ब्रांड्स को भी पता है क्या चीज हैं 'चाचा चौधरी', ऐसे भुना रहे उनका क्रेज और पॉपुलैरिटी

By Ritika Singh
May 29, 2022, Updated on : Fri Aug 26 2022 09:54:32 GMT+0000
ब्रांड्स को भी पता है क्या चीज हैं 'चाचा चौधरी', ऐसे भुना रहे उनका क्रेज और पॉपुलैरिटी
अब चाचा चौधरी की ट्रेडिशनल कॉमिक्स का दौर भले ही खत्म हो चला हो लेकिन यह कैरेक्टर आज भी कई तरीकों से जिंदा है...
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

चाचा चौधरी... यह कार्टून कैरेक्टर तो आपको याद ही होगा. अरे वही, जिसका दिमाग कंप्यूटर से भी तेज चलता है. कार्टूनिस्ट प्राण की सोच से उपजे डायमंड कॉमिक्स के इस कैरेक्टर ने 61 सालों तक भारतीयों के दिलों पर राज किया. लाल पगड़ी पहनने वाला एक मिडिल क्लास आम आदमी, जो अपनी बेजोड़ बुद्धिमानी और ज्यूपिटर से आए विशालकाय साबू की मदद से चुटकियों में किसी भी समस्या को सुलझा देता है. जिसके कुत्ते का नाम रॉकेट है और जो साबू के पटाखे वाले रॉकेट को पकड़कर पृथ्वी के चक्कर काटकर वापस आ जाता है...


चाचा चौधरी और साबू की जोड़ी ने कुछ इस तरह दिलों में जगह बनाई कि यह आज भी कायम है. अब चाचा चौधरी की ट्रेडिशनल कॉमिक्स का दौर भले ही खत्म हो चला हो लेकिन यह कैरेक्टर आज भी जिंदा है. सिर्फ लोगों की सोच में ही नहीं बल्कि डायमंड टून्स (Diamond Toons) की टॉकिंग कॉमिक्स और विभिन्न ब्रांड्स के साथ टाई अप के जरिए. आज कई ब्रांड ऐसे हैं, जो अपनी कैपेनिंग या ब्रांडिंग के लिए चाचा चौधरी कैरेक्टर की मदद ले रहे हैं. कुछ टाई अप तो लोगों को जागरुक करने के लिए भी हैं.


चाचा चौधरी ट्रेडिशनल कॉमिक बुक से निकलकर विभिन्न ब्रांड्स का चेहरा बन रहे हैं. कॉमिक्स हमेशा से लोगों से कनेक्ट होने का और उनका ध्यान आकर्षित करने का एक उम्दा तरीका रही हैं. यही वजह है कि अब कॉमिक्स, ब्रांड्स के लिए कंज्यूमर से जुड़ने का एक यूनीक इनोवेटिव तरीका हैं. ये बच्चों से लेकर बड़ों तक के साथ कनेक्ट करती हैं. डायमंड टून्स, ब्रांड की मदद केवल कॉमिक्स के जरिए ही नहीं कर रहे हैं. बल्कि ब्रांड की जरूरत के मुताबिक उन्हें कस्टमाइज और क्रिएटिव सॉल्युशंस भी उपलब्ध कराए जाते हैं.

मदर डेयरी के 'सफल' की कैंपेनिंग में चाचा

उदाहरण के लिए साल 2020 में मदर डेयरी के सफल फ्रोजन फूड का एक कैंपेन चाचा चौधरी के साथ हुआ. इसके लिए टॉकिंग कॉमिक्स भी लॉन्च की गईं, जिनमें चाचा चौधरी और साबू 'सफल' की ब्रांडिंग करते, इसके फ्रोजन प्रॉडक्ट्स के फैक्ट व फायदे बताते हुए नजर आए. चाचा चौधरी के साथ वीडियो भी बनाए गए और सोशल मीडिया की भी मदद ली गई. इसे लोगों से अच्छी प्रतिक्रिया भी मिली.


how-brands-are-redeeming-popular-cartoon-character-chacha-chaudhary-craze-and-popularity

CRED और ENO के लिए कैंपेन करते हुए भी दिखे

साल 2021 में चाचा चौधरी CRED के एक कैंपेन में भी दिखे. उनके साथ एड में सुप्पन्डी भी था. कैंपेन बेकरमैक्स के साथ कोलैबोरेशन में किया गया था. जीएसके कंज्यूमर के ENO ब्रांड ने भी चाचा चौधरी और साबू को लेकर एक कैंपेन किया था. 'चाचा चौधरी और एसिडिटी का हमला' नाम से डिजिटल कॉमिक्स और एनिमेटेड वीडियो लॉन्च किए गए.

