मिलें आर्म-रेसलिंग चैंपियन चेतना शर्मा से, अंतरराष्ट्रीय खिताबों पर हैं इनकी नजरें

By Poorvi Gupta
April 28, 2022, Updated on : Fri Apr 29 2022 08:02:02 GMT+0000
मिलें आर्म-रेसलिंग चैंपियन चेतना शर्मा से, अंतरराष्ट्रीय खिताबों पर हैं इनकी नजरें
हर कोई आर्म-रेसलिंग को करियर के रूप में नहीं लेता है, लेकिन चेतना शर्मा ने इसमें ही अपना करियर बनाया है। नेशनल चैंपियन ने योरस्टोरी से अपने खेल के शुरुआत के दिनों, अपने काम के साथ संतुलन बनाने और अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए जाने में असमर्थ होने के बारे में खुलकर बात की।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

एथलीटों के परिवार में पली- बढ़ीं चेतना शर्मा के लिए एथलेटिक्स में रुचि विकसित करना स्वाभाविक था। गुवाहाटी, असम की 31 वर्षीय आर्म-रेसलर, अपने स्कूल में आठ बार की सर्वश्रेष्ठ एथलीट थीं। उन्होंने आर्म-रेसलिंग में जाने से पहले अपनी उम्र के 20वें पड़ाव तक लंबी छलांग, ऊंची कूद, और दौड़ने में खुद को आजमाया। आर्म-रेसलिंग में जाने के पीछे उनके तत्कालीन करीबी दोस्त और अब पति नयनज्योति बोरा थे। जो बचपन से ही आर्म-रेसलिंग में हैं।


वे कहती हैं, "मुझे नहीं लगता था कि यह एक आयोजित किया जाने वाला खेल था। उन्होंने मुझसे कहा कि मैं इसमें भाग लूं लेकिन मैंने हंस दिया। एक दिन उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर कहा कि मेरे पास ताकत है इसलिए मुझे कम से कम एक बार अवश्य भाग लेना चाहिए। उन्होंने मुझे प्रशिक्षण देना शुरू किया और 2011 में, मैंने अपनी पहली आर्म-कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लिया।”


एक दशक से भी अधिक समय के बाद, वह प्रो पांजा लीग की 65 किलोग्राम से कम महिला वर्ग में एक चैंपियन के रूप में उभरी हैं, जब उन्हें IIT मुंबई में 'आवाहन' खेल उत्सव में चार पुरुषों और एक महिला छात्रों द्वारा आर्म-कुश्ती मुकाबलों में चुनौती दी गई थी।


छह बार की राष्ट्रीय चैंपियन चेतना को चुनौती देने और 10,000 रुपये का नकद पुरस्कार जीतने का मौका पाने के लिए 100 से अधिक कॉलेज के छात्रों को एक अद्वितीय आर्म-कुश्ती प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था।


लेकिन वह जमी रहीं और उन्होंने अपने सभी विरोधियों को पछाड़ दिया। 

चेतना शर्मा ने IIT मुंबई में Pro Panja League में जीत हासिल की

चेतना शर्मा ने IIT मुंबई में Pro Panja League में जीत हासिल की

शुरुआत

चेतना के पास शुरुआत लक नहीं था। सितंबर 2013 में असम राज्य चैंपियनशिप यानी अपनी पहली जीत हासिल करने के लिए उन्हें कुछ वर्षों तक संघर्ष करना पड़ा।


चेतना बताती हैं, “मैं 2011 से 2013 तक हारती रही। मैं बार-बार चोटिल हो रही थी और सोचती थी कि क्या मुझे रुक जाना चाहिए लेकिन मेरे पति मुझे पु करते रहे। जब मैंने अपनी पहली राज्य स्तरीय चैंपियनशिप जीती, तो मुझे लगा कि मुझे जारी रखना चाहिए। मैं बहुत छोटी थी और मेरा वजन लगभग 50 किलो था। मैंने अपनी पहली चैंपियनशिप जीतने से पहले ढाई साल तक प्रशिक्षण लिया।”


उन्होंने कहा कि जिस साल उन्होंने अपनी पहली चैंपियनशिप जीती थी, उसी साल वह राष्ट्रीय चैंपियन भी बनी थीं। हालांकि, राष्ट्रीय चैंपियन बनने के बाद, चेतना ने अपनी मास्टर डिग्री पर ध्यान केंद्रित करने के लिए 2014 और 2016 के बीच तीन साल के लिए कुश्ती को रोक दिया।

आर्म-रेसलिंग के लिए ट्रेनिंग के दौरान चेतना शर्मा

आर्म-रेसलिंग के लिए ट्रेनिंग के दौरान चेतना शर्मा

इसका कारण यह था कि वह नहीं मानती थीं कि खेल एक करियर हो सकता है और उन्होंने शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया।


चेतना ने पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी से बीसीए और असम इंजीनियरिंग कॉलेज से एमसीए की पढ़ाई की है। अपनी मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद, उन्हें 2016 में असम पुलिस द्वारा भर्ती किया गया था। तब से वह असम पुलिस के स्पेशल ब्रांच मुख्यालय के साथ एक वरिष्ठ सॉफ्टवेयर सलाहकार के रूप में काम कर रही हैं।


