कैसे भारत में 60 मिलियन छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाने के लिए इन IIM अहमदाबाद के पूर्व छात्रों ने लॉन्च किया क्लाउड-आधारित नियोबैंक

आशीष देसवाल और जीवन गोपीसेट्टी द्वारा 2019 में स्थापित, हैदराबाद स्थित निमो (Nemo) छोटे व्यवसायों के लिए एक आसान, सुरक्षित, क्लाउड-आधारित नियोबैंक (neobank) है जो बैंकिंग, अकाउंटिंग, क्रेडिट और संचालन को एक साथ जोड़ता है।

कैसे भारत में 60 मिलियन छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाने के लिए इन IIM अहमदाबाद के पूर्व छात्रों ने लॉन्च किया क्लाउड-आधारित नियोबैंक

Tuesday May 25, 2021,

6 min Read

भारत में छोटे व्यवसायों को कई तरह की तमाम चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जिनमें से एक है रियल टाइम में अपने बिजनेस के बारे में एकीकृत दृष्टिकोण का न होना, जिससे वित्त और संचालन का सही से प्रबंधन नहीं हो पाता है। अधिकांश छोटे व्यवसाय अपनी विकास यात्रा के सर्वाइवल फेज से उबरने के लिए संघर्ष करते हैं क्योंकि उनके पास संसाधनों तक पहुंच नहीं है और यह पता नहीं है कि बड़े उद्यमों को कैसे लाभ होता है।


Nemo एक नियोबैंक है इसके सह-संस्थापक और सीईओ जीवन गोपीशेट्टी का कहना है कि उनका संगठन इसी अंतर को पाटने के लिए बनाया गया था। वे कहते हैं, "हमारा वेब-आधारित और मोबाइल प्लेटफॉर्म एक इकोसिस्टम अप्रोच को फॉलो करता है जिसमें पेमेंट, अकाउंटिंग, बैंकिंग, उधारी (लेंडिंग), अंतर्दृष्टि (इनसाइट) और व्यावसायिक सेवाओं (संचालन) का संयोजन है।"

Nemo एक आसान और सुरक्षित क्लाउड-आधारित नियोबैंक है जो छोटे व्यवसायों के लिए बैंकिंग, अकाउंटिंग, क्रेडिट और संचालन को एक साथ जोड़ता है। Nemo आईआईएम अहमदाबाद के पूर्व छात्र आशीष देसवाल, Nemo के सीओओ और जीवन के दिमाग की उपज है।

हैदराबाद स्थित, Nemo, अपने बैंकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से, अपनी तरह का पहला व्यवसाय बनाने के मिशन पर है, जिसका उद्देश्य भारत के एमएसएमई के लिए व्यापार के वित्तीय पहलू को सरल बनाना है। इसका उद्देश्य उन्हें सही उपकरण, संसाधनों और ऐसे नेटवर्क तक पहुंच प्रदान करके सशक्त बनाना है जिन तक बड़े निगमों की पहुंच है।

ि

फाउंडर्स(L-R): जीवन गोपीशेट्टी और आशीष देसवाल

2019 में स्थापित, Nemo वर्तमान में चयनित ग्राहकों के एक छोटे समूह के साथ काम कर रहा है, और अगले 12-18 महीनों में तेजी से बढ़ने की योजना बना रहा है। इसका ऐप फिलहाल एंड्रॉइड यूजर्स के लिए उपलब्ध है और कंपनी जल्द ही आईओएस पर लॉन्च करने की योजना बना रही है।

द यूएसपी

Nemo अपने व्यवसाय को दो सिद्धांतों - सरलीकरण और एकीकरण पर बना रहा है। और इसके लिए, यह एक सेंट्रल प्लेटफॉर्म तैयार कर रहा है जो एक छोटे व्यवसाय की संपूर्ण वित्तीय यात्रा को कवर करता है जिसमें - बैंकों, भागीदारों, फिनटेक, सरकारी एजेंसियों और प्रमुख हितधारकों के साथ मिलकर काम करना शामिल है।