Google ने भी लिया सहारा

चाचा चौधरी की भारत में पॉपुलैरिटी Google से भी छिपी हुई नहीं है. इसलिए देश में ग्रामीण व अर्धशहरी कम्युनिटीज को Google की उपयोगिता के बारे में शिक्षित करने के लिए Google India ने भी चाचा चौधरी का सहारा लिया. ऐसा टाटा ट्रस्ट के इंटरनेट साथी प्रोग्राम के साथ मिलकर किया गया. विभिन्न भारतीय भाषाओं की मदद ली गई और 8 पेज की 'चाचा चौधरी और सबका इंटरनेट' टॉकिंग कॉमिक्स के एडिशन निकाले गए. ईवेंट्स और प्रोग्राम्स के जरिए इन्हें बांटा गया. कॉमिक्स में चाचा चौधरी और चाची लोगों को डिजिटल साक्षरता के बारे में बताते हुए नजर आए.

अनुष्का शर्मा भी नहीं रहीं पीछे

बॉलीवुड एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा ने भी अपने अपैरल ब्रांड NUSH के लिए चाचा चौधरी को चेहरा बनाया. साल 2019 में चाचा चौधरी और साबू NUSH के नए कलेक्शन के लिए दिखे. NUSH के इस नए कलेक्शन का मकसद 1990 के दशक की यादों को ताजा करना था.

इससे आगे भी है कहानी

इसके अलावा लिबर्टी शूज, आईटीसी सनफीस्ट बाउंस बिस्किट, वाशिंगटन एप्पल्स, कैलिफोर्निया वॉलनट्स, बैकसन्स होम्योपैथी आदि के साथ भी डायमंड टून्स का टाईअप हुआ और चाचा चौधरी इनसे जुड़ी स्पेशल एडिशन कॉमिक बुक में नजर आए. इतना ही नहीं बॉलीवुड की कई फिल्मों के प्रमोशनल कैंपेन्स में भी चाचा चौधरी और साबू नजर आ चुके हैं. जैसे बॉस, टॉयलेट—एक प्रेमकथा, फुकरे रिटर्न्स, मिस्टर एक्स. आईपीएल क्रिकेट टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ भी एक स्पेशल कॉमिक एडिशन को लेकर डायमंड टून्स का टाई अप हुआ था.


ऐसा नहीं है कि चाचा चौधरी की मदद अपनी कैंपेनिंग के लिए केवल प्राइवेट ब्रांड्स ले रहे हैं. भारत सरकार और राज्य सरकारें भी डायमंड टून्स के साथ टाई अप किए हुए हैं. स्मार्ट सिटी प्रॉजेक्ट हो या नमामि गंगे प्रॉजेक्ट, स्वच्छ भारत अभियान या फिर टूरिज्म को बढ़ावा देना, चाचा चौधरी और साबू यहां भी लोगों को जागरुक करते नजर आ रहे हैं.


how-brands-are-redeeming-popular-cartoon-character-chacha-chaudhary-craze-and-popularity

पहली बार साल 1971 में दिखे थे चाचा चौधरी

चाचा चौधरी कैरेक्टर, चाणक्य और हर गांव में मौजूद, समस्या सुलझाने वाले अनुभवी बुद्धिमान लोगों से प्रेरित है. कार्टूनिस्ट प्राण कुमार शर्मा ने इस कैरेक्टर को पहली बार 1971 में हिंदी मैगजीन लोटपोट के लिए गढ़ा था. चाचा चौधरी पर कॉमिक्स के अलावा, एक टेलीविजन सीरीज और ओटीटी प्लेटफॉर्म पर एनिमेशन सीरीज भी आ चुकी हैं. नजारा टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड ने चाचा चौधरी पर एक ट्रेजर हंट मोबाइल गेम भी बनाया हुआ है. ऑडियो कॉमिक और डिजिटल कॉमिक भी उपलब्ध हैं.