कैसे ऑनलाइन डेटा कलेक्शन सर्वे में यूजर्स की प्राइवेसी को मजबूत बना रहा है यह ब्लॉकचेन स्टार्टअप

बेंगलुरु स्टार्टअप ब्लॉकसर्वे (BlockSurvey) एक डिसेंट्रलाइज्ड ब्लॉकचेन-संचालित डेटा कलेक्शन प्लेटफॉर्म है।

कैसे ऑनलाइन डेटा कलेक्शन सर्वे में यूजर्स की प्राइवेसी को मजबूत बना रहा है यह ब्लॉकचेन स्टार्टअप

Monday June 28, 2021,

6 min Read

जनवरी 2020 में विल्सन ब्राइट और राजा इलियापरुमल द्वारा लॉन्च किया गया, ब्लॉकसर्वे एक डिसेंट्रलाइज्ड ब्लॉकचेन-संचालित डेटा कलेक्शन प्लेटफॉर्म है। यह स्टार्टअप व्यवसायों और व्यक्तियों को नो-कोड ऑनलाइन फॉर्म और सर्वे बनाने और गुमनामी के आधार पर डेटा एकत्र करने में सक्षम बनाता है।

k

जब से इंटरनेट अस्तित्व में आया है, तब से डिजिटल प्राइवेसी एक जंग की तरह हो गई है। चाहे वह साइबर खतरों से कंपनियों को सुरक्षित करना हो या डेटा उल्लंघनों और डेटा लीक से व्यक्ति की जानकारी की सुरक्षा करना हो, ये जंग बहुत कठिन रही है।


मेंटल हेल्थ, सेक्सुअल हेल्थ, एक्टिविज्म आदि जैसे सर्वे पर संवेदनशील डेटा कलेक्ट करते समय यह और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। हालाँकि, Google फॉर्म, सर्वे मंकी और टाइपफॉर्म जैसे प्लेटफॉर्म हैं, लेकिन यहां डेटा को एक सेंट्रलाइज्ड डेटाबेस में अनएन्क्रिप्टेड तरीके से स्टोर किया जाता है, जिससे उसमें सेंध लगाने की गुंजाइश बनी रहती है।


बेंगलुरू स्थित स्टार्टअप ब्लॉकसर्वे इसी जगह को भुनाने की कोशिश कर रहा है। जनवरी 2020 में विल्सन ब्राइट और राजा इलियापरुमल द्वारा लॉन्च किया गया, ब्लॉकसर्वे एक डिसेंट्रलाइज्ड ब्लॉकचेन-संचालित डेटा कलेक्शन प्लेटफॉर्म है। यह स्टार्टअप व्यवसायों और व्यक्तियों को नो-कोड ऑनलाइन फॉर्म और सर्वे बनाने और गुमनामी के आधार पर डेटा एकत्र करने में सक्षम बनाता है।


विल्सन ने योरस्टोरी को बताया,

"ब्लॉकसर्वे का आइडिया तब सामने आया जब हमने 2019 में स्टैक्स ब्लॉकचैन द्वारा आयोजित हैकथॉन जीता। हम 2019 में एक साथ आए और ब्लॉकसर्वे के साथ शुरुआत की और आखिरकार 2020 में इसको आधिकारिक तौर पर लॉन्च किया।"


कंपनी समय सीमा के छह महीने के भीतर ही ठीक ठाक पैसे कमाने लगी, और अगले नौ महीनों में यह 'न हानि और न ही लाभ' वाली स्थिति में पहुंचने की उम्मीद कर रही है। Afthonia Lab द्वारा इनक्यूबेटेड, BlockSurvey में वर्तमान में 500+ एक्टिव मेंबर हैं और इसका इस्तेमाल व्यक्तियों और कंपनियों द्वारा किया जाता है। उनकी सेवाओं का उपयोग करके डाउनलोड किया गया कुल डेटा अब तक 100GB से अधिक है।

ऑनलाइन डेटा कलेक्शन में गैप क्या है?

