कैश डिपॉजिट और विदड्रॉअल: यह बैंक 1 दिसंबर से लागू करने जा रहा नया नियम

By Ritika Singh
November 06, 2022, Updated on : Sun Nov 06 2022 01:01:32 GMT+0000
कैश डिपॉजिट और विदड्रॉअल: यह बैंक 1 दिसंबर से लागू करने जा रहा नया नियम
IPPB ने इस बारे में सर्कुलर जारी कर दिया है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (IPPB) के ग्राहक हैं तो अलर्ट हो जाएं. IPPB ने आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम (AePS) के माध्यम से होने वाले ट्रांजेक्शन के मामले में 1 दिसंबर 2022 से नॉन-IPPB नेटवर्क पर फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट और उसके बाद लागू होने वाले चार्जेस को जारी कर दिया है. बता दें कि ये चार्जेस नकद जमा, निकासी और मिनी स्टेटमेंट पर तब लगते हैं, जब नॉन-IPPB नेटवर्क पर IPPB ग्राहक के लिए AePS इश्युइंग ट्रांजेक्शन की महीने में तय फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट खत्म हो जाती है.


IPPB (India Post Payments Bank) का कहना है कि आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के जरिए AEPS ट्रांजेक्शन के मामले में इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के नेटवर्क पर कितने भी ट्रांजेक्शन फ्री में किए जा सकते हैं, कोई चार्ज नहीं लगेगा. वहीं नॉन-IPPB नेटवर्क पर IPPB ग्राहक के लिए अब AePS कैश डिपॉजिट, विदड्रॉअल और मिनी स्टेटमेंट समेत प्रतिमाह केवल 1 ट्रांजेक्शन फ्री होगा. इसके बाद चार्ज लगेगा. पहले यह संख्या 3 थी.

ये रहेंगे चार्जेस

IPPB की वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के मुताबिक, 1 दिसंबर 2022 से किसी अन्य बैंक नेटवर्क पर IPPB ग्राहक के लिए AePS इश्युइंग ट्रांजेक्शन की महीने में तय फ्री ट्रांजेक्शन लिमिट खत्म होने के बाद AePS कैश डिपॉजिट और AePS कैश विदड्रॉअल के मामले में चार्ज 20 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन+GST होगा. वहीं AePS मिनी स्टेटमेंट के मामले में चार्ज, 5 रुपये प्रति ट्रांजेक्शन+GST होगा. IPPB ने इस बारे में सर्कुलर जारी कर दिया है.

क्या है आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम

कई बैंक अपने ग्राहकों को AePS (Aadhaar enabled Payment System) की सुविधा देते हैं. यह नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) द्वारा विकसित एक सिस्टम है. AePS, बैंक के नेतृत्व वाला एक मॉडल है जो आधार ऑथेंटिकेशन का उपयोग करके किसी भी बैंक के बिजनेस कॉरेस्पोंडेंट के माध्यम से PoS (माइक्रोएटीएम) पर ऑनलाइन इंटरऑपरेबल फाइनेंशियल इन्क्लूजन ट्रांजेक्शन की अनुमति देता है. इसके तहत कोई ग्राहक अपने आधार नंबर और बायोमेट्रिक्स यानी फिंगरप्रिंट/आइरिस स्कैन के माध्यम से अपने बैंक खाते से/में वित्तीय ट्रांजेक्शन कर सकता है. इस प्रक्रिया में पैसा निकालने के लिए डेबिट कार्ड की जरूरत नहीं होती, न ही बैंक अकाउंट डिटेल्स देनी पड़ती हैं. ट्रांजेक्शन के लिए जो चीजें चाहिए, वे हैं- बैंक का नाम, आधार नंबर और आधार कार्ड बनाए जाने यानी इनरोलमेंट के दौरान लिए गए फिंगरप्रिंट. लेकिन AePS का इस्तेमाल करने के लिए जरूरी है कि आपका बैंक खाता आधार से लिंक हो.

AePS के माध्यम से उपलब्ध सर्विसेज

  • कैश डिपॉजिट
  • कैश विद्ड्रॉअल
  • बैलेंस इंक्वायरी
  • मिनी स्टेटमेंट
  • आधार टू आधार फंड ट्रांसफर
  • ऑथेंटिकेशन
  • भीम आधार पे
  • eKYC
  • बेस्ट फिंगर डिटेक्शन
  • डेमो ऑथेंटिकेशन
  • टोकनाइजेशन
  • आधार सीडिंग स्टेटस