रूस के साथ भारत का तेल आयात 3.5 गुना बढ़ा, 69 फीसदी आयात रिलायंस और नायरा ने किया

By Vishal Jaiswal
June 22, 2022, Updated on : Wed Jun 22 2022 10:39:48 GMT+0000
रूस के साथ भारत का तेल आयात 3.5 गुना बढ़ा, 69 फीसदी आयात रिलायंस और नायरा ने किया
वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल में रूस से भारत के कच्चे तेल का आयात 1.3 बिलियन डॉलर (1 खरब रुपये) था, जो रूस से भारत के कुल इनबाउंड शिपमेंट का 57 प्रतिशत है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

यूक्रेन के साथ युद्ध को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय के प्रतिबंधों को सामना कर रहे रूस से कच्चा तेल खरीदने में बढ़ोतरी के बीच बीते एक साल की तुलना में इस साल अप्रैल में 3.5 गुना अधिक आय़ात हुआ है जिसकी कुल कीमत 2.3 अरब डॉलर (1.8 खरब रुपये) है.


वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल में रूस से भारत के कच्चे तेल का आयात 1.3 बिलियन डॉलर (1 खरब रुपये) था, जो रूस से भारत के कुल इनबाउंड शिपमेंट का 57 प्रतिशत है.


रूस से आयात होने वाले तेल का 69 फीसदी हिस्सा रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) और नायरा इंडस्ट्रीज आयात कर रहे हैं.

अप्रैल महीने में आयात की गई अन्य सामग्रियों में कोयला, सोयाबीन और सूरजमुखी का तेल, खाद और नॉन-इंडस्ट्रीयल हीरा शामिल हैं.


अप्रैल में इराक, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात रूस भारत को कच्चे पेट्रोलियम का चौथा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता था. वहीं, कुल आपूर्ति के मामले में रूस छठा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता रहा. पिछले साल अप्रैल महीने में ही रूस भारत को तेल का 7वां सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता था औक कुल आपूर्ति के मामले में यह 21वें पायदान पर था.


अप्रैल में रूस भारत का 9वां सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार (निर्यात और आयात दोनों) था, और व्यापार का आकार 2.42 बिलियन डॉलर (1.9 खरब रुपये) था.


बीते 24 फरवरी को यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद से रूस से भारत में कच्चे तेल का आयात बढ़ रहा है। इस हमले के बाद अमेरिका और उसके सहयोगियों द्वारा रूस पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए गए, जिससे देश को वैश्विक व्यापार से अलग करने का प्रयास किया गया और इसके परिणामस्वरूप आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है.

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें