किसान के बेटे ने IES परीक्षा में हासिल की दूसरी रैंक

तनवीर के पिता एक किसान हैं और उनके परिवार को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा है। वह कोलकाता में रिक्शा भी चलाते थे। हालांकि, उनका मानना था कि अपने दृढ़ निश्चय, कड़ी मेहनत और फोकस से व्यक्ति अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर सकता है।

किसान के बेटे ने IES परीक्षा में हासिल की दूसरी रैंक

Wednesday August 04, 2021,

2 min Read

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा हाल ही में 31 जुलाई, 2021 को भारतीय आर्थिक सेवा परीक्षा 2020 (Indian Economic Service Examination - IES 2020) के परिणाम जारी किए गए। इस परीक्षा में एक किसान के बेटे ने दूसरा स्थान हासिल किया है।


तनवीर अहमद खान, जो जम्मू-कश्मीर के कुलग्राम जिले के रहने वाले हैं, ने IES 2020 परीक्षा में दूसरी रैंक हासिल की।

f

अपने माता-पिता के साथ तनवीर अहमद खान (फोटो साभार: TheIndianExpress)

FirstPost की एक रिपोर्ट के मुताबिक,

"एम.फिल की पढ़ाई कर रहे तनवीर ने कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षा की तैयारी शुरू की और अपने पहले ही प्रयास में इसे पास कर लिया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, खान के पिता जो एक किसान हैं, वे सर्दियों में कोलकाता जाते थे और रिक्शा चलाते थे।"


खान ने कहा कि उन्होंने कड़ी मेहनत की और अपने पहले प्रयास को आखिरी माना। उन्होंने कहा कि जम्मू और कश्मीर के युवा हर क्षेत्र में बेहद शानदार प्रदर्शन कर सकते हैं और यह सुझाव दे सकते हैं कि उन्हें पारंपरिक करियर की तुलना में वैकल्पिक करियर की तलाश करनी चाहिए।


बकौल The Indian Express, अधिकारियों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के सुदूर निगीनपोरा कुंड गांव (यहां से करीब 80 किलोमीटर दूर) के रहने वाले तनवीर अहमद खान ने प्राथमिक स्कूली शिक्षा कुंड के सरकारी प्राथमिक स्कूल और बाद में सरकारी हाई स्कूल वाल्तेंगू से की।


उन्होंने कहा कि खान ने गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल, रजलू कुंड से 12वीं पास की और 2016 में गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज अनंतनाग से बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की।


खान बचपन से ही अकादमिक रूप से मेधावी रहे हैं। संस्थान की प्रवेश परीक्षा में तीसरी रैंक हासिल करने के बाद उन्होंने कश्मीर विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में दाखिला लिया।


उन्होंने स्नातकोत्तर कार्यक्रम के अपने अंतिम वर्ष के दौरान जूनियर रिसर्च फेलोशिप (JRF) हासिल करके एक और उपलब्धि हासिल की। JRF फेलो होने के नाते, उन्होंने विकास अध्ययन संस्थान, कोलकाता में विकास अध्ययन में मास्टर्स इन फिलॉसफी (एमफिल) में प्रवेश लिया, जो उन्हें इस साल अप्रैल में प्रदान किया गया था।


तनवीर अहमद खान ने शिक्षा में सुधार लाने के लिए सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि सरकार को एक पूर्ण संकाय लाने, अनुसंधान केंद्र स्थापित करने पर ध्यान देना चाहिए और कम चुने गए विषयों को प्राथमिकता देनी चाहिए।


वहीं, जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने खान को IES 2020 परीक्षा पास करने पर बधाई दी।


Edited by Ranjana Tripathi