[स्टार्टअप भारत] कैसे इलाहाबाद के इन IAS एस्पीरेंट्स ने UPSC कैंडिडेट्स के लिए लॉन्च किया एग्जाम रोड मैप प्लेटफॉर्म

By Rashi Varshney & रविकांत पारीक
May 11, 2021, Updated on : Wed May 12 2021 03:36:44 GMT+0000
[स्टार्टअप भारत] कैसे इलाहाबाद के इन IAS एस्पीरेंट्स ने UPSC कैंडिडेट्स के लिए लॉन्च किया एग्जाम रोड मैप प्लेटफॉर्म
Examarly एक सब्सक्रिप्शन-बेस्ड प्लेटफ़ॉर्म है जो छात्रों के लिए पर्सनलाइज्ड प्लान बनाता है, और सिस्टेमेटिक सेल्फ-स्टडी में मदद करता है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इलाहाबाद स्थित गियरट्रॉन टेक्नोलॉजीज (Geartron Technologies), जो कि टेस्ट प्रिपरेशन प्लेटफॉर्म Examarly की पेरेंट कंपनी है, के को-फाउंडर, 26 वर्षीय निशांत शुक्ला कहते हैं, "इनफॉर्मेशन, कंटेंट, कोर्स मेटैरियल - ये सब बहुत है, लेकिन छात्रों को वास्तव में तैयारी करने के लिए ज्ञान की आवश्यकता है।"


Examarly एक सेल्फ-स्टडी प्लेटफॉर्म है जो हायर एजुकेशन और परीक्षा की तैयारी के लिए आउटकम-बेस्ड लर्निंग पर केंद्रित है।

निशांत ने महामारी के ठीक बीच में फाउंडर्स सुशांत शुक्ला, इशान मालवीय और थ्रिभुवन एचएल के साथ कंपनी की शुरुआत की। सिविल सेवा के इच्छुक होने के नाते, भाइयों निशांत और सुशांत ने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी के पीछे के मुद्दों को समझा।

Examarly के जरिए, दस इंटर्न के साथ चार फाउंडर्स, पर्सनलाइज्ड प्लान बनाकर परीक्षा की पूरी यात्रा के माध्यम से यूपीएससी के उम्मीदवारों को संभालते हैं जो उन्हें उपलब्ध विशाल सामग्री को नेविगेट करने में मदद करते हैं। यह छात्रों का 50 प्रतिशत या अधिक तैयारी के समय की बचत करता है। 24 वर्षीय सुशांत शुक्ला कहते हैं, "हम यूपीएससी की तैयारी के लिए प्लेटफॉर्म को 'गूगल मैप' बनाना चाहते हैं, जहां प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले अभ्यर्थी सेल्फ स्टडी के लिए रीयल-टाइम नेविगेशन पा सकते हैं।"


Examarly एक सब्सक्रिप्शन-बेस्ड प्लेटफ़ॉर्म है जो 500 रुपये मासिक शुल्क लेता है, और छात्रों की आवश्यकताओं के अनुसार पर्सनलाइज्ड सब्सक्रिप्शन प्लान बनाता है। निशांत कहते हैं, “उम्मीदवारों के लिए समय की बचत हमारा मुख्य लक्ष्य है। वर्तमान में, प्रतियोगी परीक्षा देने वाले सभी उम्मीदवारों की योजना और रणनीति बनाने में हर साल इतना समय बर्बाद होता है जिनमें ज्यादातर काम नहीं करते हैं।”


जबकि भाईयों और उनके दोस्त ईशान इलाहाबाद के हैं, सीटीओ त्रिभुवन कर्नाटक के हासन से बाहर काम करते हैं। इलाहाबाद को बेस के रूप में चुनने के बारे में, 25 वर्षीय ईशान का कहना है कि टियर III शहर से बाहर काम करने से बड़े पैमाने पर नकदी की बचत होती है। निवेश प्रोडक्ट, टेक्नोलॉजी, हायरिंग और यूजर एक्वीजिशन के लिए विवेकपूर्ण रूप से प्रसारित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि बेंगलुरु या दिल्ली एनसीआर की तुलना में इनफ्रास्ट्रक्चर और अच्छे टैलेंट तक पहुंच की कमी के संबंध में चुनौतियां हैं।