इंटरनेट यूजर्स के लिए, ऑनलाइन अकाउंट डिजिटल पहचान (आइडेंटिटी) के रूप में काम करते हैं। किसी भी सर्वे टूल का इस्तेमाल करते समय, इस्तेमाल में आने वाले प्लेटफॉर्म के लिए यह डिजिटल पहचान केंद्रीकृत यानी सेंट्रलाइज्ड होती है और इसे अनएन्क्रिप्टेड तरीके से स्टोर किया जाता है।


विल्सन कहते हैं,

"सरल शब्दों में कहें तो, अकाउंट और आपका डेटा असल में आपके स्वामित्व में नहीं है - प्लेटफॉर्म प्रदाता ही अकाउंट और आपके द्वारा प्रोड्यूस किया गया डेटा दोनों का मालिक है।"


वह आगे बताते हैं कि इस सेंट्रलाइजेशन के कारण, डेटा लीक, डेटा ब्रीच, सेंसरशिप और ट्रस्ट की दिक्कतें लगातार हो रहे हैं। यदि प्लेटफॉर्म प्रदाता किसी यूजर को सेंसर करना चाहता है या वे यूजर्स के डेटा को हटाना चाहते हैं, तो वे ऐसा कर सकते हैं। अगर वे अपने डेटा तक पहुंचना चाहते हैं, तो उनके पास इसकी पहुंच है।


वह कहते हैं,

"यही आज किसी भी सेंट्रलाइज्ड तकनीक की एक दिक्कत है। डिजिटल स्पेस में प्लेटफॉर्म प्रोवाइडर का आप पर पूरा नियंत्रण होता है। यह सर्वे टूल स्पेस में अलग नहीं है। 2018 में टाइपफॉर्म डेटा ब्रीच और ऑस्ट्रेलिया में सर्वेमंकी पर रिपोर्ट किए गए डेटा माइनिंग मुद्दे कुछ उदाहरण हैं। एनोनिमस सर्वे वास्तव में एनोनिमस यानी गुमनाम नहीं होते हैं। वहां जीरो ऑनरशिप होती है।” 

BlockSurvey इसे कैसे हल करता है?

BlockSurvey UI वेबसर्वर से डाउनलोड किया जाता है और क्लाइंट पर चलाया जाता है। कोई ट्रैकर्स नहीं, कोई कुकीज नहीं, और कोई फिंगरप्रिंट नहीं है। अकाउंट के लिए, BlockSurvey डिसेंट्रलाइज्ड आइडेंटिटी (DID) का उपयोग करता है। आम आदमी के शब्दों में, इसे एक डिजिटल अकाउंट के रूप में समझें जो पब्लिक ब्लॉकचेन से आ रहा है।

k

विल्सन बताते हैं,

"यहां, आपकी आइडेंटिटी स्टैक ब्लॉकचैन से आ रही है, जो एक पब्लिक ब्लॉकचेन है। आपकी पहचान एक बहीखाता पर टिकी हुई है, जिसके आप असल में स्वामी हैं। कोई भी नहीं, प्लेटफॉर्म प्रदाता भी नहीं, न ही ब्लॉकचैन प्रदाता।" 


मूल रूप से, स्टैक ब्लॉकचैन आइडेंटिटी, ऑथराइजेशन और स्टोरेज मैनेजमेंट के लिए स्टैक एपीआई का उपयोग करता है। यह कोर वर्किंग सिस्टम है जो आपके लिए आइडेंटिटी और डेटा के वास्तविक स्वामित्व को सक्षम बनाती है। स्टैक ब्लॉकचैन ही बिटकॉइन को मजबूत बनाए हुए, जो गारंटीकृत एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन और गोपनीयता के साथ डेटा कलेक्शन और शेयरिंग को सक्षम बनाता है।


वह कहते हैं,

"स्टैक को एक डेवलपमेंट टूल किट के रूप में सोचें, जो आपको बिटकॉइन पर निर्माण करने में मदद करता है। आज बहुत से लोग मानते हैं कि बिटकॉइन सिर्फ एक करेंसी है। लेकिन यह वास्तव में इंटरनेट के टॉप पर एक ट्रस्ट प्रोटोकॉल है जो आपको किसी भी यूजर्स के स्वामित्व वाले इंटरनेट एप्लिकेशन बनाने की अनुमति देता है। स्टैक ब्लॉकचैन आपको बड़े पैमाने पर बिटकॉइन के टॉप पर एप्लिकेशन बनाने में मदद करता है।”


