिटल ब्रांडों को उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली एनसीआर समेत प्रमुख राज्यों में पहुंच बढ़ाने में मदद प्रदान की है.

PickMyWork का वर्तमान रेवेन्यू 50 लाख रुपये प्रति माह है. और इस साल के अंत तक, कंपनी को 8 करोड़ रुपये के सालाना रेवेन्यू तक पहुंचने की उम्मीद है, जो डिजिटल बिजनेस और गिग इकॉनमी लैंडस्केप में इसकी निरंतर सफलता और विस्तार को दर्शाता है.

pickmywork

फंडिंग

PickMyWork की शुरुआत बतौर बूटस्ट्रैप्ड (बिना किसी बाहरी फंडिंग के) कंपनी हुई थी. आगे चलकर इसने सितंबर, 2022 में अपने सीड फंडिंग राउंड में 1 मिलियन डॉलर जुटाए. इस फंडिंग राउंड में SOSV, Blume Founders Fund, Venture Catalysts, Mumbai Angels, Imperier Holdings, Upaya Social Ventures, We Founder Circle, Soonicorn Ventures, 888VC, CIIE, और Chandigarh Angels Network ने निवेश किया.

चुनौतियां

गिग वर्कर्स के साथ डिजिटल बिजनेसेज को जोड़ने के लिए एक प्लेटफॉर्म तैयार करना वाकई चुनौतियों से भरा रहा. PickMyWork के लिए न केवल एक कार्यात्मक प्रणाली का निर्माण करना आसान था बल्कि कंपनियों और गिग वर्कर्स दोनों के लिए एक सहज अनुभव सुनिश्चित करना भी चुनौतिपूर्ण था. इसके लिए सावधानीपूर्वक योजना और कार्यान्वयन की आवश्यकता थी, क्योंकि प्लेटफ़ॉर्म को यूजर-फ्रैंडली इंटरफेस प्रदान करते हुए एजेंटों को कुशलतापूर्वक सॉर्स, प्रशिक्षित और मैनेज करने की आवश्यकता थी.

इसके अलावा, शुरुआती दौर में, बाज़ार के भीतर विश्वास और विश्वसनीयता बनाना एक महत्वपूर्ण बाधा साबित हुई. इस इनोवेटिव मॉडल को अपनाने के लिए डिजिटल कंपनियों और गिग वर्कर्स दोनों को समझाने के लिए एक रणनीतिक दृष्टिकोण और प्रभावी संचार की आवश्यकता थी. इन कठिन चुनौतियों के बावजूद, फाउंडर्स की अटूट दृढ़ता, नई सोच और इन उद्योग-व्यापी मुद्दों को संबोधित करने के लिए अटूट समर्पण ने PickMyWork की उल्लेखनीय सफलता और निरंतर वृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

भविष्य की योजनाएं

आज तक, PickMyWork ने 50 से अधिक कंपनियों के साथ हाथ मिलाया है, जिससे इसे 8 लाख से अधिक प्रभावशाली ग्राहक प्राप्त करने में सहायता मिली है. कंपनी का ग्राहक आधार B2B सेक्टर में प्रतिष्ठित नामों का दावा करता है, जिसमें ONDC, Google Pay, Flipkart, Paytm, Axis Bank, AU Bank, IndusInd Bank, CityMall, JAR, FI Money, Amazon Pay, और Lendbox जैसे उद्योग के दिग्गज शामिल हैं.

आने वाले समय में कंपनी के रोडमैप में अधिक ग्राहकों की सेवा करने और गिग वर्कर्स को कमाई के अवसर प्रदान करने के लिए नए क्षेत्रों में अपनी भौगोलिक उपस्थिति का विस्तार करना शामिल है. कंपनी का मकसद गिग वर्कर्स की स्किल्स को बढ़ाना है. कंपनी ने 2023 के अंत तक 10 लाख नए यूजर हासिल करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य भी रखा है. ये यूजर प्रोडक्ट-फर्स्ट इंटरनेट कंपनियों के लिए काम करने और अप्रयुक्त बाजारों में उनके ग्राहक अधिग्रहण में योगदान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे. विशेष रूप से, तेजी से विकसित हो रहे सेक्टर्स में जहां फिनटेक, D2C और सोशल कॉमर्स में नए जमाने के स्टार्टअप फल-फूल रहे हैं, PickMyWork इन उभरते व्यवसायों के लिए डिस्ट्रीब्यूशन चैनल बनने की इच्छा रखता है.

यह भी पढ़ें
स्वदेशी सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म Khul Ke की अनसुनी कहानी...