India MSME Summit 2022: स्टॉक मार्केट में लिस्टिंग की सोच रहे एमएसएमई किन चीजों का रखें ध्यान

By Bhavya Kaushal
June 27, 2022, Updated on : Mon Jun 27 2022 12:32:56 GMT+0000
India MSME Summit 2022: स्टॉक मार्केट में लिस्टिंग की सोच रहे एमएसएमई किन चीजों का रखें ध्यान
YourStory और SMBStory के India MSME Summit 2022 के दौरान, सूचीबद्ध होने वाले छोटे और मध्यम व्यवसायों से संबंधित कुछ सामान्य प्रश्नों पर भी चर्चा हुई.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

BSE और NSE द्वारा भारत के SME की लिस्टिंग के लिए समर्पित प्लेटफॉर्म स्थापित करे हुए लगभग एक दशक हो चुका है. इन 10 सालों के बाद IPO (आरंभिक सार्वजनिक पेशकश) के माध्यम से एसएमई सूचीबद्ध होने की संख्या में वृद्धि हुई है. यह शेयर बाजार को लेकर एसएमई की एक विस्तृत श्रृंखला के बीच लगातार बढ़ती दिलचस्पी को दर्शाता है, जो किसी को भी आश्चर्यचकित करती है.


YourStory और SMBStory के India MSME Summit 2022 के दौरान, सूचीबद्ध होने वाले छोटे और मध्यम व्यवसायों से संबंधित कुछ सामान्य प्रश्नों पर भी चर्चा हुई. Priti International के संस्थापक और मुख्य वित्तीय अधिकारी रितेश लोहिया और Servotech Power Systems के संस्थापक और प्रबंध निदेशक रमन भाटिया ने पैनल डिस्कशन में इस मुद्दे पर रोशनी डाली कि छोटे व्यवसायों को आईपीओ लाने के लिए क्या जरूरी है और उन्हें किन चीजों पर गौर करना चाहिए?

चर्चा के प्रमुख अंश:

एक योजना बनाएं: रमन के अनुसार, केवल वे छोटे व्यवसाय जिनके पास एक अच्छी योजना और विजन है, वे ही शेयर बाजार में सफल हो पाएंगे. एक संस्थापक द्वारा अपनी कंपनी को सूचीबद्ध कराने का कारण बहुत स्पष्ट होना चाहिए.


विजिबिलिटी: रितेश के अनुसार, शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने से कंपनी और उसके उत्पादों के लिए विजिबिलिटी आती है. उन्होंने अपना उदाहरण देते हुए कहा कि उनकी कंपनी सूचीबद्ध होने से पहले केवल अंतरराष्ट्रीय बाजार में मौजूद थी. लेकिन नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के एसएमई इमर्ज प्लेटफॉर्म पर लिस्ट होने के बाद इसे घरेलू बाजार से भी ऑर्डर मिलने लगे.


एक नई शुरुआत: रमन ने कहा कि स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होना एक नई शुरुआत है न कि कोई मंजिल. यह विभिन्न अवसरों, ब्रांड निर्माण, व्यवसाय को बढ़ाने, वेल्थ को अनलॉक करने, और बहुत सी चीजों लिए दरवाजे खोलेगा.


पारदर्शिता: रमन ने कहा कि किसी भी कंपनी के लिए सूचीबद्ध होने के प्रमुख पहलुओं में से एक इसके फाइनेंशियल्स और बहीखातों का सही होना है. यदि आपके फंडामेंटल पहले दिन से स्पष्ट हैं और आप उन्हें अपने शेयरधारकों या भागीदारों के साथ साझा करने के लिए तैयार हैं, तो आपको आईपीओ पर विचार करते समय किसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा.


SME प्लेटफॉर्म पर विचार क्यों करें? इस सवाले के जवाब में रितेश ने कहा कि एसएमई एक्सचेंज प्लेटफॉर्म किसी भी एमएसएमई के लिए प्राथमिक विद्यालय की तरह हैं. उनका कहना है कि एसएमई प्लेटफॉर्म पर सूचीबद्ध होना किसी भी कंपनी को मेन बोर्ड पर मौजूद चुनौतियों और अवसरों के लिए तैयार करता है.

India MSME Summit का चौथा एडिशन

MSME के सामने आ रही चुनौतियों, उनके लिए मौजूद और आगामी पॉलिसीज, क्रेडिट फैसिलिटी, टेक्नोलॉजी सॉल्युशंस, एक्सपोर्ट आदि को लेकर YourStory और SMBStory, India MSME Summit का चौथा एडिशन आयोजित किया. यह वर्चुअल समिट 21 जून से शुरू होकर 27 जून 2022 तक चला. विभिन्न स्टेकहोल्डर्स, रेगुलेटर्स, पॉलिसीमेकर्स, टेक्नोलॉजी सॉल्युशंस प्रोवाइडर्स, SMB एंटरप्रेन्योर्स ने इस समिट में हिस्सा लिया.


Edited by Ritika Singh