कैसे हुई शुरूआत

2019 में, जब निशांत इलाहाबाद में घर पर थे, यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में अपने तीसरे प्रयास की तैयारी कर रहे थे, तो उन्होंने अपने भाई सुशांत के साथ मिलकर अपने पिछले असफल प्रयासों का विश्लेषण किया। सुशांत, जो अपनी परीक्षाओं की तैयारी भी कर रहे थे, अपने अनुभव से सीखने के लिए उत्सुक थे।


IIT-BHU के स्नातक निशांत ने JEE परीक्षा के माध्यम से प्रवेश लिया था, लेकिन सभी आवश्यक सामग्री होने के बावजूद यूपीएससी की परीक्षा में असफल रहे। सुशांत ने स्टॉक और क्रिप्टो में करियर बनाने के लिए कॉलेज छोड़ दिया, लेकिन बाद में यूपीएससी परीक्षाओं के लिए पात्र होने के लिए डिस्टेंट लर्निंग यूनिवर्सिटी इग्नू (IGNOU) के माध्यम से स्नातक की पढ़ाई पूरी की।


उन दिनों के बारे में याद करते हुए, निशांत कहते हैं कि उस पहली चर्चा के बाद, भाई अपनी तैयारी में रही कमियां खोजने के लिए विभिन्न यूपीएससी टॉपर वीडियो, इंटरव्यू, ब्लॉग और अन्य फर्स्ट-पर्सन अकाउंट्स देखने लग गए। कई दिनों के विश्लेषण के बाद, दोनों ने एक पैटर्न देखा, जो यह था कि कमजोर क्षेत्रों की पहचान करना मुश्किल था क्योंकि कोर्स बहुत बड़ा है। निशांत कहते हैं, “यह वास्तव में कई उम्मीदवारों द्वारा सामना की गई एक आम समस्या थी। वे बिना किसी सुराग के अपनी तैयारी शुरू करते हैं कि कैसे कोर्स की योजना बनाई जाए और अपनी प्रोग्रेस को ट्रैक किया जाए, और यह बहुत समय बर्बाद करता है क्योंकि इसे कोर्स में विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है, और हर दिन 30-40 मिनट का प्रयास होता है।”

निशांत बताते हैं, "तब सुशांत सात से आठ ब्रॉड सब्जेक्ट्स के बजाय 100-200 माइक्रो टॉपिक्स के सिलेबस को देखने के आइडिया के साथ आया था और इन सभी माइक्रो टॉपिक्स को एक एक्सल शीट में मैप करना और प्रोग्रेस को ट्रैक करना था।"
f

हालाँकि इससे निशांत को बहुत कुछ समझ में आया, उनके पास न तो समय था और न ही प्रभावी ढंग से ऐसा करने का अनुभव, इसलिए भाइयों ने विचार छोड़ दिया। जब 2019 में निशांत तीसरे प्रयास में असफल हुए, तो उन्होंने कुछ पेशेवर मदद लेने का फैसला किया, इसलिए वे दिल्ली चले गए और एक कोचिंग सेंटर के साथ इसकी टेक टीम में काम करना शुरू कर दिया।


कोचिंग सेंटर के लिए काम करते हुए निशांत को टेक्नोलॉजी, प्रोडक्ट्स और आंत्रप्रेन्योरशिप के बारे में सोचना पड़ा। वह अपने भाई के साथ चर्चा करने के लिए वापस चले गये, और कोर्स को छोटे टुकड़ों में अलग करने के विचार पर काम करने का फैसला किया ताकि एक व्यक्ति सेल्फ-स्टडी कर सके। सुशांत, जो परीक्षा की तैयारी के मुद्दों का सामना कर रहे थे, तुरंत सहमत हो गए। उन्होंने प्लेटफॉर्म का कॉन्सेप्ट तैयार किया, और अपने टेकी फ्रैंड्स इशान से मिले, जिन्होंने क्रमशः दिल्ली और बेंगलुरु में अपनी नौकरी छोड़ दी, ताकि इलाहाबाद स्थित Examarly को शुरू किया जा सके। प्लेटफॉर्म 2020 के अंत में लाइव हो गया।