वे कहती हैं, "मैंने 2015 में अपने मास्टर की पढ़ाई पूरी की, लेकिन मैं 2016 तक खेल में नहीं लौटी क्योंकि मैं आर्म-रेसलिंग में लौटने से पहले नौकरी पाना चाहती थी। मार्च 2016 में, मुझे मेरी नौकरी मिल गई और अक्टूबर में मुंबई में शेरू क्लासिक चैंपियनशिप थी जिसमें पहली बार आर्म-रेसलिंग को शामिल किया गया था। मैं जीत गई और तभी मुझे लगा कि मैं अब राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए तैयार हूं।”


तब से, वह अपनी फुल टाइम नौकरी के साथ खेल को संतुलित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है।


वे कहती हैं, "ऑफिस में, मैं कोडिंग कर रही हूं, इसलिए यह ज्यादातर दिमाग का काम होता है, लेकिन जब मैं घर वापस आती हूं, तो मैं प्रशिक्षण लेती हूं और यह अधिक शरीर का काम होता है। एक निरंतर फोकस शिफ्ट है जिसे मुझे बनाने की आवश्यकता है और यह कभी-कभी मुश्किल होता है।”


चेतना को "उपहास" का सामना करना पड़ा, जब उन्होंने अपने परिवार के अत्यधिक समर्थन के बावजूद आर्म-रेसलिंग शुरू की।


चेतना कहती हैं, "एक दशक पहले लड़कियों के लिए कुश्ती में शामिल होना आम बात नहीं थी, और लोग तरह-तरह की हास्यास्पद बातें भी कहते थे। लेकिन मैंने चीजों को सकारात्मक रूप से लिया और फंसने के बजाय प्रेरणा प्राप्त की।”


पिछले कुछ वर्षों में, खेल तेजी से बढ़ा है, चेतना कहती हैं, सोशल मीडिया ने महिलाओं के खेल के बारे में चर्चा करने में काफी मदद की है। 

वे कहती हैं, “पहले, अगर महिलाएं खेलने के लिए बाहर जाती थीं या अगर वे चैंपियनशिप जीतती थीं, तो अखबार में एक छोटा कॉलम होता था। लेकिन आज, सोशल मीडिया के माध्यम से दुनिया भर के लोगों तक वास्तव में पहुंच बनाई जा सकती है। इससे महिलाओं के खेल का ध्यान आकर्षित करने में मदद मिली है।"


उन्होंने कहा कि प्रो पंगा लीग जैसी समर्पित संस्था भी महिलाओं के बीच खेल को गति देने में मदद करती है।

बिना प्रायोजक के राष्ट्रीय चैंपियन बनना

चेतना 2017 और 2018 में राष्ट्रीय चैंपियन (दाएं हाथ) थीं। 2019 में, उन्होंने छत्तीसगढ़ में राष्ट्रीय चैम्पियनशिप और चैंपियन ऑफ चैंपियंस मिस इंडिया आर्म कुश्ती जीती। 2020 में, चेतना ने दिल्ली के त्यागराज स्टेडियम में प्रो पांजा लीग में स्वर्ण पदक जीता। वह गोवा में हुई पीपीएल 2021 में सुपर मैच विजेता थीं। कई बार राष्ट्रीय चैंपियन बनने के बावजूद, चेतना एक शौकिया खिलाड़ी बनी हुई हैं, लेकिन वह पेशेवर बनने और अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में खेलने का सपना देखती हैं।

चेतना ने छत्तीसगढ़ में नेशनल चैंपियनशिप और चैंपियन ऑफ चैंपियंस मिस इंडिया आर्म रेसलिंग जीती।

चेतना ने छत्तीसगढ़ में नेशनल चैंपियनशिप और चैंपियन ऑफ चैंपियंस मिस इंडिया आर्म रेसलिंग जीती।

उन्हें 2017 से अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप के लिए निमंत्रण मिल रहे हैं लेकिन सरकार की ओर से प्रायोजन और वित्तीय सहायता की कमी ने उन्हें स्वीकार करने से रोक दिया है। 


वह कहती हैं कि मेघालय और मणिपुर जैसे पड़ोसी राज्यों में कुश्ती को बहुत समर्थन मिलता है, लेकिन असम में ऐसा नहीं है। 


वे कहती हैं, “मुझे हाल ही में उज्बेकिस्तान में एक चैंपियनशिप के लिए आमंत्रित किया गया था, लेकिन मैं इंडियन आर्म रेसलिंग फेडरेशन या किसी और के प्रायोजन के बिना नहीं जा सकती थी। मुझे अपना पैसा खुद लगाना होगा, जो मैं इस समय नहीं कर सकती। मेरा सपना है कि मैं अपने जीवन में एक बार एशियन आर्म-रेसलिंग चैंपियनशिप में भाग लूं, लेकिन मैं इसे अपनी सुविधानुसार करूंगी, जब मैं इसके लिए खुद से पे कर सकूंगी।”


Edited by Ranjana Tripathi