सेना में तीन साल की ट्रेनिंग करने वाले युवाओं को मिल सकती है महिंद्रा में नौकरी

By yourstory हिन्दी
May 18, 2020, Updated on : Mon May 18 2020 12:31:30 GMT+0000
सेना में तीन साल की ट्रेनिंग करने वाले युवाओं को मिल सकती है महिंद्रा में नौकरी
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

सेना के इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले युवाओं को महिंद्रा अपने पास काम का मौका दे सकती है।

आनंद महिंद्रा

आनंद महिंद्रा




हाल ही में भारतीय सेना ने एक नया प्रपोज़ल पेश किया है, जिसके तहत अब सिविलियन भी सीमित समय के लिए आर्मी में बतौर जवान भर्ती हो सकेंगे। सेना ने इस प्रोग्राम का नाम ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ रखा है। आर्मी की इस पहल का देश के दिग्गज उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने स्वागत किया है।


‘टूर ऑफ ड्यूटी’ के तहत देश के युवाओं को सेना में तीन साल के लिए ऑफिसर व अन्य पदों पर भर्ती किया जाएगा। आनंद महिंद्रा ने संकेत दिये हैं कि सेना के इस प्रोग्राम में हिस्सा लेने वाले युवाओं को महिंद्रा अपने पास काम का मौका दे सकती है।


उन्होने कहा, “मुझे निश्चित रूप से लगता है कि सैन्य प्रशिक्षण ‘टूर ऑफ ड्यूटी’ स्नातकों के लिए एक अतिरिक्त लाभ होगा। भारतीय सेना में चयन और प्रशिक्षण के कठोर मानकों को देखते हुए महिंद्रा समूह उनकी उम्मीदवारी पर विचार करके खुश होगी।”


इसके साथ ही सेना अर्धसैनिक बालों से भी जवानों को रिक्रूट करने की योजना बना रही है। इसके लिए सेवा की अवधि 7 साल रखी जा सकती है, जबकि इसके बाद जवान अपने पुराने संस्थान में चले जाएंगे। सेना के इस कदम का हर तरफ स्वागत हो रहा है।


शुरुआती टेस्ट के लिए अभी 100 अधिकारियों और 1 हज़ार युवाओं को शामिल करने का सुझाव दिया गया है। गौरतलब है कि सेना में फिलहाल सबसे छोटा कार्यकाल शॉर्ट सर्विस कमीशन के तहत है, जिसकी अवधि 10 साल है।