गोपीशेट्टी कहते हैं,

"अधिकांश फिनटेक काफी लेन-देन वाले होते हैं, और किसी एक उत्पाद / सेवा को अच्छी तरह से बनाने पर केंद्रित होते हैं। हम इस तरह की प्रथा के खिलाफ हैं, और मानते हैं कि सभी एमएसएमई व्यवसाय की जरूरतों के लिए एक मंच बनाना सही तरीका है - बैंकिंग, अकाउंटिंग, इनसाइट, प्रोडक्ट्स, क्रेडिट, व्यावसायिक सेवाएं, कम्युनिटी, और बहुत कुछ!"

द टीम

Nemo के संचालन में इंजीनियरिंग, वित्तीय विश्लेषण, ग्राहक सहायता, साझेदारी और बिक्री शामिल है। उनकी इंजीनियरिंग टीम आशीष के साथ काम करती है, जो प्रोडक्ट फंक्शन का नेतृत्व भी कर रहे हैं, और इंजीनियरिंग व ग्राहकों के बीच मेल जोल बढ़ाने के लिए भी काम करते हैं। वे वित्तीय डेटा का विश्लेषण करते हैं, और लोन या उधार देने वाले भागीदारों के लिए लोन रिक्वेस्ट को प्रोसेस करने में आसान और तेज बनाने के लिए डॉक्यूमेंट्स को छांटते करते हैं।


कंपनी के सीईओ जीवन नई पार्टनरशिप बनाने और नए ग्राहकों को लाने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, और सभी स्ट्रेटजी, बिजनेस डेवलपमेंट और सेल्स मैनेजमेंट का नेतृत्व करते हैं। स्टार्टअप में वर्तमान में फ्रीलांसरों सहित कुल नौ कर्मचारियों की टीम है।

वर्तमान में, मैनेजमेंट टीम में जीवन और आशीष शामिल हैं। दोनों क्रमशः सीईओ और सीओओ के रूप में अपनी भूमिकाओं में, मुख्य रूप से साझेदारी / ग्राहक अधिग्रहण और प्रोडक्ट डेवलपमेंट पर केंद्रित हैं।

जीवन गोपीशेट्टी सेमीकंडक्टर इंडस्ट्री में एक डीप-टेक विशेषज्ञ है; और पूरे यूरोपीय संघ और भारत में क्वालकॉम, एआरएम, एनवीआईडीआईए, एएमडी, ब्रॉडकॉम और इनफिनियन जैसे तकनीकी दिग्गजों के साथ काम किया है। वह प्रोडक्ट, कॉर्पोरेट स्ट्रेटजी, बिजनेस डेवलपमेंट और पी एंड एल (लाभ और हानि) में विशेषज्ञता रखते हैं। उन्होंने आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए और जेएनटीयू हैदराबाद से इलेक्ट्रॉनिक्स में बीटेक किया।


आशीष देसवाल को इन्वेस्टमेंट रिसर्च, कंसल्टिंग और कॉर्पोरेट फाइनेंस में 11 वर्षों से अधिक का अनुभव है। उन्होंने लॉजिस्टिक्स स्टार्टअप डेल्हीवरी, फिनटेक स्टार्टअप ट्रेफिस और डेलॉइट के साथ काम किया है। उन्होंने आईआईएम अहमदाबाद से एमबीए और आईआईटी बॉम्बे से इलेक्ट्रिकल में बीटेक किया। दोनों की मुलाकात आईआईएम अहमदाबाद में अपने कार्यकाल के दौरान हुई थी।

फंडिंग और रेवेन्यू

मई 2021 में, Mumbai Angels Network ने Nemo में एक अज्ञात राशि का निवेश किया था। मुंबई एंजल्स नेटवर्क एक अर्ली स्टेज इन्वेस्टमेंट के लिए प्लेटफॉर्म है। प्री-सीड फंड का उपयोग Nemo को अपने प्रोडक्ट डेवलपमेंट, हायरिंग और ग्राहक अधिग्रहण में तेजी लाने में मदद करने के लिए किया जाएगा।

