आधार की मदद से ट्रांजेक्शन पर यह बैंक लगाने जा रहा है चार्ज

By Ritika Singh
June 09, 2022, Updated on : Fri Jun 10 2022 05:12:19 GMT+0000
आधार की मदद से ट्रांजेक्शन पर यह बैंक लगाने जा रहा है चार्ज
कई बैंक अपने ग्राहकों को AePS की सुविधा देते हैं. यह सुविधा आधार ऑथेंटिकेशन के माध्यम से PoS मशीन पर ऑनलाइन इंटरऑपरेबल फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन की इजाजत देता है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (India Post Payments Bank) के ग्राहक हैं तो ध्यान दें. बैंक ने आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AePS) इश्यूअर ट्रांजेक्शन चार्जेस लागू करने का फैसला किया है. ये चार्जेस 15 जून 2022 से प्रभावी हो जाएंगे. इस बारे में इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) ने नोटिस जारी कर दिया है. बैंक नोटिस के मुताबिक, 15 जून से AePS इश्यूअर ट्रांजेक्शन चार्जेस इस तरह होंगे...


  • मंथली पहले 3 क्यूमुलेटिव AePS इश्यूअर ट्रांजेक्शंस (कैश विदड्रॉअल/कैश डिपॉजिट/मिनी स्टेटमेंट): फ्री
  • AePS इश्यूअर कैश विदड्रॉअल/कैश डिपॉजिट (फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट के ऊपर): 20 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन प्लस GST
  • मिनी स्टेटमेंट ट्रांजेक्शन (फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट के ऊपर): 5 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन प्लस GST

क्या होता है AePS

कई बैंक अपने ग्राहकों को AePS की सुविधा देते हैं. यह सुविधा आधार ऑथेंटिकेशन के माध्यम से पीओएस मशीन पर ऑनलाइन इंटरऑपरेबल फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन की इजाजत देता है. कोई ग्राहक अपने आधार नंबर और बायोमेट्रिक्स के जरिए अपने बैंक खाते से पैसे निकाल भी सकता है.साथ ही मिनी स्टेटमेंट फंड ट्रांसफर जैसी सर्विस भी एक्सेस कर सकता है. इसमें डेबिट कार्ड की जरूरत नहीं होती. लेकिन AePS का इस्तेमाल करने के लिए जरूरी है कि आपका बैंक खाता आधार से लिंक हो. 

बचत खाते पर घट चुका है ब्याज

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक ने 1 जून 2022 से बचत खाते (Savings Account) पर ब्याज घटा दिया है. अब बैंक के सेविंग्स अकाउंट में 1 लाख रुपये तक के बैलेंस के लिए 2 फीसदी सालाना की ब्याज दर की पेशकश की जा रही है. पहले यह दर 2.25 फीसदी सालाना थी. 1 लाख रुपये से अधिक और 2 लाख रुपये तक के बैलेंस के लिए ब्याज दर घटाकर 2.25 फीसदी सालाना कर दी गई है. इससे पहले यह दर 2.50 फीसदी सालाना थी. ब्याज का भुगतान ग्राहकों को तिमाही आधार (Quarterly Basis) पर किया जाता है.