वीरता पदक से सम्मानित ऐश्वर्या बोद्दापति ने साझा किया भारतीय नौसेना में एक महिला अधिकारी होने का अनुभव

By Poorvi Gupta
February 02, 2022, Updated on : Thu Feb 03 2022 04:45:17 GMT+0000
वीरता पदक से सम्मानित ऐश्वर्या बोद्दापति ने साझा किया भारतीय नौसेना में एक महिला अधिकारी होने का अनुभव
भारतीय नौसेना की पूर्व लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या बोद्दापति ऐतिहासिक नविका सागर परिक्रमा मिशन का हिस्सा रही हैं और हाल ही में उन्होने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली है। योरस्टोरी के साथ इस विशेष इंटरव्यू में उन्होने अपनी इस यात्रा, स्थायी कमीशन के लिए आवेदन करने से लेकर और भी कई अन्य पहलुओं पर बात की है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

भारतीय नौसेना की पूर्व लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या बोद्दापति ने सशस्त्र बलों में शामिल होने के एक दशक के भीतर एक डेकोरेटेड नौसेना अधिकारी का दर्जा हासिल किया था। वे साल 2018 में Gallantry Nao Sena Medal प्राप्त करने वाली पहली महिला नौसेना अधिकारियों में से एक हैं।


उन्हें भारतीय नौसेना पोत तारिणी के नाविका सागर परिक्रमा मिशन की महिला दल का हिस्सा होने के लिए नारी शक्ति पुरस्कार और तेनजिंग नोर्गे पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है। इस दल ने 254 दिनों में दुनिया का चक्कर लगाया था।

सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी कैप्टन दिलीप डोंडे के साथ INSV Tarini में सभी महिला नौसेना अधिकारी टीम; फोटो साभार: भारतीय नौसेना

सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी कैप्टन दिलीप डोंडे के साथ INSV Tarini में सभी महिला नौसेना अधिकारी टीम; फोटो साभार: भारतीय नौसेना

हैदराबाद की रहने वाली ऐश्वर्या साल 2011 में भारतीय नौसेना में शामिल हुईं थीं और नौसेना निर्माण, युद्धपोतों के रखरखाव और एनएसपी पहल की योजना सहित कई विभागों में काम किया।


जून 2021 में उन्होंने दो बार स्थायी कमीशन के लिए आवेदन करने के बाद स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति का विकल्प चुना। उन्हें बताया गया था कि वे मेरिट के आधार पर स्थायी कमीशन नहीं पा सकती हैं।

नौसेना में शामिल होना

हमेशा से वायुसेना में पायलट बनने की चाहत रखने वाली ऐश्वर्या ने हैदराबाद के महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से मेटलर्जिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है।


हालाँकि अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने महसूस किया कि महिला मेटलर्जिकल इंजीनियरों के लिए बहुत सारी नौकरियां उपलब्ध नहीं थीं क्योंकि उनमें से लगभग सभी में फील्डवर्क शामिल था।


फिर उन्हें अखबार में एक विज्ञापन मिला जिसमें भारतीय नौसेना पुरुष और महिला उम्मीदवारों की तलाश कर रही थी। उन्होंने आवेदन किया और परीक्षण पास किया और साल 2011 में भारतीय नौसेना में शामिल हो गई।


जबकि स्थायी कमीशन अभी भी महिला अधिकारियों के लिए एक चुनौती है, लेकिन सशस्त्र बलों में प्रवेश करना निश्चित रूप से आसान हो गया है। ऐश्वर्या कहती हैं कि उनके बैच में महिलाओं की संख्या सबसे अधिक थी, जहां कुल 256 अधिकारियों में से 70 महिला अधिकारी थीं।

यात्रा का अनुभव

साल 2016 में, ऐश्वर्या को नाविका सागर परिक्रमा मिशन का हिस्सा बनने के लिए चुना गया था।


नौसैनिक अधिकारियों ने सितंबर 2017 से मई 2018 तक आठ महीनों में 21,600 समुद्री मील की दूरी को पूरा करते हुए पांच देशों को छुआ, जिसमें उन्होंने दो बार भूमध्य रेखा को पार किया और साथ ही चार महाद्वीपों और तीन महासागरों को पार किया।


वे बताती हैं, “लोगों ने सोचा था कि हम एक सामान्य यात्रा पर थे, लेकिन किसी ने भी ध्यान नहीं दिया कि हम कितनी कठिनाइयों से गुज़रे हैं। हम पर कई चीजों का दबाव था। हम नाव पलटने को लेकर इतने चिंतित थे क्योंकि इसमें देश की जनता के करीब पांच से छह करोड़ रुपये खर्च हुए थे। हम असफल नहीं होना चाहते थे क्योंकि कोई भी असफलता की कहानी नहीं सुनना चाहता।"