मार्केट और कंपीटिशन

परीक्षा की तैयारी की जगह, वर्तमान में काफी हद तक ऑफ़लाइन है, तेजी से ऑनलाइन बढ़ रही है। मार्केट रिसर्च फर्म Technavio का कहना है कि 2018 और 2022 की समयावधि के बीच भारत में टेस्ट प्रिपरेशन मार्केट की साइज 7.14 बिलियन डॉलर बढ़ने का अनुमान है। HRD मंत्रालय के अनुसार, भारत में कॉलेजों में 50 मिलियन छात्र हैं, और जूनियर और प्राइमरी एजुकेशन में लगभग 240 मिलियन हैं। इन छात्रों में से कुछ - आने वाले समय में - प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करेंगे। एडटेक कंपनियाँ जैसे Examarly, Unacademy, ixamBee, Prepscholar, Pariksha, BYJU’S, आदि इन लक्षित दर्शकों पर नज़र गड़ाए हुए हैं।


कंपीटिशन के बारे में, 28 के Examarly के को-फाउंडर और सीटीओ, त्रिभुवन का कहना है कि ज्यादातर एडटेक स्टार्टअप्स एक्सेसिबिलिटी की समस्या को हल करते हैं, जो कि केवल पहला चरण है। वह कहते हैं, “हम बहुत सारे प्लेटफ़ॉर्म देखते हैं जो हमारी तरह काम करने की कोशिश कर रहे हैं। अधिक स्थापित स्टार्टअप्स में, Embibe कुछ हद तक हमारी तरह ही है।”

ग्रोथ, फंडिंग और फ्यूचर

केवल सात महीने हो गए हैं, लेकिन कंपनी ने पहले ही 50 से अधिक पेड यूजर्स को ओनबोर्ड कर दिया है। उन्होंने अपने पहले ग्राहकों को कैसे आकर्षित किया? निशांत कहते हैं कि उन्होंने शुरू में टेलीग्राम जैसे प्लेटफॉर्म पर यूपीएससी के इच्छुक समूहों को Examarly सॉल्यूशन प्रदान करके कॉन्सेप्ट का प्रमाण दिया। इस साल फरवरी तक, पेशकश ने Examarly रूप ले लिया।

निशांत का दावा है, "सबसे अच्छी बात यह है कि हमारी योजनाओं का पालन करने वाले सभी छात्र यूपीएससी के लिए स्टैंडर्ड बुक्स को दो से तीन बार तेजी से पूरा करने में सक्षम थे क्योंकि वे एक समय में एक अध्याय पर ध्यान केंद्रित करते थे, बजाय 600-700 पेज की किताब के।

फाउंडर्स ने कंपनी को बूटस्ट्रैप करने के लिए अपनी बचत से अब तक 20 लाख रुपये सीड मनी के रूप में लगाए हैं। कंपनी अपनी पेशकश को बढ़ाने और बाजार में अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए एक ऐंजल राउंड जुटाने की तैयारी कर रही है। कंपनी के पास आंत्रप्रेन्योर कुश अग्रवाल, और d.light India के एमडी, कमल लाठ जैसे मेंटर भी हैं।


इशान बताते हैं, “हमारा ध्यान अभी हमारी टेक्नोलॉजी को बढ़ाने और हमारे प्रोडक्ट को और अधिक मजबूत बनाने पर है ताकि हम ऐसी योजनाओं को डिजाइन कर सकें जो अधिक व्यक्तिगत और अधिक विशिष्ट हैं। यह लक्ष्य 50 प्रतिशत से अधिक आकांक्षी समय को बचाने के लिए होगा, जिसमें योजना, पढ़ने और रिविजन में खर्च किया जाएगा। हम वित्तीय वर्ष 22 के अंत तक 5000-10,000 पेड यूजर्स को टारगेट कर रहे हैं।“


अब तक सुशांत और निशांत ने अपने आईएएस के सपनों को ताक पर रख दिया है। निशांत ने बताया कि आईएएस के लिए दोनों की जोड़ी ने हमेशा भारत को बेहतर बनाने की आकांक्षा की, लेकिन अब वे केवल खुश हैं कि उनके पास समान लक्ष्य के साथ लोगों को समाधान प्रदान करने का एक तरीका है।

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close