गोपीशेट्टी ने YourStory को बताया, "हम कोर टीम में शामिल होने और बैंकिंग में क्रांति लाने में मदद करने के लिए असाधारण प्रतिभाओं की भी आक्रामक रूप से तलाश कर रहे हैं।"

उन्होंने बताया, “वर्तमान में हमारे पास कोई रेवेन्यू नहीं है। हालांकि, स्थिर स्थिति में, हम 30 प्रतिशत ऑपरेटिंग मार्जिन के साथ प्रति यूजर औसत वार्षिक राजस्व 3,000 रुपये के करीब होने की उम्मीद करते हैं।"


Nemo के रेवेन्यू को निम्नानुसार विभाजित किया जा सकता है - ए) ऋण की उत्पत्ति, क्रेडिट वॉच, और क्रेडिट अंडरराइटिंग में सहायता पर ब्याज दर (1-2 प्रतिशत), बी) प्लेटफॉर्म के माध्यम से मांग पर दी जाने वाली विशेषज्ञ और आवश्यकता-आधारित व्यावसायिक सेवाओं पर कमीशन (5-10 प्रतिशत), और सी) नियोबैंक सुइट (neobank suite) के लिए सास सब्सक्रिप्शन।

उतार चढ़ाव

गोपीशेट्टी के अनुसार, टारगेट ऑडियंस (छोटे व्यवसायों) के बीच जागरूकता और विश्वास की कमी आज की सबसे बड़ी चुनौतियां हैं, जिनका सामना आज नियोबैंक कर रहे हैं।

वह कहते हैं, "ग्राहकों को एक नियोबैंकिंग प्रोडक्ट का उपयोग करने के लाभों के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है, जो एक बड़ा काम है। और अपनी वित्तीय जानकारी के साथ किसी थर्ड पार्टी पर भरोसा करना भी प्रवेश के लिए एक बाधा प्रतीत होता है, जो समय के साथ बेहतर होगा।

परंपरागत रूप से, एमएसएमई को समझना और उनके साथ जुड़ना कठिन माना जाता है, लेकिन बशर्ते वे सही दिशा पर ध्यान केंद्रित करें, यह अभी भी Nemo जैसे नए खिलाड़ियों को छोटे व्यवसायों को सफल और विकसित करने के लिए अपने जुनून का लाभ उठाने का भरपूर अवसर देता है। यह देखते हुए पर्याप्त है कि पूरे भारत में 60 मिलियन से अधिक छोटे व्यवसाय हैं।

आगे का रास्ता

गोपीशेट्टी के अनुसार, भारत में नियोबैंकिंग अपने प्रारंभिक चरण में है।


एलाइड मार्केट रिसर्च की एक रिपोर्ट से पता चला है कि चैलेंजर और नियोबैंक इंडस्ट्री, जिसका मूल्य 2019 में 20.4 बिलियन डॉलर था, के 2027 तक बढ़कर 471.0 बिलियन डॉलर तक पहुंचने का अनुमान है, जो 2020 से 2027 तक 48.1 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ रहा है।

वे कहते हैं, “हम चालू वित्त वर्ष में 10,000 ग्राहकों तक बढ़ने का लक्ष्य बना रहे हैं; और फिर अगले तीन वित्तीय वर्षों में 500,000 ग्राहकों तक विस्तार करेंगे।”

Nemo सीधे तौर पर अच्छी तरह से वित्त पोषित कंपनियों जैसे BankOPEN, RazorpayX, Chqbook, TIDE, Revolut आदि के साथ प्रतिस्पर्धा करता है। परोक्ष रूप से, यह टैली, जोहो और वकीलसर्च जैसे खिलाड़ियों से प्रतिस्पर्धा देख रहा है।


Edited by Ranjana Tripathi