स्टार्टअप्स को वैश्विक कारोबार बनाने में मदद कर रही है यह वीसी फर्म

By Thimmaya Poojary
February 03, 2022, Updated on : Mon Feb 07 2022 05:03:52 GMT+0000
स्टार्टअप्स को वैश्विक कारोबार बनाने में मदद कर रही है यह वीसी फर्म
मुंबई स्थित Cactus Venture Partners एक प्रारंभिक स्टेज का फंड है जो चुनिंदा क्षेत्रों में स्टार्टअप्स में निवेश करता है। इसका उद्देश्य इन व्यवसायों के विकास को वैश्विक स्तर पर तेज करना है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारत दुनिया में तीसरे सबसे बड़े स्टार्टअप इकोसिस्टम के रूप में उभरा है, जिसमें कई नई कंपनियां वैश्विक आज महत्वाकांक्षा के साथ आगे बढ़ रही हैं। मुंबई स्थित वेंचर कैपिटल फर्म Cactus Venture Partners (CVP) का लक्ष्य स्टार्टअप्स के साथ साझेदारी करके उन्हें इस रास्ते पर ले जाना है।


साल 2020 के अंत में अनुराग गोयल और अमित शर्मा द्वारा स्थापित Cactus Venture Partners का मानना है कि उसके पास स्टार्टअप की पेशकश करने के लिए बहुत कुछ है कि वे अपने व्यवसाय को व्यापार की बुनियादी बातों के साथ कैसे वैश्विक बना सकते हैं।


अनुराग गोयल कहते हैं, "हम उन स्टार्टअप्स में निवेश करने पर विचार करते हैं जिन्होंने प्रॉडक्ट-मार्केट-फिट या यूनिट अर्थशास्त्र पर काम किया है और जानते हैं कि वे कहां जाना चाहते हैं।"

venture capital

संस्थापकों और विशेष रूप से अनुराग के अनुभव से उनके व्यवसाय के विकास के चरण में स्टार्टअप का मार्गदर्शन करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की उम्मीद है। अनुराग ने 2002 में एक विज्ञान संचार कंपनी के रूप में Cactus Communication की सह-स्थापना की थी, जो बड़े पैमाने पर अनुसंधान के लिए काम करती है और अब यूएस, यूके, चीन, जापान, दक्षिण कोरिया और सिंगापुर जैसे कई भौगोलिक क्षेत्रों में उपस्थिति के साथ एक वैश्विक फर्म के रूप में विकसित हो गई है।

इन सेगमेंट पर है फोकस

वीसी फर्म के रूप में सीवीपी दो खंडों पर केंद्रित है- प्रत्यक्ष उपभोक्ता (D2C) और टेक्नोलॉजी। यह स्टार्टअप्स में अपने निवेश के बारे में चयनात्मक होने और उनके साथ गहराई तक जाने में विश्वास करता है।


Cactus ने 2021 में Auric, AMPM, Vitraya, और Rubix Data Science में लगभग चार निवेश किए। Auric एक आयुर्वेद पेय ब्रांड है और AMPM लाइफस्टाइल कपड़ों के क्षेत्र में है। Vitraya और Rubix हार्ड कोर टेक स्टार्टअप हैं।


अमित कहते हैं, "निवेश का निर्णय लेते समय हमें जो चीज उत्साहित करती है, वह यह है कि यूनिट अर्थशास्त्र को प्रॉफ़िट के लिए एक सही रास्ता दिखना चाहिए।"


उनका कहना है, CVP कंपनियों में टेक्नोलॉजी और D2C सेगमेंट में निवेश करने से पहले विभिन्न मानकों को देखती है।


टेक्नोलॉजी के मामले में, वीसी फर्म फिनटेक, हेल्थटेक और B2B SaaS जैसे क्षेत्रों में अवसरों की तलाश कर रही है, जबकि D2C स्पेस में यह उन उत्पादों पर ध्यान केंद्रित कर रही है जिनकी वैश्विक अपील है।


अमित कहते हैं, "हमारे पास वैश्विक स्तर पर ब्रांड बनाने का अनुभव है और हम इन स्टार्टअप्स के विकास में तेजी ला सकते हैं।"

वैश्विक जाते हुए

आज कई टेक स्टार्टअप भारतीय बाजारों से आगे जाने के इच्छुक हैं और कुछ डी2सी ब्रांडों ने घरेलू उपभोक्ताओं से परे व्यापक अपील भी पाई है।


अनुराग कहते हैं, "हम बाजार के अवसरों और इन व्यवसायों को बढ़ाने के मामले में हमारे द्वारा लाए गए कौशल को साथ मिलाते हैं।"


Cactus Venture Partners अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए चार लीवर लाता है, जिसमें टेक्नोलॉजी, ऑर्गनाइजेशनल स्ट्रक्चर, ब्रांडिंग और डिजिटल मार्केटिंग शामिल हैं।


अनुराग कहते हैं, "जिन स्टार्टअप्स में हम निवेश करते हैं, उन्हें सभी चार लीवरों की आवश्यकता नहीं हो सकती है, लेकिन परिवर्तनकारी अंतर प्रदान करने वाले एक में एक ऐसे पुश की आवश्यकता हो सकती है।"


इन सभी लीवरों को क्रम में करने का विचार है, जहां स्टार्टअप एक या दो क्षेत्रों में अच्छा हो सकता है, लेकिन जरूरी नहीं कि दूसरे में भी हो।

फंड का आकार

निवेश के संदर्भ में वीसी फर्म एक ऐसी जगह में काम करना चाहती है जो सीरीज ए और बी फंडिंग राउंड के बीच आती है, जिससे प्रत्येक स्टार्टअप में उनके जीवन चक्र में लगभग 4-8 मिलियन डॉलर का निवेश होता है।


वे कहते हैं, "ऐसे कई स्टार्टअप हैं जो 5-20 मिलियन डॉलर चेक स्पेस में हो रहे हैं और हम वहां रहना चाहते हैं।"

ि

वीसी फर्म ने मालिकाना पूंजी के साथ अपनी पहली क्लोजिंग पहले ही कर ली है और इस साल के अंत तक लगभग 100 मिलियन डॉलर का फंड जुटाने की योजना है, जो घरेलू और विदेशी दोनों के भागीदारों के लिए होगा।


अमित कहते हैं, "हमारा ध्यान उन निवेशकों पर है जो अच्छी गुणवत्ता और दृढ़ विश्वास को देखते हैं। वह कहते हैं कि वे आम तौर पर इन संगठनों में अधिक सार्थक कहने के लिए स्टार्टअप में अच्छी अल्पसंख्यक हिस्सेदारी लेते हैं।"

क्या है यूएसपी?

2021 में भारतीय स्टार्टअप्स में फंड की फ्लो को देखते हुए वीसी, प्राइवेट इक्विटी और एंजेल सिंडिकेट जैसी निवेश फर्मों में वृद्धि हुई है। सवाल उठता है कि इस भीड़ में Cactus कैसे खड़ा होता है।


अमित का दृढ़ विश्वास है कि भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम के लिए अभी बहुत शुरुआती दिन हैं औरवे चीन का उदाहरण देते हैं, जहां भारत की तुलना में 15,000 से अधिक फंड संचालित हैं, जहां हमारे पास सिर्फ 550 फंड हैं।


वे कहते हैं, "इसमें काफी मौके हैं और हम उम्मीद करते हैं कि और फंड मैनेजर आएंगे, लेकिन हम अपनी बिजनेस बिल्डिंग क्षमता के कारण अलग खड़े हैं।"


इस पर विस्तार से बताते हुए, अनुराग कहते हैं Cactus Venture Partners जिन दो प्रमुख बेंचमार्क पर ध्यान दे रहे हैं, वे हैं सर्वोत्तम सौदों तक पहुंच और यदि उद्यमी उन्हें चुनेंगे।


अनुराग कहते हैं, "खुद उद्यमी होने के नाते हम समझते हैं कि उस विकास को पूरा करने के लिए क्या करना पड़ता है और इससे हमें संस्थापकों के साथ बेहतर तरीके से जुड़ने में मदद मिलती है।"


सर्वोत्तम सौदों तक पहुंच प्राप्त करने के संदर्भ में Cactus Venture Partners का मानना है कि शुरुआती चरण में यह एक चुनौती होगी, लेकिन अन्य वीसी फर्मों, एंजेल सिंडिकेट और अन्य के साथ जुड़ाव को देखते हुए यह लंबे समय में मजबूत पहुँच की उम्मीद करता है।


संस्थापकों का दृढ़ विश्वास है कि भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम के लिए अभी भी शुरुआती दिन हैं और यह वर्ष 2021 के विपरीत अलग हो सकता है जहां लगभग पैसे की बाढ़ थी।


हालांकि, भारतीय स्टार्टअप बड़े पैमाने पर फंड हासिल करना शुरू कर रहे हैं और वैश्विक स्तर पर अपनी पहुंच बढ़ाने पर विचार कर रहे हैं और यहीं पर Cactus Venture Partners एक अहम भूमिका निभाना चाहता है।


अनुराग कहते हैं, "हम अपनी श्रेणी में शीर्ष 10 उद्यम फर्मों में से एक के रूप में पहचाने जाने चाहते हैं, जहां एलपी हमारे साथ निवेश करना चाहें और संस्थापक हमारे साथ काम करने के इच्छुक होंगे।"


Edited by रविकांत पारीक