डेटा स्टोरेज के लिए, स्टार्टअप गैया (Gaia) नामक एक डिसेंट्रलाइज्ड / प्राइवेट स्टोरेज का उपयोग करता है, जो केवल यूजर्स के लिए एक्सेसिबल है। किसी और के लिए नहीं, यहां तक कि ब्लॉकसर्वे के लिए भी नहीं।


कोई इसे ऐसे समझ सकता है कि उसने अपना डाटा अपनी खुद की रिमोट हार्ड डिस्क पर स्टोर किया हुआ है, जिस तक केवल वह खुद ही पहुंच सकता है। लेकिन क्लाउड पर, यूजर्स के अकाउंट का उपयोग करके सभी डेटा को एंड-टू-एंड एन्क्रिप्ट किया जाता है।


वह आगे कहते हैं,

“केवल आप ही अपना डेटा अनलॉक कर सकते हैं और कोई नहीं, यहां तक कि ब्लॉकसर्वे को भी नहीं। आपके सभी उत्तरदाताओं का डेटा केवल आपको पता है। यह आपके कार्य को प्लेटफॉर्म प्रदाता के लिए गुमनाम बना देता है। इस तरह ब्लॉकचैन ब्लॉकसर्वे को सेंसरशिप, गोपनीयता, सुरक्षा और स्वामित्व के मुद्दों को हल करने में मदद करता है।" 

राजस्व मॉडल, चुनौतियां और आगे की राह

लगभग एक साल तक, संस्थापकों ने खामोशी के मोड में काम किया। लॉन्च के पहले छह महीनों में, प्लेटफॉर्म को मुफ्त में उपलब्ध कराया गया था। स्टार्टअप ने 100 यूजर्स हासिल किए, जो बाद में उनके सब्सक्रिप्शनमॉडल शुरू होने के बाद पेमेंट करने वाले यूजर्स बन गए। स्टार्टअप अपने टारगेट ऑडियंस तक व्यवस्थित रूप से पहुंचने के लिए न्यूजलेटर्स, एसईओ और रेडिट जैसे चैनलों का उपयोग कर रहा है।


महामारी के कारोबार में बाधा डालने और वर्क फ्रॉम होम को नई हकीकत बनने के साथ, साइबर अपराधी कमजोरियों का फायदा उठाने में व्यस्त हैं। 2020 में डेटा उल्लंघनों के सबसे ज्यादा मामले देखे गए और संख्या केवल बढ़ती हुई प्रतीत होती है।


जनवरी और फरवरी 2021 के दौरान भारत में दर्ज किए गए हमलों की कुल संख्या लगभग 15 मिलियन थी। इंफोसिस-इंटरब्रांड के एक हालिया अध्ययन के अनुसार, दुनिया के 100 सबसे मूल्यवान ब्रांडों के डेटा उल्लंघन के ब्रांड मूल्य में संभावित जोखिम 223 बिलियन डॉलर तक हो सकता है।


वह कहते हैं,

"अब तक, हमने डेटा कलेक्शन समस्या पर ध्यान केंद्रित किया है, और इसके लिए हल निकाला है। ब्लॉकचेन का इस्तेमाल कई अलग-अलग परिदृश्यों में किया जा सकता है। हमारा लक्ष्य अधिक से अधिक उपभोक्ता ऐप बनाना है, लेकिन अभी, हमारा पूरा ध्यान अधिक से अधिक बाजार हिस्सेदारी और ग्राहकों को प्राप्त करना है।”


आगे बढ़ते हुए, BlockSurvey का लक्ष्य चालू वित्त वर्ष में 200,000 डॉलर का राजस्व अर्जित करना है। स्टार्टअप ने पिछले साल लगभग 2000 डॉलर के एमआरआर के साथ 45,000 डॉलर का राजस्व अर्जित किया।


Edited by Ranjana Tripathi