खुद को साबित करने और मिशन को सफल बनाने का दबाव बहुत अधिक था। इस पर विचार करते हुए, ऐश्वर्या कहती हैं कि वह यात्रा का उतना आनंद नहीं ले सकती थीं, जितना वह चाहती थीं।


मज़ाकिया लहजे में वे बताती हैं कि इस यात्रा ने चाय पर उनका रुख बदल दिया। वे आगे कहती हैं, "मैं एक कॉफी पीने वाली व्यक्ति हूं, लेकिन अभियान के दौरान, हमने इसके बारे में इतना संघर्ष किया कि अब अगर मैं ठंडी जगह पर हूं, तो मुझे केवल चाय ही चाहिए, इसलिए मैं पायल (लेफ्टिनेंट पायल गुप्ता) से चाय मसाला मांगती।"

नाविका सागर परिक्रमा मिशन के दौरान समारोह में, ऐश्वर्या बोद्दापति (बाएं से तीसरे नंबर पर) अपने दल के साथ; फोटो साभार: टीम तारिणी का ब्लॉग

नाविका सागर परिक्रमा मिशन के दौरान समारोह में, ऐश्वर्या बोद्दापति (बाएं से तीसरे नंबर पर) अपने दल के साथ; फोटो साभार: टीम तारिणी का ब्लॉग

जबकि अन्य चालक दल के सदस्य लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी [आईएनएसवी तारिणी की पहली कप्तान], प्रतिभा जामवाल, पी स्वाति और लेफ्टिनेंट एस विजया देवी और पायल गुप्ता पहले से ही नौकायन से परिचित थे, यह ऐश्वर्या की पहली यात्रा थी।

लैंगिक भेदभाव

जहां ऐश्वर्या ने बड़ी ऊंचाईयां हासिल कीं और एक नौसेना अधिकारी के रूप में कई बाधाओं को तोड़ा, वहीं लैंगिक भेदभाव ने उनके करियर को प्रभावित करना जारी रखा।


वह याद करती हैं कि कैसे दुनिया की परिक्रमा करना भी नौसेना में "कई पुरुष अधिकारियों के लिए बहादुरी का प्रदर्शन" नहीं था।


वे कहती हैं, "मैंने ऐसे बयान सुने जैसे साहसिक गतिविधि के लिए वीरता पदक कौन देता है, और ये लड़कियां इसके लायक नहीं हैं।"


वे आगे कहती हैं, “जब हम एनएसपी मिशन पर गए तो राष्ट्र हम छह लोगों को जानता है, महिला अधिकारियों ने अपने रैंक तक पहुंचने के लिए संघर्ष किया है। सभी अधिकारी देश की सेवा के लिए प्रतिबद्ध हैं लेकिन महिला अधिकारियों के लिए उनकी प्रतिबद्धता लिंग के आधार पर आंकी जाती है। मैंने देखा है कि महिलाओं को उनके बच्चे होने पर उनकी प्रतिबद्धता के आधार पर आंका जाता है। जब पिता नौसेना में होते हैं तो उन्हें इस तरह के जजमेंट नहीं सुनने पड़ते हैं।"


ऐश्वर्या ने जोर देते हुए कहती हैं, "समान अवसर हमारा अधिकार है और हम इसके लायक हैं।"

लेफ्टिनेंट कमांडर नाविका सागर परिक्रमा मिशन के सफल समापन के बाद नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में लेफ्टिनेंट प्रतिभा जाम्बवाल और लेफ्टिनेंट पायल गुप्ता (एल से आर) के साथ ऐश्वर्या।

लेफ्टिनेंट कमांडर नाविका सागर परिक्रमा मिशन के सफल समापन के बाद नई दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में लेफ्टिनेंट प्रतिभा जाम्बवाल और लेफ्टिनेंट पायल गुप्ता (एल से आर) के साथ ऐश्वर्या।

नौसेना में रहने का संघर्ष

ऐश्वर्या ने कभी नहीं सोचा था कि उनकी उपलब्धियों और महिलाओं को स्थायी कमीशन दिए जाने का मौका देने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले उन्हें जल्दी रिटायर होना पड़ेगा।


यह साल 2019 में था कि जब उन्होंने पहले आठ साल की सेवा पूरी करने के बाद स्थायी कमीशन के लिए आवेदन किया और फिर 2020 में इसके लिए उन्होंने दोबारा आवेदन किया था।


वे बताती हैं, "नौसेना में सात साल के बाद कोई भी अधिकतम दो बार स्थायी कमीशन दिए जाने के लिए इच्छा जता सकता है। लेकिन दोनों बार, मेरा आवेदन इस आधार पर खारिज कर दिया गया कि मैं योग्यता के आधार पर कम रही हूँ।”


वे आगे कहती हैं, “योग्यता क्या है और कहां कमी हो रही है, इसका कोई स्पष्ट संकेत नहीं है। हमारे बैच में, केवल दो लोगों के पास वीरता पदक है और उनमें से केवल मैं ही स्थायी कमीशन के लिए तैयार थी।”


