वित्त वर्ष 2024 में भारत की GDP ग्रोथ रेट मध्यम होकर 6.3% रह सकती है: वर्ल्ड बैंक

वर्ल्ड बैंक ने कहा कि स्ट्रांग डोमेस्टिक डिमांड, हायर इनकम ग्रुप्स और हायर पब्लिक इन्वेस्टमेंट के मजबूत कंज्यूमर स्पेंडिंग ग्रोथ के मुख्य सपोर्टर थे. हालांकि, स्लो इनकम ग्रोथ के कारण लो-इनकम ग्रुप्स की कंज्यूमर स्पेंडिंग कम रही थी.

वित्त वर्ष 2024 में भारत की GDP ग्रोथ रेट मध्यम होकर 6.3% रह सकती है: वर्ल्ड बैंक

Tuesday April 04, 2023,

3 min Read

विश्व बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि धीमी आय के चलते खपत में कमी के कारण वित्त वर्ष 2024 में भारत की जीडीपी वृद्धि 6.3 प्रतिशत रहने की उम्मीद है. (India GDP growth expected to moderate to 6.3 per cent in FY24)

विश्लेषकों और अर्थशास्त्रियों के अनुसार, भारत के सेवा निर्यात में वृद्धि, जो अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गई थी, से अर्थव्यवस्था को बाहरी जोखिमों से बचाने की उम्मीद है क्योंकि धीमी वैश्विक अर्थव्यवस्था देश के माल निर्यात पर भार डाल सकती है.

विश्लेषकों और अर्थशास्त्रियों ने रॉयटर्स को बताया कि सेवा निर्यात अब अकेले आईटी सेवाओं द्वारा संचालित नहीं किया जा रहा है बल्कि परामर्श और अनुसंधान और विकास जैसे अधिक आकर्षक पेशकशों द्वारा भी संचालित किया जा रहा है.

अक्टूबर-दिसंबर 2022 में भारत का सेवा निर्यात 24.5% बढ़ गया, जो तिमाही के दौरान रिकॉर्ड 83.4 बिलियन डॉलर था, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा शुक्रवार को जारी किए गए आंकड़ों से ये बात सामने आई है.

सेवाओं का अधिशेष, जो श्रेणी में किसी भी आयात में कटौती करता है, भी 39.21% बढ़कर रिकॉर्ड 38.7 बिलियन डॉलर हो गया.

यह, माल व्यापार घाटे में गिरावट के साथ मिलकर, चालू खाता घाटा अपेक्षा से अधिक $18.2 बिलियन, या GDP का 2.2% तक कम हो गया.

रॉयटर्स ने सर्विसेज एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के अध्यक्ष सुनील तलाती के हवाले से कहा, "हमें उम्मीद है कि मार्च 2024 तक सेवाओं का निर्यात बढ़कर 375 अरब डॉलर से अधिक हो जाएगा, जबकि मार्च 2023 को समाप्त वर्ष के लिए यह 320-350 अरब डॉलर था."

उन्होंने कहा कि मार्च 2025 तक सेवाओं का निर्यात वस्तुओं के निर्यात को पार कर जाएगा.

भारतीय रिजर्व बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर-दिसंबर में व्यापारिक निर्यात $105.6 बिलियन था.

इस बीच, फरवरी के अंत में केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा पूरे साल के लक्ष्य का 82.8 प्रतिशत तक पहुंच गया.

पूरे वर्ष 2022-23 के लिए, सरकार को घाटा 17.55 लाख करोड़ या GDP का 6.4 प्रतिशत रहने की उम्मीद है.

वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि इन्फ्लेशन बढ़ गई है, लेकिन ओवरऑल प्रेशर कम हो रहा है, क्योंकि फूड और फ्यूल की कीमतें कम हो रही हैं. हालांकि, इन्फ्लेशन लेवल भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की 2-6% की टारगेट रेंज से ऊपर बना हुआ है. महंगाई को कम करने के लिए मई 2022 से RBI की MPC ने रेपो रेट में 250 बेसिस प्वाइंट्स की बढ़ोतरी की है.

वर्ल्ड बैंक ने कहा कि स्ट्रांग डोमेस्टिक डिमांड, हायर इनकम ग्रुप्स और हायर पब्लिक इन्वेस्टमेंट के मजबूत कंज्यूमर स्पेंडिंग ग्रोथ के मुख्य सपोर्टर थे. हालांकि, स्लो इनकम ग्रोथ के कारण लो-इनकम ग्रुप्स की कंज्यूमर स्पेंडिंग कम रही थी.

यह भी पढ़ें
डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन बीते वित्त वर्ष में 18% की बढ़ोतरी के साथ 16.61 लाख करोड़ रुपये रहा