वे बताती हैं, "मुझे एहसास हुआ कि अगर मैं लड़ाई करती हूं तो यह मेरे खिलाफ जाएगा। मुझे लगा कि मैं इससे बड़ी हूं और मैंने फैसला किया कि 10 साल की शॉर्ट सर्विस पूरी करने के बाद मैं पद छोड़ दूँगी। मुझे पता था कि मैं अपने दम पर कुछ करने में सक्षम हूं।"


खारिज होने के बाद ऐश्वर्या ने नौसेना प्रमुख को एक पत्र लिखा जिसमें उन्होंने नौसेना में अपने करियर में जो कुछ भी हासिल किया था, उसका उल्लेख किया। वे कहती हैं, "मुझे अभी भी वही प्रतिक्रिया मिली है कि मैं योग्यता के आधार पर कम थी।"


10 साल की सेवा पूरी करने के बाद, ऐश्वर्या ने साल 2021 में भारतीय नौसेना छोड़ दी। इसके बाद वे वेल्स फारगो में सहायक उपाध्यक्ष और नियंत्रण अधिकारी के रूप में शामिल हो गईं।

एडमिरल सुनील लांबा ने लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या को नौसेना पदक वीरता से सम्मानित किया; फोटो साभार: लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या बोद्दापति

एडमिरल सुनील लांबा ने लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या को नौसेना पदक वीरता से सम्मानित किया; फोटो साभार: लेफ्टिनेंट कमांडर ऐश्वर्या बोद्दापति

सितंबर 2021 में शीर्ष अदालत के फैसले के बाद, केंद्र ने महिलाओं को सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) में प्रवेश की अनुमति दी, जिससे स्थायी कमीशन का मार्ग साफ हुआ। इस फैसले से ऐश्वर्या काफी खुश हैं।वे कहती हैं, "कुछ बलिदान अधिक अच्छे के लिए किए जाने थे और अगर वह मैं और मेरे जैसे अन्य लोग हैं तो मैं इससे खुश हूँ।"


हालाँकि वे आगे कहती हैं, “भले ही सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया हो और महिलाओं को स्थायी कमीशन दिए जाने का अधिकार दिया हो, फिर भी उन्हें लिंग के आधार पर आंका जाता रहेगा और सशस्त्र बलों में हर महिला अपनी व्यक्तिगत लड़ाई लड़ रही है, जो अभी भी होगी।"


ऐश्वर्या ने सेवानिवृत्ति लेने से पहले प्रतिक्रिया दी और कहा कि उनके मामले में स्थायी कमीशन देने की प्रक्रिया पारदर्शी नहीं थी और यह उनके जूनियर्स के लिए बदलनी चाहिए।


योरस्टोरी ने भारतीय नौसेना से संपर्क किया और अपनी महिला अधिकारियों से स्थायी कमीशन पर प्रतिक्रिया मांगी, लेकिन इस स्टोरी को प्रकाशित करने तक हमें कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।

क्या उपलब्ध है पर्याप्त प्रतिनिधित्व?

संयोग से, रक्षा मंत्री श्रीपद नाइक के अनुसार अन्य दो सेवाओं की तुलना में 6.5 प्रतिशत पर भारतीय नौसेना में महिलाओं का सबसे बड़ा प्रतिशत है। भारतीय सेना और भारतीय वायु सेना में महिलाओं का प्रतिशत क्रमश: 0.56 और 1.08 है।


ऐश्वर्या इस बात पर जोर देती हैं कि जब तक महिलाओं को सभी भूमिकाओं में अनुमति नहीं दी जाती है, विशेष रूप से सैनिक स्तर पर उन्हें कम प्रतिनिधित्व दिया जाता रहेगा। वह कहती हैं कि सशस्त्र बलों में उपलब्ध करियर के अवसरों को बेहतर ढंग से प्रचारित करने की जरूरत है।


वे कहती हैं, "यह कुछ स्कूलों में शुरू हो गया है लेकिन बच्चों के लिए अभी भी महिलाओं को नौसेना अधिकारी या लड़ाकू पायलट के रूप में कल्पना करना मुश्किल है। अब जब मैं सेवानिवृत्त हो गई हूं, तो मैं स्कूलों और कॉलेजों में बोलने का काम करने की कोशिश करती हूं ताकि मैं अपनी कहानी साझा कर सकूं और बच्चों को बता सकूं कि वे भी सशस्त्र बलों में शामिल हो सकते हैं।”


उनके अनुसार, देश में सभी को सशस्त्र बलों में सेवा करनी चाहिए।


वे कहती हैं, “अपने देश की सेवा करने के अवसर से बड़ा कुछ नहीं है। मुझे इतने बड़े मंच पर अपने देश का प्रतिनिधित्व करने पर गर्व है। यात्रा पूरी करके हम यह साबित कर सकते हैं कि महिलाएं भी ऐसा कर सकती हैं।"


Edited by Ranjana Tripathi